Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

कारोबारियों को बड़ी राहत: GST रिटर्न की आखिरी तारीख 25 अक्टूबर तक बढ़ी

कैट के महासचिव प्रवीण खंडेलवाल ने जेटली को भेजे पत्र में कहा है कि पिछले कुछ दिनों से जीएसटी की वेबसाइट में कई तरह की तकनीकी दिक्कतें आ रही हैं।

कारोबारियों को बड़ी राहत: GST रिटर्न की आखिरी तारीख 25 अक्टूबर तक बढ़ी

कारोबारियों के संगठन कैट ने रविवार को वित्त मंत्री अरूण जेटली को पत्र लिखकर जीएसटी पोर्टल में आ रही दिक्कतों का हवाला देते हुये सितंबर की संक्षिप्त बिक्री रिटर्न जीएसटीआर-3बी को भरने की समयसीमा बढ़ाकर 31 दिसंबर करने का आग्रह किया है। उन्होंने दावा किया है कि जीएसटी पोर्टल में आ रही तकनीकी गड़बड़ी की वजह से वह

समयसीमा बढ़ाने का आग्रह कर रहे हैं।

इससे पहले वित्त मंत्रालय ने रविवार को जीएसटीआर-3बी भरने की समयसीमा पांच दिन बढ़ाकर 25 अक्टूबर कर दी। समयसीमा बढ़ाये जाने के साथ जुलाई 2017-मार्च 2018 की अवधि के लिए इनपुट टैक्स क्रेडिट (आईटीसी) का लाभ लेने की इच्छा रखने वाले कारोबारी अब 25 अक्टूबर तक आईटीसी का दावा कर सकेंगे।

कन्फेडेरेशन ऑफ ऑल इंडिया ट्रेडर्स (कैट) के महासचिव प्रवीण खंडेलवाल ने जेटली को भेजे पत्र में कहा है कि पिछले कुछ दिनों से जीएसटी की वेबसाइट में कई तरह की तकनीकी दिक्कतें आ रही हैं। इससे डीलर या परामर्शदाता सितंबर महीने का जीएसटीआर-3बी नहीं भर पा रहे हैं।

कैट ने कहा है कि जीएसटी पोर्टल के ठीक तरीके से काम नहीं करने के कारण कर रिटर्न भरने वालों को काफी परेशानी हो रही है। हम आपसे सितंबर, 2018 का जीएसटीआर-3बी भरने के लिए समयसीमा को 31 दिसंबर, 2018 तक बढ़ाने का आग्रह करते हैं।

यह भी पढ़ें- जम्मू- कश्मीर: राजौरी मुठभेड़ में दो पाकिस्तानी घुसपैठिये ढेर, तीन जवान शहीद

कैट का कहना है कि यह समयसीमा बढ़ने से व्यापारियों का वित्त वर्ष 2017- 18 का इनपुट टैक्स क्रेडिट दावा समाप्त नहीं होगा और यह उनकी सालाना रिटर्न फाइलिंग की तिथि के साथ मेल खायेगा।

कैट ने पत्र में कहा है कि तथ्यों से यह बात भी सामने आई है कि सरकार की विलंब से रिटर्न भरने पर वसूली जाने वाली फीस से अपना राजस्व बढ़ाने की मंशा है, यह सरासर शर्मनाक है।

संगठन ने कहा है कि पिछले कुछ दिनों से जीएसटी पोर्टल ठीक से काम नहीं कर रहा है और एक बार में यह डेढ लाख से अधिक उपयोगकर्ताओं को सेवा नहीं दे पा रहा है। इसमें सर्वर की समस्या आ रही है।

पत्र में यह भी कहा गया है कि पोर्टल में रिटर्न भरते समय जो भी आंकड़े भरे जाते हैं वह अपने आप ही शून्य में बदल जाते हैं। अपलोडिंग में भी इसमें गड़बड़ी हो रही है।

Next Story
Top