Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

जानिए आखिर बाएं हाथ में ही क्यों पहनते हैं घड़ी?

एक समय था जब घड़ियां हाथ में नहीं पॉकेट में हुआ करती थीं

जानिए आखिर बाएं हाथ में ही क्यों पहनते हैं घड़ी?
X
नई दिल्ली. घड़ी जिसका इस्तेमाल हो रोज करते हैं और ना जाने कितनी बार दिन में घड़ी देखकर टाइम का पता लगाते हैं। वैसे घड़ी का इतिहास तो पुराना है। लेकिन कहते है कि सबसे पहले ग्रीस में पानी से समय देखा जाता था और भारत में सूर्य की छाया और तारों को देखकर समय का अनुमान लगाया जाता था। तभी से टाइम देखने के लिए घड़ी की आवश्यता महसूस हुई। वक्त बदला तो पानी से जेब और जेब से हाथ और अब लोग मोबाइल फोनों में टाइम देखा जाता है।

लेकिन हम बात कर रहे हैं कि आखिर लोग हाथ की घड़ी को बाएं हाथ में क्यों पहनते हैं। कहते हैं कि बाएं (उलटा) हाथ में घड़ी पहनने से भी पहले आपको उस दौर में चलना होगा जब घड़ियां हाथ में नहीं पॉकेट में हुआ करती थीं। आपने भी पुराने जमाने की चेन वाली घड़ियां देखी होंगी जिन्हें जेब में रखा जाता था। जेब से निकालकर समय देखा जाता था।

जानकारो का मानना है कि कुछ लोग इस चेन वाली घड़ी को हाथ में पहनने लगे और फिर इसे हाथ में घड़ी बांधने का चलन शुरू हुआ। बाएं हाथ में घड़ी बांधने की मुख्य वजह अधिकतर लोगों का दाएं हाथ से अधिकतर काम करने वाला होना है। जब आपका दायां हाथ काम में व्यस्त है, बाएं हाथ में इसी दौरान समय देखना बेहद आसान होता है और काम भी दाएं हाथ से चलता रहता है। बाएं हाथ में घड़ी बांधना इतना कॉमन है कि घड़ियां भी इसी हिसाब से बनाई जाने लगीं। दाएं हाथ से अन्य काम करने के चलते आपकी घड़ी भी सुरक्षित रहती है। इसके गंदे होने, स्क्रेच लगने और काम की जगह जैसे टेबल पर टकराने की संभावना भी कम होती है।
खबरों की अपडेट पाने के लिए लाइक करें हमारे इस फेसबुक पेज को
फेसबुक हरिभूमि, हमें फॉलोकरें ट्विटर और पिंटरेस्‍ट पर-

और पढ़े: Haryana News | Chhattisgarh News | MP News | Aaj Ka Rashifal | Jokes | Haryana Video News | Haryana News App

Next Story