Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

इन देशों में सबसे ज्यादा लूटी जाती है महिलाओं की अस्मिता

इस मामले में भारत की स्थिति दूसरे देशों से बहुत ज्यादा बेहतर नहीं है।

इन देशों में सबसे ज्यादा लूटी जाती है महिलाओं की अस्मिता
X
नई दिल्ली. दुनिया के कई लोगों को ऐसा लगता है कि जिस देश के लोग कम पढ़े-लिखे होते हैं, सिर्फ उन्हीं देशों में रेप की घटनाएं ज्यादा होती हैं। अगर आप भी ऐसा ही सोचते हैं, तो आप गलत हैं। अमेरिका से लेकर ऑस्ट्रेलिया जैसे देशों में भी महिलाएं बिल्कुल सुरक्षित नहीं रहती हैं। हम आपको बताने जा रहे हैं दुनिया के ऐसे 7 देशों के बारे में, जहां सबसे ज्यादा रेप केस देखने को मिलते हैं। ये लिस्ट हर देश द्वारा जारी आंकड़ों पर आधारित है। साउथ अफ्रीका है सबसे ऊपर...
स्वीडन
साउथ अफ्रीका के बाद इस लिस्ट में स्वीडन आता है। 4 में से 1 स्वीडिश महिला के साथ रेप होता है। 1975 में यहां रेप के 421 केस दर्ज हुए थे जबकि 2015 में ये आंकड़ा 6,620 हो गया। नेशनल काउंसिल फॉर क्राइम प्रिवेंशन द्वारा जारी रिपोर्ट्स के मुताबिक, 3 में से 1 स्वीडिश महिला टीनएज से पहले ही रेप की शिकार हो जाती है। रिपोर्ट्स में एक और बात सामने आई है कि ज्यादातर रेप केसेस में बाहर से आए मुस्लिम शरणार्थियों का हाथ होता है।
USA
जॉर्ज मेसन यूनिवर्सिटी के वर्ल्डवाइड सेक्शुअल असाल्ट स्टेटिस्टिक्स के मुताबिक, 3 में से 1 अमेरिकी महिला अपनी पूरी लाइफ में सेक्शुअली असाल्ट की जाती है। USA टुडे द्वारा जारी आंकड़ों के मुताबिक, 19.3% महिलाएं और 2% पुरुष अपनी पूरी लाइफ में एक बार रेप का शिकार होते हैं। इसके अलावा 43.9% महिलाएं और 23.4% पुरुष अपनी लाइफ में सेक्शुअल वायलेंस का सामना करते हैं। इन विक्टिम्स में 79% लोगों का रेप 25 साल और 40% का रेप 18 साल की उम्र से पहले किया जाता है। Rape Abuse Incest National Network( RAINN ) के मुताबिक, US में हर 107 सेकंड्स में कोई एक इंसान सेक्शुअली असॉल्ट किया जाता है। इसके अलावा 98% रेपिस्ट कभी जेल नहीं जा पाते। नेशनल इनमेट सर्वे की रिपोर्ट्स के हिसाब से हर साल जेल में बंद करीब 2 लाख मेल कैदी रेप का शिकार होते हैं।
इंग्लैंड और वेल्स
UK के कानून रेप केसेस में काफी अजीबोगरीब हैं। यहां रेप के दोषी केवल पुरुष हो सकते हैं। महिलाओं के लिए इसमें सजा का कोई जिक्र नहीं है। इतना ही नहीं, रेप के क्राइटेरियाज भी काफी पुराने हैं। UK के कई आर्गेनाईजेशनस के मुताबिक, हर साल यहां 73 हजार औरतें और 12 हजार पुरुष रेप का शिकार होते हैं। इस हिसाब से हर दिन करीब 230 लोगों के साथ रेप होता है। रिपोर्ट में ये भी मेंशन किया गया है कि 5 में से 1 महिला 16 साल की उम्र से पहले सेक्शुअल वायलेंस का शिकार हो जाती है।
इंडिया
इंडिया में रेप और सेक्शुअल वायलेंस काफी बड़ी समस्या है। नेशनल क्राइम रिकॉर्ड ब्यूरो के मुताबिक, 2010 के मुकाबले 2015 में रेप केसेस में 7.5 % की बढ़त हुई थी। रेप विक्टिम्स में ज्यादातर 18 से 30 साल की महिलाएं शामिल होती हैं। 3 में से 1 विक्टिम 18 से कम उम्र की जबकि 10 में 1 की उम्र 14 से कम होती है। यहां हर 20 मिनट में एक महिला बलात्कार का शिकार होती है। रिपोर्ट्स के मुताबिक इंडिया में सबसे ज्यादा रेप केसेस कैपिटल सिटी न्यू दिल्ली में होते हैं। हर दिन यहां 93 महिलाएं रेप का शिकार होती हैं। जैसा की सब जानते हैं कि यहां इज्जत और प्रतिष्ठा के कारण ज्यादातर केसेस कभी सामने आ ही नहीं पाते। वरना स्थिति काफी विकराल हो जाती।
न्यूजीलैंड
ब्रिटिश मेडिकल जर्नल द लांसेट के मुताबिक न्यूजीलैंड में सेक्शुअल असाल्ट का जो रेट है, वो पूरी दुनिया के एवरेज से काफी ज्यादा है। मिनिस्टर ऑफ जस्टिस पब्लिकेशन रिपोर्ट के मुताबिक, हर 2 घंटे में सेक्शुअल वायलेंस की एक घटना सामने आती है। जारी रिपोर्ट में ये भी सामने आया है कि 3 में 1 लड़की और 6 में 1 लड़का सेक्शुअली एब्यूज किया जाता है। यहां 91% रेप केसेस कभी सामने ही नहीं आ पाते। और केवल 13% मामलों में दोषियों को सजा मिलती है।
कनाडा
कनाडा में सेक्शुअल असाल्ट के केसेस में जितनी बढ़त देखि गई है, उतनी किसी और क्राइम में नहीं देखी गई है। हर साल यहां करीब पांच लाख केसेस सामने आते हैं। अपनी पूरी लाइफ में 1 में से 4 नार्थ अमेरिकी महिला को रेप का दंश झेलना पड़ता है। विक्टिम्स में 17% लड़कियां और 15% लड़के 16 साल से कम उम्र के होते हैं।
खबरों की अपडेट पाने के लिए लाइक करें हमारे इस फेसबुक पेज को फेसबुक हरिभूमि, हमें फॉलो करें ट्विटर और पिंटरेस्‍ट पर-

और पढ़े: Haryana News | Chhattisgarh News | MP News | Aaj Ka Rashifal | Jokes | Haryana Video News | Haryana News App

Next Story