logo
Breaking

Career Advice: प्रोफेसर बनने के लिए नेट ही काफी नहीं, पास करना होगा ये भी एग्जाम

अधिकतर युवाओं के अपने करियर की फिल्ड चुनने में दिक्कत होती है। इस के लिए हमारे करियर एडवाइजर ज्ञान प्रकाश ने आपको किस फिल्ड में कैसे करियर बनाना है इसके लिए कुछ सुझाव दिए है।

Career Advice: प्रोफेसर बनने के लिए नेट ही काफी नहीं, पास करना होगा ये भी एग्जाम

अधिकतर युवाओं के अपने करियर की फिल्ड चुनने में दिक्कत होती है। इस के लिए हमारे करियर एडवाइजर ज्ञान प्रकाश ने आपको किस फिल्ड में कैसे करियर बनाना है इसके लिए कुछ सुझाव दिए है।

मैं एमएससी केमिस्ट्री से कर रहा हूं और प्रोफेसर बनना चाहता हूं। क्या यूजीसी के नियम में बदलाव हुआ है? क्या नेट करने के बाद भी पीएचडी करना जरूरी होगा? कृपया शंकाओं का समाधान करें। -राजू देवांगन,

जी हां, यूजीसी ने अपने नियमों में बदलाव किया है। विश्वविद्यालयों में असिस्टेंट प्रोफेसर बनने के लिए पीएचडी को अनिवार्य कर दिया गया है, जबकि कॉलेजों में इसके लिए नेट क्वालिफाई होना जरूरी कर दिया गया है।

यह भी पढ़ेंःCareer Advice: डिजास्टर मैनेजमेंट कोर्स में बनाएं अपना करियर, बेहतर होगा भविष्य

अगर आप पीएचडी नहीं हैं, तो नेट की मदद से कॉलेज में असिस्टेंट प्रोफेसर बन सकते हैं। इस दौरान अपनी पीएचडी पूरी करने का प्रयास कर सकते हैं। इसका फायदा आपको कॉलेज में तो मिलेगा ही, आप यूनिवर्सिटी के लिए भी पात्र हो जाएंगे।

एचआरडी मिनिस्ट्री ने अब इसे साल में एक ही बार आयोजित कराने की बात कही है। हालांकि इस बारे में अभी विस्तृत जानकारी आनी बाकी है। अधिक जानकारी के लिए सीएसआईआर/यूजीसी की वेबसाइट देख सकते हैं।

मैंने हिंदी से एमए करने के अलावा अनुवाद में डिप्लोमा भी किया है। क्या इस आधार पर मुझे अनुवादक की सरकारी नौकरी मिल सकती है? -विद्या शंकर

अनुवादक की सरकारी नौकरी के लिए हिंदी से एमए के अलावा ग्रेजुएशन में एक विषय के रूप में अंग्रेजी पढ़ा हुआ होने की अनिवार्यता मांगी जाती है। अगर ग्रेजुएशन में आपका एक विषय अंग्रेजी भी रहा है, तो निश्चित रूप से आप कर्मचारी चयन आयोग और अन्य संस्थानों द्वारा आयोजित की जाने वाली अनुवादक परीक्षा में शामिल हो सकते हैं।

यह भी पढ़ेंः एग्रीकल्चर कोर्स के लिए पीएटी दिन वालों को 15 तक कराना होगा रजिस्ट्रेशन

एसएससी की इस परीक्षा के बारे में अधिक जानकारी आप इस संगठन की वेबसाइट से हासिल कर सकते हैं। इसके अलावा, पावर ग्रिड, पेट्रोलियम कंपनियां (इंडियन ऑयल, भारत गैस, हिंदुस्तान पेट्रोलियम), भेल, गेल, ओएनजीसी जैसे पीएसयू भी अनुवादक के रूप में नियुक्तियां करते हैं।

इसके लिए समाचार पत्रों और इन संस्थानों की वेबसाइट्स पर नजर रखनी होगी। प्रसार भारती (आकाशवाणी, दूरदर्शन) में भी अनुवादकों की जरूरत होती है।

यह भी पढ़ेंः Career Advice: जिस फील्ड में हो इंट्रेस्ट उसी में बनाएं अपना करियर

मैं बीए करने के बाद टूरिज्म में पीजी डिप्लोमा कर रहा हूं। कृपया विस्तार से बताएं कि कोर्स करने के बाद कहां और किस तरह की जॉब मिल सकती है? -अनुभव, यमुना नगर

हमारे देश में टूरिज्म हब बनने की अपार संभावनाएं हैं। देश में सैकड़ों लोकप्रिय पर्यटन स्थलों के अलावा दर्जनों अनछुए-अनदेखे पर्यटन स्थल भी हैं। ऐसे में यहां पर्यटन और हॉस्पिटेलिटी सेक्टर तेजी से आगे बढ़ रहा है। टूरिज्म से संबंधित कोर्स करने के बाद सरकारी और निजी दोनों ही क्षेत्रों में नौकरी पाने की अच्छी संभावनाएं हैं।

केंद्र और राज्य के टूरिज्म विभागों के अलावा भारतीय रेलवे का संगठन आईआरसीटीसी, राज्यों के टूरिज्म डिपार्टमेंट, सरकारी होटल्स और रिजॉट्स के अलावा प्राइवेट सेक्टर में मेक माई ट्रिप, यात्रा, ओयो, ट्रिवागो जैसी ऑनलाइन टूर एंड ट्रैवल कंपनियों में भी आकर्षक पैकेज पर नौकरी मिल सकती है।

एक बार एंट्री मिल जाने के बाद आप अपने प्रदर्शन से तरक्की की सीढ़ियां तेजी से चढ़ सकते हैं। अगर अंग्रेजी के अलावा कोई और विदेशी भाषा सीख लेते हैं, तो अंतरराष्ट्रीय कंपनियों में भी अवसर पा सकते हैं।

Share it
Top