Logo
election banner
Delhi CM Arvind Kejriwal Arrest Row: यूएन ने यह प्रतिक्रिया एक बांग्लादेशी पत्रकार द्वारा भारत में लोकसभा चुनाव से पहले अरविंद केजरीवाल की गिरफ्तारी और कांग्रेस के बैंक अकाउंट फ्रीज किए जाने को लेकर सवाल उठाया था। 

Delhi CM Arvind Kejriwal Arrest Row: दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल की गिरफ्तारी पर अमेरिका और जर्मनी ने टिप्पणी की, जिसका भारत ने कड़ा विरोध किया। अब संयुक्त राष्ट्र यानी यूएन भी इस विवाद कूद गया है। संयुक्त राष्ट्र ने यह कहते हुए नया विवाद खड़ा कर दिया कि दुनिया को उम्मीद है कि भारत में या अन्य किसी अन्य देश में हर किसी के अधिकार सुरक्षित हैं और हर कोई स्वतंत्र और निष्पक्ष माहौल में चुनाव कराने में सक्षम है।

यूएन ने यह प्रतिक्रिया एक बांग्लादेशी पत्रकार द्वारा भारत में लोकसभा चुनाव से पहले अरविंद केजरीवाल की गिरफ्तारी और कांग्रेस के बैंक अकाउंट फ्रीज किए जाने को लेकर सवाल उठाया था। 

सभी के अधिकारों की रक्षा की जाएगी
संयुक्त राष्ट्र महासचिव के प्रवक्ता स्टीफन दुजारिक से जब भारत में लोकसभा चुनाव से पहले राजनीतिक अशांति के बारे में पूछा गया तो उन्होंने कहा कि हमें बहुत उम्मीद है कि भारत में जैसा कि चुनाव वाले किसी भी देश में होता है राजनीतिक और नागरिक अधिकारों सहित सभी के अधिकारों की रक्षा की जाएगी। हर कोई स्वतंत्र और निष्पक्ष माहौल में मतदान करने में सक्षम होगा।

अमेरिका ने दो बार की टिप्पणी
इससे पहले संयुक्त राज्य अमेरिका ने अरविंद केजरीवाल की गिरफ्तारी और चुनाव से पहले विपक्षी कांग्रेस पार्टी के बैंक खातों को फ्रीज करने के आरोपों पर दो बार टिप्पणी की है। विदेश विभाग के एक प्रवक्ता ने सोमवार को कहा कि अमेरिका अरविंद केजरीवाल की गिरफ्तारी की रिपोर्टों पर बारीकी से नजर रख रहा है और एक निष्पक्ष कानूनी प्रक्रिया की उम्मीद करता है। जिस पर भारत ने कड़ी आपत्ति जताई है। दिल्ली में विदेश मंत्रालय ने कार्यवाहक अमेरिकी मिशन उप प्रमुख को तलब किया।

विदेश मंत्रालय ने कहा कि भारत की कानूनी प्रक्रियाएं एक स्वतंत्र न्यायपालिका पर आधारित हैं जो उद्देश्यपूर्ण और समय पर परिणाम के लिए प्रतिबद्ध है। उस पर आरोप लगाना अनुचित है।

हालांकि, वाशिंगटन ने भारत से प्रत्येक मुद्दे के लिए निष्पक्ष, पारदर्शी और समय पर कानूनी प्रक्रियाएं अपनाने का आह्वान दोबारा किया। विदेश विभाग के प्रवक्ता मैथ्यू मिलर ने वाशिंगटन में संवाददाताओं से कहा कि हमें नहीं लगता कि किसी को इस पर आपत्ति होनी चाहिए और हम निजी तौर पर भी यही बात स्पष्ट करेंगे।

मिलर ने भारत में शीर्ष अमेरिकी राजनयिक ग्लोरिया बरबेना को भारत द्वारा तलब करने पर भी टिप्पणी करने से इनकार कर दिया और कहा कि वह किसी निजी राजनयिक बातचीत के बारे में बात नहीं करना चाहते हैं। 

आंतरिक हस्तक्षेप अस्वीकार्य: भारत
केजरीवाल की गिरफ्तारी और कांग्रेस पार्टी के आरोपों पर अमेरिकी विदेश विभाग की ताजा टिप्पणियों के बारे में पूछे जाने पर विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता रणधीर जयसवाल ने हमारी चुनावी और कानूनी प्रक्रियाओं पर ऐसा कोई भी बाहरी आरोप पूरी तरह से अस्वीकार्य है।
 

jindal steel Ad
5379487