Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

Knowledge News: एक पासवर्ड के कारण हिल सकती है आपकी दुनिया, जानिए सिक्योरिटी से लेकर हैकिंग तक सारी डिटेल्स

हम सब रोज़मर्रा की जिंदगी में पासवर्ड (Password) शब्द कम से कम सैकड़ों बार सुनते हैं। कभी सोचा है कि यह क्यों और कैसे हमारी जिंदगी का एक अहम हिस्सा बन चुका है। तो इस स्टोरी में हम आपको बताएंगे पासवर्ड से जुड़ी सभी जानकारी वो भी सारी डिटेल्स के साथ।

Knowledge News: एक पासवर्ड के कारण हिल सकती है आपकी दुनिया, जानिए सिक्योरिटी से लेकर हैकिंग तक सारी डिटेल्स
X

Knowledge: हम सब रोज़मर्रा की जिंदगी में पासवर्ड (Password) शब्द कम से कम सैकड़ों बार सुनते हैं। कभी सोचा है कि यह क्यों और कैसे हमारी जिंदगी का एक अहम हिस्सा बन चुका है। इसको कुछ इस तरीके से समझा जाए जैसे हम अपने घर से बाहर जाते हुए ताला लगाते हैं और बहुत समझदारी से चाबी को अपने पर्स में ,या कोई ऐसी जगह जहां पर आपके अलावा कोई और पहुंच न पाए रखते हैं, वही उपयोग पासवर्ड का साइबर की दुनिया (Password Importance) में है। एक पासवर्ड आपके कंप्यूटर (Computer Password) और उससे संबंधित सभी जरूरी दस्तावेजों और व्यक्तिगत जानकारियों को सुरक्षा प्रदान करता है। आपका पासवर्ड जितना मजबूत (Strong Password) होगा, आपका कंप्यूटर उतना ही सुरक्षित व हैकर्स और क्षति पहुंचाने वाला सॉफ़्टवेयर से होगा। आपको अपने कंप्यूटर पर सभी खातों के लिए मजबूत पासवर्ड कोड बनाना बहुत जरूरी है। यहां मजबूत पासवर्ड बनाने और आपकी जानकारी को सुरक्षित रखने के लिए कुछ उपयोगी सुझाव दिए गए हैं।

  • अपने प्रत्येक महत्वपूर्ण खाते (यानी ईमेल और ऑनलाइन बैंकिंग) के लिए एक कोड युक्त अंकित मजबूत (आसानी से ना समझने वाला) पासवर्ड का उपयोग करें। कई खातों में एक ही पासवर्ड का उपयोग न करें।
  • आपका पासवर्ड कम से कम 8 वर्ण लंबा होना चाहिए। पासवर्ड में लोअरकेस और अपरकेस अक्षर, संख्या और प्रतीक शामिल होने चाहिए। एक लंबा पासवर्ड एक छोटे पासवर्ड की तुलना में अधिक सुरक्षा प्रदान करेगा। यदि यह ठीक से बनाया जाता है।
  • अपने पासवर्ड का निर्माण करते समय अपना नाम, उम्र, जन्मतिथि, बच्चे का नाम, पालतू जानवर का नाम या पसंदीदा रंग/गीत जैसी व्यक्तिगत जानकारी का उपयोग न करें।
  • लगातार कीबोर्ड कॉम्बिनेशन (यानी qwerty या asdfg) से बचें।
  • चारों ओर देखो और सुनिश्चित करें कि कोई भी देख रहा है, जबकि आप अपने पासवर्ड दर्ज करें। अगर कोई है तो विनम्रता से उन्हें दूर देखने के लिए कहें।
  • यदि आप अपने डिवाइस को दिन के लिए छोड़ देते हैं तो हमेशा लॉग ऑफ/साइन आउट करें। इसे करने में बस कुछ सेकंड लगते हैं और यह सुनिश्चित करने में मदद करेगा कि कोई भी दुर्भावनापूर्ण उद्देश्यों के लिए आपके सिस्टम का उपयोग नहीं करता है।
  • उन कंप्यूटरों पर पासवर्ड दर्ज करने से बचें, जिन्हें आप नियंत्रित नहीं करते हैं। उनके पास जानबूझकर आपका पासवर्ड चुराने के लिए दुर्भावनापूर्ण सॉफ़्टवेयर स्थापित हो सकते हैं।
  • असुरक्षित वाई-फाई कनेक्शन (जैसे हवाई अड्डे या कॉफी शॉप पर) से कनेक्ट होने पर पासवर्ड दर्ज करने से बचें। हैकर्स असुरक्षित कनेक्शन पर आपके पासवर्ड और डेटा को रोक सकते हैं।
  • कभी भी अपना पासवर्ड किसी को न बताएं। नियमित रूप से अपने पासवर्ड बदलें और बार-बार एक ही पासवर्ड का उपयोग करने से बचें।
  • कभी भी अपने पासवर्ड को चिपचिपा कागज पर न लिखें और अपने वर्कस्टेशन या टेलीफोन के नीचे छिपाएं। कोई मिल जाएगा।
  • जब आपका इंटरनेट ब्राउज़र आपके पासवर्ड को याद रखने की अनुमति मांगता है तो स्वीकार ना करें। हमेशा कभी नहीं विकल्प चुनें।

