Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

महिलाओं की सुरक्षा के लिए #FACEBOOK लाया ये दो नए फीचर, नहीं हो सकेगा फोटो का मिसयूज

महिलाओं की सुरक्षा और प्रोफाइल फोटो के मिसयूज को रोकने के लिए फेसबुक ने ये टूल लॉन्च किए हैं।

महिलाओं की सुरक्षा के लिए #FACEBOOK लाया ये दो नए फीचर, नहीं हो सकेगा फोटो का मिसयूज
X

फेसबुक पर ऐसी कई फोटो और वीडियो है जो बहुत शेयर होती है। लेकिन जिनकी वो फोटो या वीडियो होती है उन्हें ही नहीं पता चल पाता कि उनकी फोटो कब और किसने प्रोफाइल या फेसबुक वॉल डॉउनलोड कर के शेयर कर दी।

इसी तरह की हरकतों पर लगाम लगाने के लिए फेसबुक ने दो नए टूल लॉन्च किए है। जिससे आपको पता चल जाएगा की आपकी फोटो और वीडियो फेसबुक पर कहां-कहां पोस्ट या शेयर हुई है।

फेशियल रिकग्निशन टूल

फेसबुक ने इस टूल को फेशियल रिकग्निशन नाम दिया है। इस नोट‍फ‍िकेशन के बाद आप इसे खुद को टैग भी कर सकते हैं या अपलोड करने वाले जनाब को इत्तिला कर सकते हैं कि ये हटा दीजिए फेसबुक से, क्योंकि आपने इसके लिए पूछा नहीं है।

अनचाही फ्रेंड रिक्वेस्ट पर रोक लगाने वाला टूल

इसके अलावा फेसबुक ने एक और नया टूल लाया है। यह नया टूल अनचाही फ्रेंड रिक्वेस्ट और मेसेजेस तो रोकने लिए है। यह नया टूल फर्जी अकाउंट से आने वाली फ्रेंड रिक्वेस्ट को भी रोक सकेगा।
फेसबुक के ग्लोबल हेड ऑफ सेफ्टी ऐंटिगन डेविस ने बताया कि अगर किसी यूजर ने किसी को ब्लॉक कर दिया है और वह दोबारा एक नया अकाउंट बनाकर फिर से यूजर से कॉन्टैक्ट करने की कोशिश करता है तो यह फीचर इसकी पहचान कर इसे रोक देगा।
यह नया टूल यूजर्स को मेसेंजर कन्वर्सेशन को इग्नोर करने और सेंडर को ब्लॉक किए बिना उसके मेसेज को इनबॉक्स से बाहर करने का भी ऑप्शन देता है।

महिलाओं के लिए मददगार

फेसबुक ने ऐसी उम्मीद जताई है कि यह नया टूल महिलाओं और पत्रकारों के लिए काफी मददगार होगा जो सोशल मीडिया पर अक्सर अनजान लोगों के ऑनलाइन उत्पीड़न का शिकार होते हैं। ज्यादातर ऐसा उत्पीड़न फेक अकाउंट्स के जरिए किया जाता है। फेसबुक ने कहा है कि वह इस फीचर के जरिए फेक और अप्रमाणिक अकाउंट्स पर भी रोक लगाएगा।

फेक अकाउंट्स की होगी पहचान

डेविस ने बताया, 'इस फीचर से फेक अकाउंट्स की पहचान की जा सकेगी और हर रोज ऐसे लाखों बनने वाले अकाउंट्स को रजिस्ट्रेशन के समय ही ब्लॉक किया जा सकेगा।' उन्होंने बताया, 'हम अब आईपी अड्रेस जैसे अलग-अलग विभिन्न सिग्नलों का इस्तेमाल कर रहे हैं ताकि इसकी पहचान की जा सके कि यूजर द्वारा पहले से ब्लॉक किए गए व्यक्ति द्वारा दोबारा फेक अकाउंट बनाए जाने की पहचान की जा सके और वह दोबारा यूजर को फ्रेंड रिक्वेस्ट नहीं भेज सके।'

और पढ़े: Haryana News | Chhattisgarh News | MP News | Aaj Ka Rashifal | Jokes | Haryana Video News | Haryana News App

Next Story