Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

करियर एडवाइस : कंप्यूटर हार्डवेयर इंजीनियर की हर संस्थान में होती है डिमांड

कंप्यूटर हार्डवेयर/नेटवर्किंग इंजीनियर की डिमांड लगभग हर सरकारी और निजी संस्थान में होती है। ये इंजीनियर वहां कंप्यूटरों की देखभाल, उनका हार्डवेयर ठीक रखना, उन्हें सर्वर से कनेक्ट रखना और आने वाली खराबियों को दूर करने का काम करते हैं।

करियर एडवाइस : कंप्यूटर हार्डवेयर इंजीनियर की हर संस्थान में होती है डिमांड
X

मैं कंप्यूटर हार्डवेयर इंजीनियर बनना चाहता हूं। इसके लिए मुझे क्या करना चाहिए?

-सतीश, ईमेल से

कंप्यूटर हार्डवेयर/नेटवर्किंग इंजीनियर की डिमांड लगभग हर सरकारी और निजी संस्थान में होती है। ये इंजीनियर वहां कंप्यूटरों की देखभाल, उनका हार्डवेयर ठीक रखना, उन्हें सर्वर से कनेक्ट रखना और आने वाली खराबियों को दूर करने का काम करते हैं। इसके लिए आपको सबसे पहले किसी अच्छे संस्थान से यह कोर्स करके अच्छी अपडेटेड जानकारी हासिल करनी होगी। यह कोर्स आप आईटीआई, पॉलिटेक्निक या प्राइवेट संस्थान से कर सकते हैं। इसके बाद आप किसी संस्थान में नौकरी के लिए प्रयास कर सकते हैं।

मैं निजी संस्थान से एमबीए कर रहा हूं। कहा जा रहा है कि आर्थिक मंदी की वजह से रोजगार का संकट आने वाला है। ऐसे में मैं चिंतित हूं कि मुझे क्या करना चाहिए?

-प्रताप रघुवंशी, भोपाल

यह सिर्फ आपकी ही नहीं, बल्कि पूरी दुनिया के युवाओं के लिए चिंता का विषय है। लेकिन आपको यह भी देखना चाहिए कि कुछ परिस्थितियां हमारे वश में नहीं होतीं। ऐसे में हमें निराश/हताश होने की बजाय संयत रहते हुए उम्मीद और उत्साह बनाए रखना चाहिए। एक दरवाजा बंद होता है, तो कहीं न कहीं दूसरा दरवाजा खुल रहा होता है। उम्मीद और आत्मविश्वास बनाए रखेंगे तो नए अवसरों को पहचान कर उसके अनुकूल खुद को तैयार करने का उपक्रम कर सकते हैं। बेशक कोरोना संकट के कारण पूरी दुनिया के साथ भारत में भी फिलहाल आर्थिक संकट है, लेकिन आपको यह भी देखना चाहिए कि हमारा देश कृषि/खाद्यान्न के मामले में न केवल पूरी तरह सक्षम/समर्थ है, बल्कि यह कई अन्य देशों को भी आपूर्ति कर सकने में सक्षम है। आपको बदलते वक्त की जरूरतों के अनुसार खुद को ढालने, अपडेट करने का प्रयास करते रहना चाहिए।

मैं बीएससी कर रहा हूं। अपना मेडिकल स्टोर शुरू करना चाहता हूं, इसके लिए मुझे क्या करना होगा? कृपया मार्गदर्शन करें।

-राकेश कुमार, ईमेल से

मेडिकल स्टोर शुरू करने के लिए देश के ड्रग एंड कॉस्मेटिक्स एक्ट के अनुसार निर्धारित प्रारूप में औषधि विभाग के पास आवेदन करके लाइसेंस लेना होता है। अगर आप इसके लिए फार्मेसी (डीफार्मा/बी फार्मा आदि) का कोर्स कर लेते हैं, तो यह लाइसेंस हासिल करना और आसान हो सकता है। पूरी प्रक्रिया के बारे में जानने के लिए जिले के औषधि विभाग से संपर्क कर सकते हैं। इस बारे में ऑनलाइन भी जानकारी हासिल करके आवेदन कर सकते हैं।

मैं राज्य पुलिस में कॉन्स्टेबल की नौकरी कर रहा हूं। आगे इंस्पेक्टर बनना चाहता हूं। क्या इसके लिए एग्जाम देना पड़ेगा या फिर प्रमोशन से भी ऐसा हो सकता है?

-जगबीर राठी, सोनीपत

कॉन्स्टेबल से प्रमोशन के जरिए इंस्पेक्टर बनने में लंबा वक्त लग सकता है। इसमें भी सर्विस रिकॉर्ड बेदाग/शानदार रहने के साथ-साथ असाधारण प्रदर्शन की भी जरूरत हो सकती है। इसके अलावा, विभागीय परीक्षा देकर या विभाग से अनुमति हासिल करके सीधी भर्ती में शामिल होकर भी सब-इंस्पेक्टर बनने का विकल्प होता है। प्रतिनियुक्ति पर दूसरे विभागों में जाने से भी प्रमोशन/इंक्रीमेंट में अतिरिक्त लाभ होता है।

मैं इंजीनियरिंग में डिप्लोमा करना चाहता हूं। मैं समझ नहीं पा रहा हूं कि किस ट्रेड में डिप्लोमा करना ज्यादा अच्छा रहेगा?

-रजत कुमार, अंबिकापुर

आप दुविधा में इसलिए हैं क्योंकि आपने संभवत: अपनी रुचियों/पसंद पर अच्छी तरह गौर नहीं किया है या उसे समझने का प्रयास नहीं किया है। आप एक सीधी लाइन पर बढ़ते चले गए हैं। फिर भी आप परेशान न हों। अब भी वक्त है। इस दुविधा से निकलने के लिए पहले अपनी पसंद/नापसंद पर गंभीरता से गौर करने का प्रयास करें। न समझ में आए, तो कुछ दिनों तक अपनी आदतों, पसंद, दिनचर्या, गतिविधियों, व्यवहार आदि पर गौर करें। इस बारे में घरवालों की भी राय लें। एक-दो सप्ताह में जो रुचियां निकलकर सामने आएं, उन्हें क्रम से नोट कर लें। एक सप्ताह के अंतराल पर उस क्रम को देखें। हो सकता है कि रुचियों में विचलन होने पर तब तक क्रम बदल जाए या फिर उस सूची में कोई नई रुचि शामिल हो जाए। करीब दो से तीन सप्ताह तक इस पर काम करने के बाद देखें कि आखिर पहले और दूसरे नंबर पर वे कौन-सी रुचियां हैं, जो आपके दिल के सबसे करीब लग रही हैं। इस तरह के निष्कर्ष पर पहुंचने के बाद इनसे जुड़े ब्रांच में इंजीनियरिंग डिप्लोमा या अन्य कोर्स के बारे में निर्णय लेना आसान हो जाएगा। ध्यान रखें, मन का काम करने पर न सिर्फ हमेशा खुशी मिलती है, बल्कि उसमें हमेशा उत्साह बना रहता है।

और पढ़ें
Next Story