logo
Breaking

क्या आपको पता है रनिंग का सही तरीका

सुबह के समय रेग्युलर रनिंग करना फायदेमंद होता है।

क्या आपको पता है रनिंग का सही तरीका

बॉडी वेट जरूरत से ज्यादा होने पर कई तरह की फिजिकल प्रॉब्लम्स होने का खतरा बढ़ जाता है। यही वजह है कि बहुत से हेल्थ कॉन्शस लोग बैलेंस्ड डाइट लेते हैं और वर्कआउट भी करते हैं।

जिनके पास वर्कआउट का टाइम नहीं होता, वे कुछ देर रनिंग कर सकते हैं। लेकिन रनिंग यानी दौड़ लगाने का सही फायदा तभी मिलता है, जब आप उसे सही तरीके और तकनीक से करें।

वॉर्मअप करें

रनिंग या किसी भी तरह का वर्कआउट शुरू करने से पहले वॉर्मअप जरूर करें। ऐसा करने से दौड़ते वक्त आपके पैरों में मोच आने की या मसल्स में चोट लगने की आशंका में कमी आती है। वॉर्मअप की शुरुआत करते हुए सबसे पहले हल्की-हल्की जॉगिंग करें या फिर धीरे-धीरे चलना शुरू करें। इससे आप लंबे समय तक दौड़ सकेंगी। पहले दो से तीन मिनट तक दौड़ें, इसके बाद धीरे-धीरे अपने दौड़ने की गति तेज करें।

हेड पोजिशन

आपके सिर के पोजिशन पर आपका पूरा पोश्चर निर्भर करता है। इसी पर यह भी निर्भर करता है कि आप कितनी क्षमता से दौड़ रही हैं। दौड़ते वक्त सिर सीधा रखते हुए सामने देखना चाहिए। नीचे अपने पैर की तरफ या कहीं और देखने से पूरे शरीर का पोश्चर गड़बड़ हो जाता है और इसका सीधा असर आपके दौड़ने पर पड़ता है। गर्दन और पीठ तनी हुई और एक सीध में होनी चाहिए।

पैर की अंगुलियां

दौड़ने के दौरान सबके पैर की अंगुलियों की कंडीशन अलग-अलग होती है। कुछ महिलाएं दौड़ते हुए एड़ियों पर जोर देती हैं, तो कुछ अंगुलियों पर। अगर आप एड़ियों पर जोर दे कर दौड़ेंगी, तो आपके घुटनों पर इसका बुरा प्रभाव पड़ेगा। जबकि अगर आप पैरों की अंंगुलियों पर जोर दे कर दौड़ती हैं, तो इससे वहां की मांसपेशियों पर जोर पड़ता है। इससे पैरों में दर्द हो सकता है। दौड़ने का सही तरीका यही है कि दौड़ते हुए पैरों की अंगुलियों को सीधा रखें। उसे ना ही अंदर की ओर मोड़ें और न ही बाहर की ओर निकालें।

घुटने की स्थिति

दौड़ते वक्त घुटनों का भी खास ख्याल रखें। अगर आपके घुटने मजबूत होंगे, तभी आप ठीक से दौड़ पाएंगी। इसके अलावा यह भी ध्यान रखें कि दौड़ते वक्त आपके घुटनों को मुड़ने में किसी तरह की समस्या न हो यानी आपके घुटने जितने लचीले होंगे, उतना आपका दौड़ना सहज होगा।

ध्यान दें

अगर आप ट्रेडमिल पर दौड़ती हैं, तो उसकी सबसे बड़ा फायदा यह है कि उसमें आप अपनी इच्छानुसार स्पीड को बढ़ा-घटा सकती हैं। नए रनर को अपनी स्पीड धीमी रखनी चाहिए। फिर धीरे-धीरे अपनी स्पीड बढ़ानी चाहिए। वैसे अगर आप बाहर पार्क में दौड़ने जा रही हैं, तो ध्यान रखें कि सतही जमीन का होना बहुत जरूरी है। एक खराब और ऊबड़-खाबड़ सतह आपके घुटनों और पैरों के लिए नुकसानदेह साबित हो सकता है।

(फिटनेस इंस्ट्रक्टर अमित कुमार से बातचीत पर आधारित)

Share it
Top