Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

दोस्त की पार्टी में पी ली थी शराब, लड़की को दी गई ऐसी सजा

ईरान में महिलाओं की स्थिती बद से बदतर है, यहां शरिया कानून के खिलाफ जाने का मतलब है दर्दनाक सजा।

दोस्त की पार्टी में पी ली थी शराब, लड़की को दी गई ऐसी सजा
X
तेहरान. ईरान में एक बड़ा ही दर्दनाक और अजीब सा मामला सामने आया है। यहां एक लड़की को महज शराब पीने के जुर्म में 80 कोड़ों की सजा सुनाई गई है। सजा भी ऐसी वैसी नहीं, लड़की को सार्वजनिक तौर पर कोड़ों की सजा का सामना करना पड़ा। ईरान में महिलाओं की स्थिती बद से बदतर है। यहां शरिया कानून के खिलाफ जाने का मतलब है दर्दनाक सजा। लड़की को सिर्फ अपने दोस्त की पार्टी में शराब पीने के लिए ऐसी सजा दी गई कि उसकी हालत देखकर रोंगटे खड़े हो जाएंगे।
दरअसल, पीड़ित लड़की की इस कहानी को पूर्व जर्नलिस्ट मसीह अलीनेजाद ने 'My Stealthy Freedom' नाम के फेसबुक पेज पर शेयर किया है। ईरान में कट्टरपंथ के खिलाफ मसीह लगातार कैंपेन चला रही हैं और अपने फेसबुक पेज पर इससे जुड़ी एक्टिविटी शेयर करती हैं।
दोस्त का बर्थडे सेलिब्रेट कर रही थी लड़की
मसीह के मुताबिक, इस लड़की को कुछ समय पहले ही सजा के तौर पर कोड़े मारे गए हैं। उस लड़की का जुर्म सिर्फ इतना था कि उसने अपने दोस्तों के साथ पार्टी में शराब पी थी। इस पार्टी में कई लड़के-लड़कियां शामिल हुए और सभी बर्थडे सेलिब्रेट कर रहे थे। इस पार्टी के बारे में किसी ने पुलिस को जानकारी दे दी और पुलिस ने छापा मार इन्हें अरेस्ट कर लिया। पार्टी में लड़कों ने भी शराब पी थी, लेकिन उन्हें किसी तरह की सजा का सामना नहीं करना पड़ा।
शरिया कानून के तहत मुस्लिमों के शराब पीने पर पाबंदी
ईरान में ईसाई नागरिकों के लिए शराब पीना गैरकानूनी नहीं है, लेकिन शरिया कानून के तहत मुस्लिमों के शराब पीने पर पाबंदी है। मसीह लिखती हैं कि मेडिकल टेस्ट के लिए जब लड़की को क्लिनिक ले जाया गया, तब भी उसके साथ गलत बर्ताव हुआ। यहां फीमेल स्टाफ ने लड़की के पूरे कपड़े उतार दिए थे, जिसकी कोई जरूरत भी नहीं थी। वहां भी उस पर लगातार तंज कसे गए।
शरिया कोर्ट ने 80 कोड़े मारने का हुक्म सुनाया
शरिया कोर्ट ने उस लड़की को 80 कोड़े मारने का हुक्म सुनाया। कोड़े इतनी बेरहमी से मारे गए थे कि उसका पूरा शरीर लाल पड़ गया था। लड़की के पीठ पर इतने गहरे जख्म थे कि कई दिनों तक उसका सोना भी मुश्किल हो गया था। सजा मिलने के बाद भी लड़की और उसके परिवार का घर से निकलना मुश्किल हो गया है और वो तानों का सामना कर रहे हैं।
ईरान में महिलाओं के लिए है ड्रेस कोड
ईरान में महिलाओं को हर तरह के कपड़े पहनने की आजादी नहीं है। उन्हें निर्धारित ड्रेस कोड का पालन करना होता है। इनके लिए हिजाब पहनना जरूरी है। बिना हिजाब वाली फोटोज भी उन्हें सार्वजनिक करने की मनाही है।
कौन हैं मसीह अलीनेजाद फारसी?
मसीह अलीनेजाद ईरान की पूर्व जर्नलिस्ट हैं और कट्टरपंथ के खिलाफ कैंपेन चलाती रही हैं। ईरान में वह राजनीतिक पत्रकार थीं और सरकार की आलोचना के लिए मशहूर हैं। 2005 में अधिकारियों की सैलरी बढ़ाए जाने की रिपोर्ट के बाद उन्हें नौकरी से निकाल दिया गया था। अब वह ईरान से बाहर रहती हैं और अपने ब्लॉग के जरिए महिलाओं की आजादी, अल्पसंख्यकों और उत्पीड़न का शिकार हुए लोगों के मुद्दे उठाती हैं।
खबरों की अपडेट पाने के लिए लाइक करें हमारे इस फेसबुक पेज को फेसबुक हरिभूमि, हमें फॉलो करें ट्विटर और पिंटरेस्‍ट पर-

और पढ़े: Haryana News | Chhattisgarh News | MP News | Aaj Ka Rashifal | Jokes | Haryana Video News | Haryana News App

Next Story