Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

नर्सरी एडमिशन: 298 स्कूलों में बंद हुआ मैनेजमेंट कोटा

सिबलिंग क्राइटेरिया के तहत 0-1 किलोमीटर की रेंज में रहने वाले बच्चों को दाखिले में प्राथमिकता दी जाएगी।

नर्सरी एडमिशन: 298 स्कूलों में बंद हुआ मैनेजमेंट कोटा
नई दिल्ली. डीडीए की जमीनों पर चल रहे 298 प्राइवेट स्कूलों के लिए भी दिल्ली सरकार ने नर्सरी एडमिशन की गाइडलाइंस जारी कर दी है। दिल्ली सरकार के नए संशोधित नियम के मुताबिक स्कूलों के पास 20 फीसदी मैनेजमेंट कोटे के तहत दाखिले का अधिकार नहीं होगा। संशोधित नियम में एलुमनाई क्राइटेरिया को भी स्क्रैप कर दिया गया है।
नए नियम के तहत नर्सरी दाखिले के 75 फीसदी ओपन सीटों में स्कूल सबसे पहले 0-1 किलोमीटर तक के रेंज के बच्चों को एडमिशन देगा। इनमें सबसे पहले उन बच्चों को दाखिला मिलेगा जिनके भाई-बहन उसी स्कूल में पढ़ते हैं। यानी सिबलिंग क्राइटेरिया के तहत 0-1 किलोमीटर की रेंज में रहने वाले बच्चों को दाखिले में प्राथमिकता दी जाएगी।
नियम
यदि 0-1 किलोमीटर की रेंज में सिबलिंग क्राइटेरिया के लिए आवेदनों की संख्या स्कूल की सीट से ज्यादा होती है तो ड्रा के जरिए दाखिला होगा।
यदि 0-1 किलोमीटर की रेंज में सिबलिंग दाखिले के बाद भी स्कूल में सीटें खाली रह जाती हैं तो स्कूल 0-1 किलोमीटर के दायरे में रहने वाले बच्चों को पहले दाखिला देंगे। आवेदन ज्यादा होने पर ड्रा किया जाएगा।
नर्सरी दाखिले में स्कूल की 25 % सीटें EWS/DG कैटेगरी के लिए होगी।
ये 298 स्कूल वो हैं जिन्होंने डीडीए से जमीन प्राप्त करते समय एक एग्रीमेंट पर हस्ताक्षर किए थे। जिसके मुताबिक ये नेबरहुड के बच्चों को एडमिशन देने से मना नहीं कर सकते। हालांकि अब तक नेबरहुड डिफाइन ही नहीं किया गया था। लेकिन नई गाइडलाइन के मुताबिक ये स्कूल अपने नेबरहुड बच्चों को एडमिशन देने से मना नहीं कर सकते।
साभार -IDX
खबरों की अपडेट पाने के लिए लाइक करें हमारे इस फेसबुक पेज को फेसबुक हरिभूमि, हमें फॉलो करें ट्विटर और पिंटरेस्‍ट पर-
Next Story
Top