Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

ठंड से हाथियों को बचाने के लिए बनाए जा रहे हैं ''स्वैटर''

जहां से हाथियों को बचाकर लाया गया वहां उनके साथ अक्सर मारपीट की जाती थी और खराब खाना दिया जाता था।

ठंड से हाथियों को बचाने के लिए बनाए जा रहे हैं स्वैटर
X
नई दिल्ली. मथुरा में हाथियों को कड़ाके की ठंड से बचाने के लिए उनके लिए रंग-बिरंगे विशाल कंबल बनाए जा रहे हैं। मथुरा के हाथी संरक्षण एवं देखभाल केंद्र में फिलहाल 23 हाथियों को रखा गया है। ये बेहद खराब स्थितियों में थे और हिंसा का शिकार हो रहे थे, जिन्हें बचाकर यहां लाया गया है। अब मथुरा में रहने वाली महिलाएं इन हाथियों के लिए स्वेटर बुन रही हैं, ताकि उन्हें सर्दी से बचाया जा सके।
जल्द ही यहां एक और हथिनी को लाया जाएगा, जिसका नाम लक्ष्मी है, जिसे मुंबई से बचाया गया है। उसका मालिक उसे स्ट्रीट फूड, जंक फूड, बचा हुआ बासी खाना खिलाया, जिससे वह मोटापे का शिकार हो गई। उसके लिए चलना-फिरना तो दूर, आंखें खोलना भी मुश्किल हो गया था। केंद्र के संस्थापक कार्तिक सत्यनारायण ने बताया कि हाथियों को क्रूर संचालकों से बचाया गया है, जो लंबे समय से हाथियों की उपेक्षा कर रहे थे। उनके साथ अक्सर मारपीट की जाती थी और खराब खाना दिया जाता था।
देखरेख पर 80 हजार रुपए महीने का खर्च
केंद्र के संस्थापक कार्तिक सत्यनारायण ने कहा कि हम इन हाथियों को गरिमामय जीवन और सुरक्षा देने के लिए कड़ी मेहनत कर रहे हैं। इसके साथ ही हाथियों को बेहतर इलाज और देखभाल मुहैया कराई जा रही है। एक हाथी की चिकित्सा सेवा, पोषणयुक्त आहार और देखभाल के लिए करीब 80 हजार रुपए महीने का खर्चा आता है।
केंद्र के संस्थापक कार्तिक सत्यनारायण हाथियों को बचाने की अपनी योजना में कामयाब हो जाते हैं, तो अगले साल उन्हें अतिरक्ति कंबल बुनने वालों की जरुरत होगी। फिलहाल कार्तिक के पास जो हाथी हैं, उनमें से अधिकांश की आंखें खराब हैं। दरअसल, उनके हैंडलर्स लोहे की राड और हुक से उनके सिर पर मारते हैं, जिससे उनकी आंखों में चोट लग जाती है।
खबरों की अपडेट पाने के लिए लाइक करें हमारे इस फेसबुक पेज को फेसबुक हरिभूमि, हमें फॉलो करें ट्विटर और पिंटरेस्‍ट पर-

और पढ़े: Haryana News | Chhattisgarh News | MP News | Aaj Ka Rashifal | Jokes | Haryana Video News | Haryana News App

Next Story