आपका पासवर्ड आप के लिए सबसे महत्वपूर्ण और गुप्त डेटा है ये हमेशा बहुत समझदारी और सावधानीपूर्ण चुना जाना चाहिए, पर आमतौर पर ये देखा जाता है कि हम हमेशा पासवर्ड या तो अपनी जन्म तिथि, अपना नाम, या कुछ ऐसा जिसे आसानी से याद किया जा सके रखते हैं जो हैकर्स और उस तरीके के लोग जो आपकी जानकारियां और महत्वपूर्ण दस्तावेजों को चुराना चाहते हैं आसानी से भांप लेते हैं। सुरक्षित पासवर्ड सेट करना बहुत जरूरी है, इंटरनेट पर विभिन्न ऐप्स और वेबसाइटों तक पहुंचने के लिए आज हमें बहुत सारे पासवर्ड की आवश्यकता है। सभी पासवर्ड याद रखना वाकई मुश्किल है। याद रखने में इस कठिनाई के परिणामस्वरूप पासवर्ड का गलत चुनाव होता है।

कहां से आया पासवर्ड

वो कहते हैं न कि आवश्यकता ही आविष्कार की जननी है पासवर्ड की इजात भी कुछ ऐसे ही हुई होगी। पासवर्ड के प्रयोग को काफी प्राचीन माना गया है। किसी क्षेत्र विशेष में प्रवेश करने के इच्छुक व्यक्तियों या उसके करीब आने वालों को संतरी चुनौती देते हुए उनसे पासवर्ड या वाचवर्ड की मांग किया करते थे। संतरी सिर्फ उसी व्यक्ति या समूह को अनुमति देते थे, जिन्हें पासवर्ड मालूम होता। आधुनिक काल में, संतरी का काम हमारी वेबसाइट करने लगी हैं, वह अपने क्षेत्र में सिर्फ उन्ही लोगों को एंट्री देती हैं, जिनके पास यूजरनेम और पासवर्ड होता है। इन पासवर्ड और यूजरनेम का उपयोग संरक्षित कंप्यूटर ऑपरेटिंग सिस्टम में लॉगिन प्रक्रिया के दौरान, मोबाइल फोन, केबल टीवी डिकोडर्स (decoders), 'ऑटोमेटेड टेलर मशीन' एटीएमों (ATMs) आदि में नियंत्रित प्रवेश पाने के लिए किया जाता है।

कमजोर पासवर्ड क्या है?

व्यक्तिगत जानकारी के आधार पर पासवर्ड का उपयोग न करें जैसे: नाम, उपनाम, जन्मतिथि, पत्नी का नाम, पालतू जानवर का नाम, दोस्तों का नाम, गृह नगर, फोन नंबर, सामाजिक सुरक्षा नंबर, कार पंजीकरण संख्या, पता आदि। इसमें आपके नाम का केवल एक भाग या आपकी जन्मतिथि के भाग का उपयोग करना शामिल है। अपने आस-पास की चीजों के आधार पर पासवर्ड का इस्तेमाल न करें। कंप्यूटर, मॉनिटर, कीबोर्ड, टेलीफोन, या प्रिंटर जैसे पासवर्ड बेकार व असुरक्षित हैं। अपने उपयोगकर्ता नाम, खाता नाम, कंप्यूटर नाम या ईमेल पते के आधार पर कभी भी पासवर्ड का उपयोग न करें।

पासवर्ड कब और क्यों बदलें

पासवर्ड नियमित रूप से बदलें। जब भी आपको संदेह हो कि कोई इसे जानता है या इसका अनुमान लगा सकता है, तुरंत बदल दें, हो सकता है कि जब आप इसे टाइप करते हैं तो वे आपके पीछे खड़े हो जाते हैं। पासवर्ड का दोबारा इस्तेमाल न करें।

  • अपने पासवर्ड को एन्क्रिप्टेड रूप में छोड़कर अपने कंप्यूटर पर कभी भी स्टोर न करें।
  • अपना पासवर्ड किसी को न बताएं, यहां तक ​​कि अपने सिस्टम एडमिनिस्ट्रेटर को भी नहीं।
  • कभी भी अपना पासवर्ड ईमेल या अन्य असुरक्षित चैनल के माध्यम से न भेजें।
  • पासवर्ड लिख लें, कागज इधर-उधर न रहने दें।
  • उसी कमरे में किसी और के साथ अपना पासवर्ड दर्ज करते समय बहुत सावधान रहें।

पासवर्ड हैकिंग तकनीक:

आपका पासवर्ड जानने को हैकर्स चार मुख्य तकनीकों का उपयोग करते हैं:

  • चोरी- सुरक्षित वेबसाइट तक पहुंच प्राप्त करने के लिए उस पेपर से जहां आपने इसे लिखा था या इसे टाइप करते हुए देख रहे थे।
  • अनुमान लगाना- बहुत से लोग जानकारी के आधार पर पासवर्ड का उपयोग करते हैं जिसका आसानी से अनुमान लगाया जा सकता है।
  • ब्रूट फोर्स अटैक- पासवर्ड का अनुमान लगाने के लिए संभावित अक्षरों, संख्याओं और प्रतीकों के संयोजन का उपयोग किया जाता है। हालांकि यह एक अत्यंत श्रमसाध्य कार्य है, लेकिन आधुनिक फास्ट प्रोसेसर और सॉफ्टवेयर इसे संभव बनाते हैं।
  • डिक्शनरी अटैक- सॉफ्टवेयर टूल आसानी से उपलब्ध हैं जो किसी शब्दकोष या शब्द सूची या दोनों में से प्रत्येक शब्द को तब तक आजमा सकते हैं जब तक आपका पासवर्ड नहीं मिल जाता।
  • ध्यान रखें: डिजिटल युग में जहाँ हमारी पहचान कुछ नंबरों, पिन, पासवर्ड और इकाइयों में रह गई है वह जरूरी है कि उसकी सुरक्षा के लिए पासवर्ड, ओटीपी सावधानियों से चुनें और ध्यान रखें।
Next Story