Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

सावधान! WhatsApp पर भूलकर भी ना भेजें ऐसे मैसेज, हो सकती है जेल

भारत के साथ दुनिया में WhatsApp का इस्तेमाल काफी ज्यादा किया जाता है और साथ ही इस ऐप पर लोग अपने पर्सनल काम के साथ बिजनेस के काम भी करते है।

सावधान! WhatsApp पर भूलकर भी ना भेजें ऐसे मैसेज, हो सकती है जेल
X

भारत के साथ दुनिया में WhatsApp का इस्तेमाल काफी ज्यादा किया जाता है और साथ ही इस ऐप पर लोग अपने पर्सनल काम के साथ बिजनेस के काम भी करते है। लेकिन हाल ही के दिनों में जब से इस प्लेटफॉर्म पर फेक न्यूज के साथ गलत मैसेज वायरल होने लगे है, तब से सरकार का इसकी तरफ कड़ा रुख है।

ये भी पढ़े: भारतीय मोबाइल यूजर्स करते हैं सबसे ज्यादा ऐप्स डाउनलोड, जानें पूरी रिपोर्ट

इसके साथ ही भारत में व्हाट्सऐप के यूजर्स की पहचान को लेकर सरकार ने एक बार फिर से कड़ा रुख अपनाया है। सरकार ने व्हाट्सऐप से गलत मैसेज भेजने वालों की पहचान बताने को कहा है।

सरकार ने व्हाट्सऐप से एक बार फिर कहा है कि वह मैसेज के बारे में किसी भी तरह की जानकारी ना दें लेकिन मैसेज भेजने वाले की लोकेशन और उसकी पहचान की जानकारी सांझा करें। आगे सरकार ने कहा है कि यह स्टेप फेक न्यूज को रोकने में महत्वपूर्ण कदम हो सकता है।

आईटी मंत्री रविशंकर प्रसाद ने इस मामले पर कहा हैं कि हम फेक न्यूज और अफवाह फैलाने वाले मैसेज को भेजने वालों की जानकारी चाहते हैं और हम नहीं चाहते हैं कि व्हाट्सऐप के मैसेज को डीक्रिप्ट किया जाए। लेकिन हम चाहते हैं कि हमें उन लोगों की पहचान मिल जाए, जो कि इस तरह की फेक न्यूज को फैलाने का काम करते है।

रविशंकर प्रसाद ने आगे कहा हैं कि व्हाट्सऐप की टीम ने इस केस पर उन्हें भरोसा दिलाया हैं कि वे इस मामले पर सोच-विचार करेंगे। वहीं कुछ महीनों से भारत सरकार व्हॉट्सएप पर फेक न्यूज को रोकने के लिए दवाब बना रही है।

ये भी पढ़े: Amazon Great Indian Festival: सेल हुई शुरू, मोबाइल्स से लेकर कई सारे प्रोडक्ट्स पर मिलेंगे खास ऑफर्स

बता दें कि इस मुद्दे पर रविशंकर प्रसाद ने व्हाट्सऐप के वाइस प्रसिडेंट क्रिस डेनियल से अगस्त में मीटिंग की थी। लेकिन इस मीटिंग में क्रिस डेनियल ने भारत सरकार के अनुरोध को ठुकरा दिया था।

और पढ़े: Haryana News | Chhattisgarh News | MP News | Aaj Ka Rashifal | Jokes | Haryana Video News | Haryana News App

Next Story