Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

MP कांग्रेस से सिंहदेव असहमत, गैंगस्टर विकास दुबे पर दिया बेबाक बयान

उन्होंने कहा- 'ऐसे जितने भी विकास दुबे हैं उनकी गिरफ्तारी होनी चाहिए।' पढ़िए पूरी खबर-

MP कांग्रेस से सिंहदेव असहमत, गैंगस्टर विकास दुबे पर दिया बेबाक बयान
X

अंबिकापुर। कानपुर में 8 पुलिसकर्मियों की हत्या के मामले में मुख्य आरोपी विकास दुबे को महाकाल मंदिर परिसर से गिरफ्तार किया गया है। गैंगस्टर विकास दुबे की गिरफ्तारी के बाद सियासी गलियारों में एक नई बहस छिड़ गई है कि विकास दुबे की 'गिरफ्तारी या सरेंडर'। मध्यप्रदेश में सत्ता पर काबिज भाजपा इसे मध्यप्रदेश पुलिस की बड़ी कामयाबी बताते हुए अपनी पीठ थपथपा रही है। वहीं विपक्ष इस गिरफ्तारी को सरेंडर करार देते हुए पुलिस और भाजपा सरकार की कार्यशैली पर सवालिया निशान लगा रहे हैं। इसी बीच छत्तीसगढ़ के स्वास्थ्य मंत्री और कांग्रेस के कद्दावर नेता टीएस सिंहदेव का बयान सामने आया है। इस मामले में मन्त्र सिंहदेव ने कहा है कि- 'वे मध्यप्रदेश कांग्रेस के बयान से इत्तेफाक नहीं रखते हैं। सरेंडर होता तो विकास दुबे मीडिया हाउस या थाने जाता। निश्चित रूप से गिरफ्तारी हुई है और ऐसे जितने भी विकास दुबे हैं उनकी गिरफ्तारी होनी चाहिए।'

मंत्री टीएस सिंहदेव ने मीडिया से बात करते हुए कहा है कि मध्यप्रदेश कांग्रेस विकास दुबे की गिरफ्तारी पर सवाल उठा रही है, लेकिन मंत्री टीएस सिंह देव मध्यप्रदेश कांग्रेस के बयान से इत्तेफाक नहीं रखते हैं। उन्होंने विकास दुबे के सरेंडर किए जाने से इनकार किया है। उनका मानना है कि सरेंडर होता तो विकास दुबे मीडिया हाउस या थाने जाता। निश्चित रूप से गिरफ्तारी हुई है और ऐसे जितने भी विकास दुबे हैं उनकी गिरफ्तारी होनी चाहिए।



विकास दुबे की गिरफ्तारी के बाद मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने पुलिस को बधाई देते हुए ट्वीट किया। उन्होंने ट्वीट में कहा किहमारी पुलिस ने एक दुर्दांत अपराधी को गिरफ्तार किया है। इसके लिए उज्जैन पुलिस को बधाई देता हूं। आगे की कार्रवाई के लिए इसे यूपी पुलिस को सौंपा जायेगा। मैं आज सुबह से ही मा. श्री @myogiadityanath जी के संपर्क में हूं। दोनों राज्यों की पुलिस मिलकर कार्रवाई कर रही है।

वहीं दूसरी ओर मध्यप्रदेश कांग्रेस के कई नेता विकास दुबे की गिरफ्तारी को सरेंडर बता रहे हैं। पूर्व सीएम कमलनाथ ने सरकार पर निशाना साधते हुए ट्वीट किया कि- 'यूपी के कानपुर के कुख्यात गैंगस्टर , 8 पुलिसकर्मियों की हत्या के आरोपी विकास दुबे के उज्जैन में महाकाल मंदिर में ख़ुद सरेंडर करने की घटना की उच्चस्तरीय जांच होनी चाहिये। इसमें किसी बड़ी सियाशी साज़िश की बू आ रही है। इतने बड़े इनामी अपराधी के जिसको पुलिस रात- दिन खोज रही है, उसका कानपुर से सुरक्षित मध्यप्रदेश के उज्जैन तक आना और महाकाल मंदिर में प्रवेश करना और ख़ुद चिल्ला- चिल्लाकर ख़ुद को गिरफ़्तार करवाना, कई संदेह को जन्म दे रहा है, किसी संरक्षण की ओर इशारा कर रहा है, इसकी जांच होना चाहिये। हमने हमारी सरकार में माफ़ियाओ के ख़िलाफ़ सतत बड़ा अभियान चलाया , जिसके कारण माफिया प्रदेश छोड़कर चले गये और अब भाजपा सरकार आते ही माफिया वापस प्रदेश लौटने लगे है। प्रदेश माफियाओ की सुरक्षित शरणस्थली बनता जा रहा है।'

Next Story