Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

क्या आप जानते है सिम कार्ड स्वैपिंग, चोर कैसे खाली करते हैं अकाउंट्स, ऐसे रहे सावधान

भारत में जितनी तेजी से टेक्नोलॉजी में विकास हो रहा है, उतनी ही तेजी से फ्रॉड और धोखाघड़ी की घटना बढ़ रही है। लेकिन अब तक आपने सिम कार्ड स्वैपिंग के बारे में नहीं सुना होगा, साथ ही सिम कार्ड स्वैपिंग के बारे में जरूर सुना होगा।

क्या आप जानते है सिम कार्ड स्वैपिंग, चोर कैसे खाली करते हैं अकाउंट्स, ऐसे रहे सावधान
X

भारत में जितनी तेजी से टेक्नोलॉजी में विकास हो रहा है, उतनी ही तेजी से फ्रॉड और धोखाघड़ी की घटना बढ़ रही है। लेकिन अब तक आपने सिम कार्ड स्वैपिंग के बारे में नहीं सुना होगा, साथ ही सिम कार्ड स्वैपिंग के बारे में जरूर सुना होगा।

मुंबई से एक खबर सामने आई है, जिसमें एक बिजनेस मैन के सिम कार्ड को स्वाइप करके 1.86 करोड़ रुपए चुना लगा दिया है। यूजर के पास फोन होने के बाद भी सिम कार्ड स्वैपिंग कैसे की जाती है। आइए जानते है इसके बारे में...

Facebook / Messenger पर आ रहा है डार्क मोड, कई देशों में टेस्टिंग शुरू

सिम कार्ड स्वैपिंग क्या होता है

सबसे पहले हमारे रीडर्स को यह जानना जरूरी है कि सिम कार्ड स्वैपिंग का आखिर क्या होता है। सिम कार्ड स्नैपिंग का मतलब है कि किसी मोबाइल नंबर को बंद करके उसी नंबर से दूसरा सिम कार्ड को निकाल लेना।

जब यूजर अपने पुराने नंबर पर नया सिम कार्ड लेते हैं, तो यही प्रक्रिया सिम कार्ड स्वैपिंग के दौरान भी की जाती है। आसान शब्दों में कहें तो मौजूदा सिम कार्ड को नए सिम कार्ड से बदलना ही सिम कार्ड स्वैपिंग होता है।

ऐसे करते है धोखाधड़ी

सिम कार्ड स्वैपिंग के वक्त धोखाधड़ी करने वाले यूजर्स को फोन करते हैं और खुद को यूजर के सिम वाली कंपनी का अधिकारी बताते हैं। वे यूजर्स से कहते हैं कि आपके फोन में नेटवर्क कमजोर है, इस समस्या को दूर करने के लिए अपने 20 अंकों का सिम नंबर बताना होगा।

जिन यूजर्स को धोखाधड़ी की जानकारी नहीं होती है, वे आसानी से इस जाल में फंस जाते है। यूजर्स अपनी सिम का 20 अंकों का सिम नंबर बता देते है और साथ ही चोर यूजर्स को पुष्टि के लिए 1 नंबर को दबाने को कहते है। 1 नंबर दबाने के बाद से आपके नए सिम के आवेदन की पुष्टि हो जाती है।

Vivo Carnival Sale / Amazon पर वीवो के स्मार्टफोन पर मिलेगा 11,400 रुपए के डिस्काउंट के साथ खास ऑफर्स

इसके बाद यूजर्स की कंपनी को लगता है कि यूजर ने ही नई सिम के लिए एप्लाई किया है। इसके बाद यूजर का नंबर बंद हो जाता है और चोर के पास जो नया सिम है वह चालू हो जाता है। इसके बाद जिस बैंक अकाउंट में यूजर नंबर एंटर है, उन अकाउंट से चोर आसानी से पैसा निकाल लेते है।

और पढ़े: Haryana News | Chhattisgarh News | MP News | Aaj Ka Rashifal | Jokes | Haryana Video News | Haryana News App

Next Story