Logo
election banner
मनी लॉन्ड्रिंग मामले में गिरफ्तार जेट एयरवेज के संस्थापक नरेश गोयल को शनिवार को मुंबई के विशेष PMLA कोर्ट में पेश किया गया। कोर्ट में गोयल ने हाथ जोड़ कर राेते हुए जज से कहा कि मैंने जीने की उम्मीद छोड़ दी है। ऐसी जिंदगी से बेहतर है मैं जेल में ही मर जाऊं।

Naresh goyal in court: मनी लॉन्ड्रिंग मामले में गिरफ्तार जेट एयरवेज इंडिया लिमिटेड (JIL) के संस्थापक नरेश गोयल को शनिवार को मुंबई की स्पेशल पीएमएल कोर्ट में पेश किया गया। कोर्ट में जज के सामने आते ही 74 वर्षीय गोयल रोने लगे। उन्होंने आंसू भरी आंखों से देखते हुए जज से कहा कि मैं जीने की उम्मीद छोड़ चुका हूं। ऐसी स्थिति में जिंदा रहने से बेहतर होगा कि जेल में ही मर जाऊं। इस पर कोर्ट ने ढ़ांढस बंधाते हुए कहा कि आपके असहाय नहीं छोड़ा जाएगा। उचित इलाज मुहैया कराया जाएगा। मानसिक और शारीरिक स्वास्थ्य का हर संभव ख्याल रखा जाएगा।

मेरी पत्नी बिस्तर पर पड़ी है: गोयल
गोयल कोर्ट में आते ही जज के सामने हाथ जोड़कर झुक गए। गोयल ने कोर्ट से कहा कि मेरी तबीयत बहुत खराब है। पता नहीं कब क्या हो जाए। Jet airways के  फांउडर ने कोर्ट से बताया कि उनकी पत्नी बिस्तर पर पड़ी है। वह उसे याद करते रहते हैं। उनकी बात सुनने के बाद स्पेशल PMLA कोर्ट के स्पेशल जज एमजी देशपांडे ने मदद का भरोसा दिलाया। कोर्ट ने गोयल के वकीलों से कहा कि वह अपने मुवक्किल की बीमारी को देखते हुए उचित कदम उठाए। 

कोर्ट में कांप रहा था गोयल का पूरा शरीर
शनिवार को गोयल ने खुद ही अनुरोध किया कि उन्हें जज के सामने पेश किया जाए। कोर्ट ने गौर किया कि इससे पहले कभी गोयल ने कोर्ट में फिजिकली पेश होने के लिए नहीं कहा था। जब वह कोर्ट के सामने आए तो उनका पूरा शरीर कांप रहा था। गोयल को खड़े होने तक के लिए सहारे की जरूरत पड़ रही थी। गोयल ने कोर्ट को बताया कि उनके घुटनों में सूजन और दर्द है। उसकी वजह से वह अपना पैर भी नहीं मोड़ पा रहे हैं। गोयल ने कोर्ट से कहा कि उनकी पत्नी अनीता कैंसर की एडवांस स्टेज में है। उनकी इकलौती बेटी भी बेहद बीमार है। 

गाेयल स्वास्थ्य से जुड़ी कई दिक्कतें
गोयल ने कोर्ट को यह भी बताया कि उन्हें पेशाब से जुड़ी दिक्कते हो रही हैं। कभी-कभी तो पेशाब से खून भी निकलने लगता है। ज्यादातर वक्त उन्हें जेल स्टाफ से कोई मदद नहीं मिल पाती। आखिरकार जेल के स्टाफ की भी अपनी सीमा है। इसके साथ ही गोयल ने अनुरोध ने किया कि उन्हें इलाज के लिए जेजे अस्पताल नहीं भेजा जाए। वहां मरीजों की लंबी कतार लगी होती है। डॉक्टर ठीक से नहीं देख पाते और न ही ठीक से फॉलोअप हो पाता है। किसी निजी अस्पताल में इलाज की इजाजत दी जाए। बता दें कि आर्थर रोड जेल में बंद कैदियों को जेजे अस्पताल में इलाज के लिए भेजा जाता है। 

14 सितंबर से कोर्ट कस्टडी में हैं गोयल
गोयल को 14 सितंबर को कोर्ट की कस्टडी में हैं। वह मुंबई के ऑर्थर रोड जेल में बंद है। प्रवर्तन निदेशालय (ED) ने गोयल को 538 करोड़ रुपए के कथित लोन घोटाले में गिरफ्तार किया था। गोयल की कंपनी जेट एयरवेज दिवालिया घोषित हो चुकी है। इसके खिलाफ केनरा बैंक ने शिकायत दर्ज कराई थी। बैंक के मुताबिक जेट एयरवेज इंडिया लिमिटेड ने बैंक से 848.86 करोड़ रुपए का कर्ज लिया था। इसमें से 538. 62 करोड़ रुपए नहीं चुकाए। बैंक की शिकायत पर पहले CBI ने मामला दर्ज किया। बाद में ED ने मामले को हाथ में लिया और मनी लॉन्ड्रिंग का मामला शुरू किया।

5379487