Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

आप के स्मार्टफोन में है ये ऐप तो तुरंत कर दें डिलीट, नहीं तो खाली हो सकता है बैंक अकाउंट, जानिए पूरी वजह

इस ऐप के जरिये हैकर्स चोरी कर रहे हैं आपका डेटा। गूगल ने प्ले स्टोर से भी हटाया।

आप के स्मार्टफोन में है ये ऐप तो तुरंत कर दें डिलीट, नहीं तो खाली हो सकता है बैंक अकाउंट, जानिए पूरी वजह
X

दिनों दिन बढती सुविधा और टेक्नोलोजी के साथ साइबर क्राइम भी तेजी से बढता जा रहा है। घर बैठे हैकर्स लोगों को आर्थिक रूप से चुना लगा रहे हैं। इतना ही नहीं लोगों को इसका पता भी खाते से रुपये गायब होने पर लगात है। इसकी वजह कई बार हमारी कम जानकारी और मोबाइल फोन में इस्तेमाल होने वाले कुछ ऐप्स भी बन जाते हैं। सिक्योरिटी एक्सपर्ट भी अक्सर ऐसे ऐप्स से बचने की सलाह देते हैं। इन दिनों इसी तरह का ऐप मोबाइल फोन से डेटा लिंक कर रहा है। जिसका फायदा हैकर्स उठा रहे हैं। वहीं लोग ठगी के शिकार हो रहे हैं। यह दावा हाल ही सामने आई एक रिसर्च में किया गया है। यही वजह है कि इस ऐप को गूगल प्ले स्टोर से भी हटा दिया गया है।

दरअसल, गूगल प्ले स्टोर पर DEFENSOR ID नाम से एक ऐप मौजद था। हालांकि रिसर्च और रिपोर्ट सामने आते ही इस ऐप को गूगल ने प्ले स्टोर से तुरंत हटा दिया है, लेकिन यह ऐप अभी भी आप के फोन में हो सकता है। रिसर्चर्स ने दावा किया है कि इस ऐप के जरिए हैकर्स बैंक अकाउंट और क्रिप्टो करंसी वॉलेट में सेंध लगाते थे। इतना ही नहीं ऐंड्रॉयड सिक्यॉरिटी चेक को टेस्ट करने के लिए ऐप के मलीशस सर्फेस के असर को कम किया। जिसके बाद ऐप में एक मलीशस फंक्शन के जरिए हैकर्स इसका फायदा उठा रहे थे।

खाली हो सकता है बैंक अकाउंट, तुरंत डिलीट कर दे ऐप

DEFENSOR ID ऐप की मदद से हैकर्स यूजर्स के बैंक के लॉगइन डीटेल, एसएमएस डीटेल, टू-फैक्टर-ऑथेंटिकेशन की डीटेल्स आदी चोरी कर सकते हैं। जिसका सीधा असर आप के बैंक खाते पर पडेगा। इतना ही नहीं एक बार हैकर्स के पास आपकी जानकारी पहुंचते ही बैंक अकाउंट में मौजूद सारा पैसा भी खाली कर दिया जाएगा। इस ऐप की मदद से यूजर्स के सोशल मीडिया अकाउंट्स को भी निशाना बनाया जा सकता है। अगर आप के मोबाइल में भी यह ऐप है तो तुरंत इसे डिलीट कर दें।

गूगल प्ले स्टोर से हटाया गया ऐप

वहीं जानकारों की मानें तो गूगल ने ऐप की हकीकत पता लगते ही इसे गूगल प्ले स्टोर से हटा दिया है। ये ऐप इस साल फरवरी में रिलीज किया गया था और 6 मई को इसे लास्ट अपडेट मिला था। ऐप की लेटेस्ट वर्जन की टेस्टिंग के दौरान इस कमियों के बारे में एक्सपर्ट्स को पता चला। जिसके बाद इसे हटा दिया गया। वहीं लोगों से अपील भी की गई कि इस ऐप को डिलीट कर दें।

और पढ़ें
Next Story