Logo
King Makers Nitish Kumar-Chandrababu Naidu: हर किसी की जुबान पर सबसे बड़ा सवाल, चाहे वह काल्पनिक ही क्यों न हो यह है कि क्या नीतीश कुमार और चंद्रबाबू नायडू एनडीए सरकार को सत्ता से बेदखल करने के लिए भारत गठबंधन को जरूरी संख्याबल दिलाने में सहायक हो सकते हैं? इसका जवाब क्या होगा, यह अभी समय के गर्भ में है।

King Makers Nitish Kumar-Chandrababu Naidu: लोकसभा चुनाव की तस्वीर कमोबेश साफ हो चुकी है। भाजपा की अगुवाई वाले गठबंधन NDA बहुमत पार है। लेकिन कांग्रेस की अगुवाई वाले गठबंधन INDIA ने भी कमाल कर दिया है। ऐसी स्थिति में बिहार के सीएम नीतीश कुमार और आंध्र प्रदेश के पूर्व सीएम चंद्रबाबू नायडू को किंगमेकर की भूमिका में माना जा रहा है। राजनीतिक हलकों में चर्चा है कि नीतीश की जनता दल यूनाइटेड (JDU) और चंद्रबाबू नायडू की तेलुगु देशम पार्टी (TDP) नई सरकार के गठन में महत्वपूर्ण भूमिका निभा सकती हैं।

नीतीश ने अपने वरिष्ठ सहयोगी भाजपा को मात दे दी है। अंतिम रिपोर्ट आने तक उनकी जेडी(यू) 14 सीटों पर आगे चल रही थी, जो भाजपा से एक अधिक थी। अब उन्हें किंग-मेकर कहें या भविष्य का राजा, 4 जून के इतिहास में जाने से पहले ही राजनीतिक पत्ते खुल जाएंगे। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और गृह मंत्री अमित शाह ने पहले ही नायडू से बात की है। नेताओं के बीच बात ऐसे समय हुई, जब चर्चा है कि नीतीश कुमार फिर से पलट सकते हैं।

नीतीश, नायडू किसका समर्थन करेंगे?
हर किसी की जुबान पर सबसे बड़ा सवाल, चाहे वह काल्पनिक ही क्यों न हो यह है कि क्या ये दोनों दिग्गज एनडीए सरकार को सत्ता से बेदखल करने के लिए भारत गठबंधन को जरूरी संख्याबल दिलाने में सहायक हो सकते हैं? इसका जवाब क्या होगा, यह अभी समय के गर्भ में है।

फिलहाल, ये दोनों क्षेत्रीय नेता एनडीए का अभिन्न अंग हैं। लेकिन भारत गठबंधन के मजबूत होने के साथ हर गुजरते घंटे के साथ गठबंधन की संभावनाएं और भी बढ़ रही हैं। टीवी स्टूडियो और राजनीतिक दलों में बंद दरवाजों के पीछे खुलेआम चर्चा हो रही है।

नीतीश का राजनीतिक पाला बदलने का ट्रैक रिकॉर्ड गजब है। चुनाव से पहले यह बात फैली हुई थी कि उनका स्वास्थ्य खराब हो रहा है। वे अक्सर प्रमुख राजनीतिक रैलियों में नहीं दिखते थे। यहां तक कि जब प्रधानमंत्री मोदी पटना और बिहार के अन्य शहरों में भाषण दे रहे होते थे तो भी नीतीश नजर नहीं आ रहे थे। ऐसे में सवाल है कि क्या चुनावी जीत की यह बड़ी लहर नीतीश कुमार को भविष्य की दिशा तय करने का आत्मविश्वास देगी? न केवल बिहार में अपनी पार्टी के लिए बल्कि जेडीयू को राष्ट्रीय स्तर पर महत्वपूर्ण भूमिका निभाने का अवसर मिलेगा? अभी ऐसा लगता तो जरूर है।

कहना मुश्किल है कि नीतीश किस तरफ झुकेंगे?
पार्टी के नेताओं का कहना है कि बिहार के दिग्गज नेता नीतीश कुमार इस बार पाला नहीं बदलेंगे। जेडीयू के नीरज कुमार कहते हैं कि हम एनडीए के साथ बने रहेंगे, नीतीश कुमार गठबंधन का मतलब समझते हैं, विपक्ष ने नीतीश को कम आंका है।

बिहार के एक अन्य वरिष्ठ राजनीतिक पर्यवेक्षक ने नाम न बताने की शर्त पर कहा कि दूर दिल्ली में बैठकर कोई भी नीतीश कुमार जैसे नेता की राजनीतिक ताकत का अंदाजा नहीं लगा सकता। वे जमीन से जुड़े हुए हैं और उनके समर्थक, जिनमें से अधिकांश सबसे गरीब और वंचित हैं, चट्टान की तरह उनके पीछे खड़े हैं।

पीटीआई ने सूत्रों के हवाले से बताया कि नीतीश को अब कांग्रेस और भाजपा द्वारा लुभाया जा रहा है, जिसमें से भाजपा ने उन्हें एनडीए का संयोजक बनाने की पेशकश की है। बिहार के नौ बार मुख्यमंत्री रह चुके नीतीश अब भारतीय राजनीति को एक और मोड़ दे सकते हैं।

सीईओ सीएम कहे जाते थे चंद्रबाबू नायडू
आंध्र प्रदेश में चंद्रबाबू नायडू को कभी सीईओ-सीएम के रूप में जाना जाता था। उन्हें 2000 के दशक की शुरुआत में सार्वजनिक शासन के क्षेत्र में आईटी और डिजिटल तकनीकों को लाने वाले पहले मुख्यमंत्री होने पर गर्व है। अब बाबू की राजनीतिक चपलता की परीक्षा होगी, क्योंकि टीडीपी 16 सीटों पर आगे है। भाजपा 3 पर और कांग्रेस अभी भी आगे नहीं बढ़ पाई है, मतगणना चल रही है।

फिलहाल, यह देखना बाकी है कि क्या वह खुद को, अपने परिवार और टीडीपी को नई दिल्ली में केंद्र-मंच पर ला पाएंगे। टीडीपी नेता वर्ला रामैया ने एएनआई से कहा कि टीडीपी, बीजेपी और जन सेना पार्टी का गठबंधन चुनावों में भारी जीत हासिल करने जा रहा है। हम विधानसभा में 161 से अधिक सीटें हासिल कर सकते हैं और सभी 25 लोकसभा सीटें जीत सकते हैं। जनता को गठबंधन पर बहुत भरोसा है। आंध्र प्रदेश के मतदाताओं ने जगन मोहन रेड्डी के शासन से छुटकारा पाने का फैसला किया है। जनता ने उनके शासन को पूरी तरह से खारिज कर दिया है।
 

jindal steel hbm ad
5379487