Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

टॉपर घोटाला: किसी और ने दिया था रूबी का एग्जाम

एसआइटी ने रूबी राय के हैंडराइटिंग सैंपल को एफएसएल भेजा था।

टॉपर घोटाला: किसी और ने दिया था रूबी का एग्जाम
पटना. बिहार बोर्ड की फर्जी आर्टस टॉपर रूबी राय ने खुद अपनी उत्तरपुस्तिका नहीं लिखी थी, बल्कि एक्सपर्ट ने लिखी थी। यह खुलासा एफएसएल रिपोर्ट में हुआ है। पुलिस को रिपोर्ट मिल गयी है और उसमें स्पष्ट है कि उत्तरपुस्तिका में लिखे गये उत्तर रूबी राय द्वारा नहीं लिखे गये है। इसके साथ ही हर उत्तरपुस्तिका में नंबर को काट कर बदला गया है और कुछ उत्तरपुस्तिका बिहार बोर्ड की भी नहीं है। क्योंकि उन उत्तर पुस्तिकाओं में बिहार बोर्ड द्वारा दिये जाने वाले वाटर मार्क नहीं है। पुलिस एफएसएल की इस रिपोर्ट को न्यायालय को प्रस्तुत करेगी। एसएसपी मनु महाराज ने बताया कि एफएसएल की रिपोर्ट में यह स्पष्ट है कि उत्तरपुस्तिका को रूबी राय ने खुद नहीं लिखा था।
ऐसे सामने आया घोटाला
इंटर आर्टस की फर्जी टॉपर रूबी राय (वैशाली) से जब मीडियाकर्मियों ने इंटरव्यू लिया तो उसने पॉलिटिकल साइंस को प्रोडिकल साईंस बताया था। जिसके बाद मामले की जांच करायी गयी थी और इंटर के साईंस, आर्टस के टॉपरों की उत्तरपुस्तिका में छेड़छाड़ पायी गयी थी। बिहार विद्यालय परीक्षा समिति द्वारा आयोजित इंटर की परीक्षा में टॉपर को लेकर हुए विवाद के बाद जांच हुई और माध्यमिक शिक्षा के निदेशक राजीव प्रसाद सिंह रंजन द्वारा कोतवाली थाने में प्राथमिकी दर्ज करायी गयी है। जिसमें वैशाली के विशुन राय कॉलेज के संचालक, जीए इंटर कॉलेज के सेंटर सुपरिटेंडेंट, बालक हाई स्कूल राजेंद्र नगर पटना के सेंटर सुपरिटेंडेंट, शालिनी राय, सौरभ श्रेष्ठ, राहुल कुमार व रूबी राय पर मामला दर्ज कराया गया था।
मामले की जांच जारी
बिहार बोर्ड घोटाले के प्रकाश में आने के बाद एसआइटी ने रूबी राय व अन्य टॉपरों की तमाम विषयों की उत्तरपुस्तिका को अपने कब्जे में ले लिया था। इसके बाद तमाम टॉपरों का रिव्यू टेस्ट बिहार बोर्ड द्वारा आयोजित कराया गया था। टेस्ट में रूबी राय फेल हो गयी थी और रूबी राय को गिरफ्तार कर रिमांड होम भेज दिया गया था। इसके बाद पुलिस ने उत्तरपुस्तिका रूबी राय द्वारा लिखी गयी है या नहीं, इसकी जांच के लिए उसकी सारी विषयों की उत्तरपुस्तिका को जुलाई में एफएसएल भेजा गया था। रिमांड होम से रूबी राय के हैंडराइटिंग सैंपल के नमूने भी एफएसएल भेजे गये थे। हालांकि एफएसएल द्वारा सितंबर में फिर से कुछ और हैंडराइटिंग सैंपल मांगे गये थे और फिर से एसआइटी ने रूबी राय के हैंडराइटिंग सैंपल को एफएसएल भेजा था।
खबरों की अपडेट पाने के लिए लाइक करें हमारे इस फेसबुक पेज को फेसबुक हरिभूमि, हमें फॉलो करें ट्विटर और पिंटरेस्‍ट पर-
Next Story
Share it
Top