Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

1 मार्च से कक्षा 1 और 2 के स्कूल भी खुलेंगे

कोविड 19 महामारी के मद्देनजर तय निर्देशों का पहले की तरह पालन करना होगा। प्रतिदिन प्रत्येक विद्यार्थी और शिक्षक का तापमान रिकॉर्ड रखना स्कूल के लिए अनिवार्य होगा। सामान्य से अधिक तापमान पाए जाने पर विद्यार्थी को स्कूल में प्रवेश नहीं दिया जाएगा। सभी सम्बन्धित का यह डाटा स्वास्थ्य विभाग के नोडल अधिकारी के साथ ही मुख्य चिकित्सा अधिकारी और उपायुक्त कार्यालय में उपलब्ध कराना होगा।

1 मार्च से कक्षा 1 और 2 के स्कूल भी खुलेंगे
X
प्रतीकात्मक तस्वीर।

Haryana : हरियाणा सरकार ने पहली और दूसरी कक्षा के विद्यार्थियों के लिए भी 1 मार्च, 2021 से स्कूलों में रेगुलर पढाई शुरू कराने का निर्णय लिया है। स्कूलों का समय प्रात: 10 बजे से 1:30 बजे तक रहेगा। तीसरी और इससे ऊपर की कक्षाओं के विद्यार्थियों के लिए पहले ही स्कूल खोले जा चुके हैं।

इस सम्बंध में सरकारी प्रवक्ता ने बताया कि काफी मंथन के बाद सरकार ने यह निर्णय लिया है। स्कूल में आने से पूर्व अभिभावकों को बच्चों को स्कूल भेजने सम्बन्धी सहमति पत्र स्कूल के मुखिया/कक्षा अध्यापक के पास जमा करना होगा। जो अभिभावक ऑनलाइन पढाई जारी रखना चाहते हैं, उनके लिए यह सुविधा जारी रहेगी। सरकार ने निर्णय लिया है कि स्कूलों द्वारा विद्यार्थियों को स्कूल में आने के लिए बाध्य नहीं किया जाएगा और न ही इस अवधि में किसी विद्यार्थी का स्कूल न आने के कारण नाम काटा जाएगा।

उन्होंने बताया कि कोविड 19 महामारी के मद्देनजर तय निर्देशों का पहले की तरह पालन करना होगा। प्रतिदिन प्रत्येक विद्यार्थी और शिक्षक का तापमान रिकॉर्ड रखना स्कूल के लिए अनिवार्य होगा। सामान्य से अधिक तापमान पाए जाने पर विद्यार्थी को स्कूल में प्रवेश नहीं दिया जाएगा। सभी सम्बन्धित का यह डाटा स्वास्थ्य विभाग के नोडल अधिकारी के साथ ही मुख्य चिकित्सा अधिकारी और उपायुक्त कार्यालय में उपलब्ध कराना होगा।

प्रवक्ता ने बताया कि पूरे स्कूल को सीनियर सेकेंडरी, सेकेंडरी, मिडल और प्राथमिक विंग में बांटा गया है। यदि किसी विंग में कोई विद्यार्थी कोविड पॉजिटिव पाया जाता है तो उक्त विंग को 10 दिन के लिए बंद कर दिया जाएगा और पूरे स्कूल को सेनेटाइज किया जाएगा। एक से अधिक विंग में विद्यार्थी कोविड पॉजिटिव पाए जाने पर पूरे स्कूल को 10 दिन के लिये बंद कर दिया जाएगा। यह निर्णय प्रदेशभर के सरकारी स्कूलों के साथ ही निजी स्कूलों पर भी समान रूप से लागू होगा।

अभिभावकों की सहमति के बाद ही बच्चे स्कूलों में आएंगे। हालांकि बच्चों पर निर्भर रहेगा कि वे स्कूल में आए या फिर ऑनलाइन की पढाई करें। इसके लिए स्कूल मुखियाओ को ऑन लाइन पढाए जाने की भी ऑप्शन रखनी होगी,पर जो बच्चा स्कूल में आना चाहेगा। उसको अपने अभिभावकों से सहमति पत्र भरवा कर लाना होगा। जो प्रोफार्मा शिक्षा विभाग ने जारी किया है। जिस बच्चे के पास सहमति पत्र नहीं होगा।उसको स्कूल में नहीं आने दिया जाएगा। इस मामले में किसी तरह की कोई ढिलाई नहीं होगी। स्कूल मुखिया ने इस व्यवस्था को लागू करने की निर्देश दिए है।

Next Story