Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

राहुल गांधी के नामांकन में नहीं पहुंचे उनके राजनीतिक गुरु, सभी ने दी बधाई

राहुल गांधी ने कांग्रेस अध्यक्ष पद के लिए सभी वरिष्ठ नेताओं के बीच नामांकन दाखिल कर दिया।

राहुल गांधी के नामांकन में नहीं पहुंचे उनके राजनीतिक गुरु, सभी ने दी बधाई

कांग्रेस के राष्ट्रीय अध्यक्ष पद के चुनाव के लिए राहुल गांधी के नामांकन के दौरान सभी नेता मौजूद रहे। सभी ने राहुल गांधी को इस मौके पर बधाई भी दी। नामांकन से पहले पद को लेकर विवाद भी सामने आया।

लेकिन अभी तक सभी के मन में एक ही सवाल है कि आखिर राहुल गांधी के राजनीतिक गुरु माने जाने वाले वरिष्ठ नेता दिग्विजय सिंह कहां पर हैं। यहां तक की दिग्गी राजा ने राहुल गांधी को बधाई तक नहीं दी है।

ये भी पढ़ें - तेज प्रताप के जवाब पर मोदी अंकल ने किया मजेदार ट्वीट, रखीं शादी के लिए तीन शर्तें

दिग्विजय सिंह नहीं पहुंचे नामांकन पर

सोशल मीडिया पर अलर्ट रहने वाले दिग्विजय सिंह ने एक ट्वीट करके भी राहुल को बधाई नहीं दी है। हालांकि उन्होंने पहले ही कह दिया था कि वह 6 महीने की नर्मदा यात्रा के दौरान ट्वीट नहीं सिर्फ रिट्वीट करेंगे।

मणिशंकर अय्यर के बयान ने मचाया तूफान

नामांकन के बाद हमेशा से ही बयानों के लिए मणिशंकर अय्यर का बयान चर्चा का विषय बन गया। उनसे शहजाद पूनावाला के विरोध को लेकर सवाल किया गया तो उन्होंने मुगल बादशाहों का उदाहण दे दिया।

ये भी पढ़ें - दिल्ली में बढ़ते प्रदूषण को लेकर एनजीटी सख्त, 48 घंटे में राज्य सरकार से मांगा जवाब

पीएम को राहुल पर हमला

इस बयान को प्रधानमंत्री मोदी ने गुजरात की रैली में मुद्दा बना दिया और धरमपुर की रैली में पीएम ने कहा कि कांग्रेस को औरंगज़ेब का शासन मुबारक हो।

पीएम ने आगे कहा कि कहा कि जहांगीर की जगह जब शाहजहां आए, क्या तब कोई चुनाव हुआ था? क्या जब शाहजहां की जगह औरंगज़ेब आए तब कोई चुनाव हुआ? ऐसा इसलिए नहीं हुआ क्योंकि यह तो पहले से ही मालूम था कि जो बादशाह है, उसके बेटे को ही सत्ता मिलेगी।

Next Story
Share it
Top