logo
Breaking

Exclusive Interview: चरणदास महंत के साथ डॉ. हिमांशु द्विवेदी की खास बातचीत

चरणदास महंत को छत्तीसगढ़ विधानसभा का अध्यक्ष चुना गया है। महंत निर्विरोध अध्यक्ष बने हैं। वह छत्तीसगढ़ विधानसभा के 5वें अध्यक्ष हैं। इससे पहले महंत अविभाजित मध्य प्रदेश के कई मंत्रालयों का कार्यभार संभाल चुके हैं। विधानसभा अध्यक्ष बनने के बाद चरणदास महंत ने हरिभूमि के प्रधानसंपादक डॉ हिमांशु द्विवेदी के साथ खास बातचीत की। पेश हैं चरणदास महंत के साथ बातचीत के कुछ प्रमुख अंश।

Exclusive Interview: चरणदास महंत के साथ डॉ. हिमांशु द्विवेदी की खास बातचीत

डॉ. चरणदास महंत को छत्तीसगढ़ विधानसभा का अध्यक्ष चुना गया है। महंत निर्विरोध अध्यक्ष बने हैं। वह छत्तीसगढ़ विधानसभा के 5वें अध्यक्ष हैं। इससे पहले महंत अविभाजित मध्य प्रदेश के कई मंत्रालयों का कार्यभार संभाल चुके हैं। विधानसभा अध्यक्ष बनने के बाद चरणदास महंत ने हरिभूमि के प्रधानसंपादक डॉ हिमांशु द्विवेदी (Dr. Himanshu Dwivedi) के साथ खास बातचीत की। पेश है डॉ चरणदास महंत (Charandas Mahant) के साथ बातचीत के कुछ प्रमुख अंश..

  • सीएम पद को लेकर महंत ने कहा कि हाईकमान ने जो आदेश दिया उसका हमने पालन किया। इसको लेकर मैं अपने क्षेत्र की जनता के पास भी जाऊंगा और उनको समझाने का प्रयास करुंगा।
  • बहुमत को लेकर महंत ने कहा कि मैंने एक बार बैठक में कहा था कि हमें 66 सीटें प्राप्त हो रही है। उन्होंने कहा कि जनता ने हम पर भरोसा किया और परिणाम हमारे पक्ष में रहा। लोगों को एक नए नेतृत्व की उम्मीद थी और लोगों ने उस पर भरोसा भी किया।
  • अजीत जोगी को लेकर चरणदास ने कहा कि अगर जोगी पहले साथ छोड़ दिए होते तो शायद पहले के चुनावों में भी हमारा बेहतर प्रदर्शन होता।
  • चुनाव में बेहतर प्रदर्शन के बारे में बात करते हुए महंत ने कहा कि हमने जीतने वाले उम्मीदवारों को टिकट दिया, राहुल गांधी ने भी हमें कहा था कि आप लोग एडवोकेसी की जगह जज के रुप में कार्य किया। जिसके बाद हमें यह परिणाम मिला है। इसके साथ ही महंत ने कहा कि इस बहुमत के पीछे भूपेश बघेल का भी बड़ा योगदान है। उनका तेवर की वजह से हमें फायदा हुआ।
  • विधानसभा अध्यक्ष के दायित्व को लेकर महंत ने कहा कि इस पद के लिए मैंने दिल्ली में इच्छा जाहिर कर दी थी। क्योंकि मंत्री के रुप में मैं कार्य कर चुका हूं, इसलिए यह प्रस्ताव दिया। इसके साथ ही महंत ने यह भी कहा कि आगे कभी मेरी इच्छा राज्यसभा जाने की है।
  • कोरबा सीट को लेकर महंत ने कहा कि मैंने पार्टी को बता दिया है कि इस सीट के लिए बेहतर उम्मीदवार की तलाश किया जाए। मैंने पहले ही पार्टी को बता दिया था कि अगर विधानसभा चुनाव मैं लड़ूंगा तो लोकसभा चुनाव नहीं लड़ूंगा।
  • अध्यक्ष के तौर पर भूमिका को लेकर महंत ने कहा कि मैं पहले दिन से ही आश्लस्त हूं कि अध्यक्ष के तौर पर मेरी भूमिका अच्छी रहे। लोगों के लिए आदर्श बनें। इसके लिए हम उच्च स्तर की संवैधानिक मान्यता स्थापित करने की कोशिश करेंगे।
  • विपक्ष को लेकर महंत ने कहा कि मैं विपक्ष को भरोसा दिलाना चाहता हूं कि इनको भी पूरा मौका दिया जाएगा। वे बिना किसी दबाव के अपनी बात रख सकते हैं।
  • जनघोषणा पत्र के वादों को लेकर महंत ने कहा कि हम सभी वादों को पूरा करेंगे।
  • शराबबंदी को लेकर महंत ने कहा कि हम इस संबंध में अवश्य पहल करेंगे। हम इसको लेकर चर्चा कर रहे हैं।
  • मध्यप्रदेश में बीजेपी ने अध्यक्ष पद के लिए उम्मीदवार उतार दिया, लेकिन छत्तीसगढ़ में कोई विरोध में नहीं रहा, इस बात को लेकर महंत ने कहा कि यहां कि परंपरा रही हैं कि कोई विपक्ष का उम्मीदवार नहीं खड़ा हुआ। इसके साथ ही मेरी छवि की वजह से विपक्ष के लोगों को दिक्कत नहीं हुई।
Share it
Top