Logo
election banner
Flying Cars: दुनिया के इलेक्ट्रिक व्हीकल (EV) मार्केट में अग्रणी चीन नई उड़ने वाली कारों पर तेजी से काम कर रहा है। चीन में उड़ान भरती एक कार का वीडियो जारी हुआ है।

(मंजू कुमारी)
Flying Cars:
हमारे पड़ोसी देश चीन में दुनिया का सबसे बड़ा व्हीकल मार्केट है। यह देश इलेक्ट्रिक व्हीकल सेक्टर में भी दुनिया में दबदबा कायम कर चुका है। अब चीन में फ्लाइंग कारों पर तेजी से काम चल रहा है। देश की कई कंपनियां फ्लाइंग कार के मॉडल डेवलप करने और टेक्नोलॉजी हासिल करने की दिशा में जुटी हैं। यह कारें पर्सनल मोबिलिटी सेक्टर में चीन के साथ दुनियाभर में लोगों के जीवन में क्रांतिकारी बदलाव की शुरुआत कर सकती है। चीन में उड़ान भरती एक कार का वीडियो जारी हुआ है, जो तेजी से वायरल हो रहा है। देखिए... 
  
नई फ्लाइंग कार हुई तैयार 

चीन पहले से ही ईवी (Electric Vehicle) के मामले में सबसे आगे रहा है। अब वह फ्लाइंग कारों के विकास में दबदबा बनाना चाहता है। यहां कंपनियों ने फ्लाइंग कारों के डेवलपमेंट पर काम शुरू किया है। नई कारों का विकास परिवहन क्षेत्र के साथ-साथ टूरिज्म, लग्जरी और पर्सनल यूज के लिए काफी अहम होगा। साथ ही चीन दुनिया के अन्य देशों के लिए फ्लाइंग कारों का बड़ा बाजार हो सकता है, क्योंकि इनकी मांग कई देशों में लंबे समय से हो रही है। चीन समेत अन्य देशों में फ्लाइंग कारों के स्कोप पर जानकारों का कहाना है कि फ्लाइंग कारें मोबिलिटी सेक्टर का फ्यूचर हैं। 

फ्लाइ कार की क्या हैं खासियतें? 
- रिपोर्ट्स के मुताबिक, कांगझोउ स्थित कंपनी हेबई जियानक्सिन फ्लाइंग कार टेक्नोलॉजी ने कुछ दिन पहले एक फ्लाइंग कार Air Car (एयरकार) के लिए विशेष अधिकार खरीदे हैं। इसकी AirCar ने 2020 में पहली उड़ान भरी थी। फिर इसी कार ने अगले साल 2021 में इंटरसिटी उड़ान पूरी की। 
- स्लोवाकिया की कंपनी क्लेन विजन द्वारा तैयार AirCar में कई नई तकनीक शामिल की जा रही हैं। यह एयर कार जमीन और हवा में चलने में पूरी तरह से समक्ष है। इसमें बीएमडब्ल्यू का इंजन लगाया गया है। कार को फ्लाइंग मशीन में बदलने में केवल 120 सेकंड (दो मिनट) लगते हैं। यह कार 8,200 फीट की ऊंचाई उड़ान भर सकती है। इसके लिए कार को रनवे की आवश्यकता होगी, इसके बिना टेकऑफ और लैंडिंग संभव नहीं है।

jindal steel Ad
5379487