Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

टाइपिंग सुनकर पासवर्ड हैक कर सकते हैं हैकर!

पिछले कुछ सालों में हैकिंग के मामलों में काफी बढ़ोतरी हुई है। हैकर्स हैकिंग के लिए आए दिन नए-नए तरीके अपना रहे हैं। सालों तक फिशिंग और ब्रूट फोर्स अटैक्स के जरिए ठगी करने के बाद अब हैकर साउंडवेव्स से हैकिंग को अंजाम दे रहे हैं। आइए जानते हैं कि कैसे हो रही साउंडवेव्स के जरिए हैकिंग और क्या है इससे बचने का तरीका।

टाइपिंग सुनकर पासवर्ड हैक कर सकते हैं हैकर!

पिछले कुछ सालों में हैकिंग के मामलों में काफी बढ़ोतरी हुई है। हैकर्स हैकिंग के लिए आए दिन नए-नए तरीके अपना रहे हैं। सालों तक फिशिंग और ब्रूट फोर्स अटैक्स के जरिए ठगी करने के बाद अब हैकर साउंडवेव्स से हैकिंग को अंजाम दे रहे हैं। आइए जानते हैं कि कैसे हो रही साउंडवेव्स के जरिए हैकिंग और क्या है इससे बचने का तरीका।

सुन लेते हैं पासवर्ड टाइपिंग

स्मार्टफोन के कीबोर्ड पर जब आप टाइप करते हैं, तो उससे एक साउंडवेव निकलती है। टाइपिंग के दौरान स्क्रीन पर पड़ने वाला हर स्ट्रोक अलग-अलग तरह के वाइब्रेशन पैदा करता है। इन वाइब्रेशन्स को कानों से सुन पाना मुश्किल होता है लेकिन हैकर्स ने इब इसका भी तोड़ निकाल लिया।

ऐप के जरिए सुनते हैं टाइपिंग की साउंडवेव

हैकर्स आपके द्वारा की जाने वाली टाइपिंग की साउंडवेव्स को ऐप्स की मदद से सुन लेते हैं। रीसर्चर्स ने बताया कि इन साउंडवेव्स को खास ऐप्स और ऐल्गोरिदम से सुना और डीकोड किया जा सकता है।

टेस्ट में हो चुका है साबित

रीसर्चर्स ने 45 लोगों को मैलवेयर वाले स्मार्टफोन इस्तेमाल करने को दिया। यह मैलवेयर एक ऐप के अंदर मौजूद था। इसके बाद इन लोगों को अलग-अलग आवाज वाली जगहों पर खड़ा करके फोन में टेक्स्ट एंटर करने को कहा गया। टाइपिंग के दौरान पाया गया कि मैलवेयर वाले ऐप ने हर कीस्ट्रोक से पैदा होने वाले वेव्स को आसानी के रिकॉर्ड लिया था।

Loading...
Share it
Top