Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

मोहन भागवत के बाद अब अमित शाह की बुकिंग रद्द

पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने भाजपा अध्यक्ष अमित शाह के दौरे पर रोक लगा दी है।

मोहन भागवत के बाद अब अमित शाह की बुकिंग रद्द

पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने एक बार फिर भाजपा से पंगा लेते हुए भाजपा अध्यक्ष अमित शाह के दौरे पर रोक लगा दी है। वैसे देश की राजनीति में एक चलन इन दिनों आम होता जा रहा है।

इस तरह के रवैए को विपक्ष ने तानाशाह करार दिया है, तो सत्ता पक्ष कानून व्यवस्था का हवाला देते हुए अपने कदम को जायज ठहराता है। ममता बैनर्जी के इस कदम को राजनीति में तुष्टीकरण की राजनीति कहा जा रहा है।

राजनीतिक गलियारों में कहा जा रहा है कि ममता बनर्जी मुस्लिम मतदाताओं को लुभाने के लिए आरएसएस व भाजपा के नेताओं के साथ ऐसा कृत्य कर रहीं हैं ताकि मुस्लिमों की सहानुभूति वे बटोर सकें। गौरतलब है कि पश्चिम बंगाल में भाजपा धीरे-धीरे अपनी पैठ बना रही है।

भागवत के लिए सभागार नही

तीन अक्टूबर को कोलकाता के प्रसिद्ध सरकारी स्वामित्व वाले सभागार महाजति सदन में एक कार्यक्रम होना था। इसमें मोहन भागवत भाषण देने वाले थे, लेकिन अधिकारियों ने इस हॉल की बुकिंग रद्द कर दी। भागवत के भाषण का विषय था 'भारत के राष्ट्रवादी आंदोलन में सिस्टर निवेदिता की भूमिका।

बीजेपी मामले को भुनाने में लगी

माना जा रहा है कि ममता बनर्जी मोहन भागवत के कार्यक्रम को रोक कर सिर्फ अपने वोटरों को ही नहीं बल्कि राष्ट्रीय राजनीति में भी संदेश देना चाहती हैं कि हिंदुत्व के एजेंडे को केवल वही रोक सकती हैं। दूसरी ओर बीजेपी भी मोहन भागवत के कार्यक्रम के रद्द होने को भुनाने में लगी है और ममता पर मुस्लिम तुष्टिकरण का आरोप लगा रही है।

भागवत को नहीं दिया स्टेडियम

ममता बनर्जी के इस सियासी तेवर का शिकार मोहन भागवत ही नहीं बल्कि बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह भी हुए हैं। अमित शाह 11 से 13 सितंबर के बीच पश्चिम बंगाल के दौरे पर रहेंगे।

इस दौरान 12 सितंबर को उनके कार्यक्रम के लिए नेताजी इनडोर स्टेडियम बुक किया गया था, लेकिन वहां पर कुछ काम चलने का तर्क देकर प्रशासन ने इसकी परमिशन नहीं दी। इसे लेकर बीजेपी के तेवर और गर्म हो गए हैं।


ममता के राज में तोगड़िया की नो-इंट्री

वैसे एक तथ्य ये भी है कि पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने वीएचपी नेता प्रवीण तोगड़िया की राज्य में इंट्री पर रोक लगा रखी है। पिछले चार साल से ममता ने प्रवीण तोगड़िया को प्रदेश में घुसने नहीं दिया जबकि प्रवीण तोगड़िया ने कई बार बंगाल जाने की कोशिश की वे कामयाब नहीं हो सके।

Next Story
Share it
Top