logo
Breaking

आधार डाटा लीक होने से चुनाव परिणाम हो सकते हैं प्रभावित- सुप्रीम कोर्ट

मंगलवार को सुप्रीम कोर्ट ने सुनवाई के दौरान आधार कार्ड में दर्ज जानकारी के सुरक्षित होने को लेकर कई गंभीर सवाल उठाए।

आधार डाटा लीक होने से चुनाव परिणाम हो सकते हैं प्रभावित- सुप्रीम कोर्ट

मंगलवार को सुप्रीम कोर्ट ने सुनवाई के दौरान आधार कार्ड में दर्ज जानकारी के सुरक्षित होने को लेकर कई गंभीर सवाल उठाए। पांच जजों की संविधान पीठ ने कहा कि देश में कोई डेटा सुरक्षा कानून नहीं है, ऐसे में लोगों का डेटा सुरक्षित है यह कैसे कहा जा सकता है।

ये भी पढ़ें- बैंकिग घोटाला: संसदीय समिति ने RBI गवर्नर को किया तलब

सुनवाई के दौरान आधार डेटा के चुनाव में इस्तेमाल पर सुप्रीम कोर्ट ने चिंता जताई है। पीठे के जज जस्टिस डीवाई चंद्रचूड ने कहा कि ये वास्तविक आशंका है कि उपलब्ध आंकड़े किसी देश के चुनाव परिणाम को प्रभावित कर सकते हैं।

उन्होंने कहा कि अगर डेटा का इस्तेमाल चुनाव परिणाम पर प्रभाव डालने के लिए किया जाता है तो क्या लोकतंत्र बच सकेगा। कोर्ट ने कहा कि डेटा संरक्षण कानून की अनुपस्थिति में उपलब्ध सुरक्षित उपायों की प्रकृति क्या है? ये समस्याएं लक्षणकारी नहीं है बल्कि वास्तविक हैं।
वहीं सुनवाई के दौरान UIDAI की तरफ से राकेश द्विवेदी ने कहा कि प्रोद्योगिकी आगे बढ़ रही है और हमारे पास तकनीकी विकास की सीमाएं हैं। राकेश द्विवेदी की इस दलील पर जस्टिस चंद्रचूड ने कहा कि ज्ञान की सीमाओं के कारण हम वास्तविकता के बारे में आंख मूंदे नहीं रह सकते हैं, क्योंकि हम कानून को लागू करने जा रहे हैं जो भविष्य को प्रभावित करेगा। कोर्ट के सामने UIDAI ने सुरक्षा को लेकर अपनी दलील रखी।
UIDAI की तरफ से अपना पक्ष रह रखे अधिकारी ने कहा कि प्रमाणीकरण के मांगे जाने के बाद डेटा के साझा होने का कोई डर नहीं है। आधार के तहत डेटा का संग्रह एक एटम बम नहीं है। इस तरह का डर याचिकाकर्ताओं की तरफ से फैलाया हुआ डर मात्र है।
ध्यान हो कि याचिकाकर्ताओं ने तर्क दिया था कि आधार कार्ड से स्मार्ट कार्ड बेहतर है क्योंकि वे स्मार्ट कार्ड चाहते हैं। गुगल जैसे संस्थानों को आधार हासिल नहीं करना है। अधिकारी ने कोर्ट को कहा कि इस देश के लोगों को भरोसा करना चाहिए। हमनें यह पहले ही सुनिश्चित किया हैकि किसी का डेटा साझा नहीं किया जाए।
इसपर जस्टिस चंद्रचूड ने कहा कि चिंता की वजह से डेटा का संभावित इंटरफेस है, जो दुनिया के बाहर उपलब्ध है। डेटा को नियंत्रित करने में एक बड़ी दुनिया है। इस मामले में UIDAI की तरह से कहा गया कि जैसे ही किसी का कोई डेटा जमा किया जाता है वो एंक्रिप्ट हो जाता है और वह डेटा लीक नहीं हो सकता है।
Loading...
Share it
Top