Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

सीवरेज पाइप लाइन बिछाते समय मिट्टी गिरने से दो मजदूर दबे, जानें फिर क्या हुआ

जाखल नई बस्ती में पाइप लाइन (Pipe Line) दबाने के लिए मजदूरों द्वारा कार्य किया जा रहा था। मजदूर (Laborers) करीबन 12 फुट गहरे गड्ढे में कार्य कर रहे थे तो अचानक भारी मात्रा में मिट्टी पाइप लाइन बिछा रहे दो मजदूरों पर गिर गई। गनीमत कि लोगों के सहयोग से दोनों को समय रहते निकाल लिया गया।

सीवरेज पाइप लाइन बिछाते समय मिट्टी गिरने से दो मजदूर दबे, जानें फिर क्या हुआ
X

हरिभूमि न्यूज : फतेहाबाद/ जाखल

शहर के रेलवे लाइन पार सड़क पर सीवरेज पाइप (sewerage pipes) लाइन दबाते समय मिट्टी की तोंदा गिरने से दो मजदूर(Laborers) दब गए। हादसा शनिवार दोपहर करीब 2 बजे का है। गनीमत कि लोगों के सहयोग से दोनों को समय रहते निकाल लिया गया। उन्हें जाखल के सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र (Community Health Center) में भर्ती कराया गया। जहां से प्राथमिक उपचार के बाद सभी को छुट्टी दे दी गई।

गौरतलब है कि जाखल में दूषित पानी की निकासी के लिए जन स्वास्थ्य विभाग कि तरफ से ठेकेदार के माध्यम द्वारा पाइप लाइन बिछाने का कार्य किया जा रहा है। जाखल नई बस्ती में पाइप लाइन दबाने के लिए मजदूरों द्वारा कार्य किया जा रहा था। मजदूर करीबन 12 फुट गहरे गड्ढे में कार्य कर रहे थे तो अचानक भारी मात्रा में मिट्टी पाइप लाइन बिछा रहे दो मजदूरों पर गिर गई। इस कारण दोनों मजदूर मिट्टी के नीचे दब गए। बड़ी मशक्कत के बाद लोगों व जेसीबी के सहयोग से दोनों को समय रहते निकाल लिया गया और इलाज के लिए जाखल के सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र में भर्ती करवाया गया जहां दोनों की हालत स्थिर देखते हुए प्राथमिक उपचार के बाद सभी को छुट्टी दे दी गई।

करोड़ों रुपये खर्च, फिर भी सुरक्षा के नहीं प्रबंध

ठेकेदार द्वारा करीबन 12 फीट की गहराई में सीवरेज की पाइप लाइन दबाई जा रही है। जेसीबी द्वारा खोदने के बाद मजदूर नीचे जाकर पाइपों को जोड़ते हैं, लेकिन इतनी गहराई में उनके बचाव को लेकर किसी तरह के इंतजाम नहीं किए गए हैं। सरकारी महकमे में करोड़ों रुपये खर्च कर शहर में पाइप लाइन डालने का निर्माण कार्य करवाया जा रहा है। इसके बाद भी श्रमिकों की सुरक्षा को लेकर कोई प्रबंध नहीं है। ऐसे में श्रमिकों की जान को हरदम खतरा रहता है। इसके बाद भी जिम्मेदारों की ओर से कोई कार्रवाई नहीं की जाती। कार्य प्रारम्भ होने के कुछ दिन तक मजदूर सुरक्षा उपकरणों के साथ काम करते नजर आते है, बाद में बिना सुरक्षा के काम करते नजर आते है।

क्या कहते है जनस्वास्थ्य विभाग के जेई

जब इस बारे मे जनस्वास्थ्य विभाग के जेई महावीर सिंह से बात की गई तो उन्होंने बताया कि गहराई ज्यादा होने पर मिट्टी गिर गई है। मजदूरों के सुरक्षा के प्रबंध के लिए आदेश दिए हुए हैै। मजदूरों को उपचार के लिए सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र में भर्ती करवा दिया गया था। मजदूरों की सुरक्षा के लिए कड़े इंतजाम है, किसी भी प्रकार कि लापरवाही बर्दाशत नहीं होगी।


Next Story