Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

मरे कोई भी लेकिन स्कूल में मिल जाती है सबको तीन दिन की छुट्टी

राजस्थान में एक सरकारी उच्च माध्यमिक विद्यालय शमशान घाट पर स्थित है।

मरे कोई भी लेकिन स्कूल में मिल जाती है सबको तीन दिन की छुट्टी
X
अलवर. अगर आपका बच्चा पढ़ने के लिए शमशान जाएं तो आपको कैसा लगेगा। क्या कभी आपने किसी ऐसे स्कूल की बारे में सुना है जो शमशान में बना हुआ हो। राजस्थान में एक सरकारी उच्च माध्यमिक विद्यालय शमशान घाट पर स्थित है। जहां किसी की मौत होने पर स्कूल की तीन दिन की छुट्टी हो जाती है।
अलवर जिले के गांधी सवाईराम आदर्श ग्राम में अंतिम संस्कार के लिए इस्तेमाल होने वाली जमीन पर एक स्कूल बना हुआ है। जहां प्रत्येक अंतिम संस्कार पर बच्चों को मजबूरन तीन दिन की छुट्टी दे दी जाती है। हालांकि इस स्कूल में पढ़ रहे करीब 180 छात्रों की पढ़ाई का नुकसान होता है।
गांधी सवाईराम ग्राम के आदर्श स्कूल में करीब दशकों से ऐसा होता आ रहा है। इस परेशानी से निपटने के लिए स्कूल के प्रिंसिपल लगातार शिक्षा विभाग से गुहार लगा चुके हैं। प्रधानाध्यापक ने शिक्षा-विभाग से लिखित रूप में शिकायत देकर संस्था को कहीं और शिफ्ट करवाने को कहा, ताकि बच्चों की पढाई का नुकसान न हो। इसके बावजूद भी बच्चों को मजबूरी में शमशान घाट जैसी जगह पर पढ़ना पड़ रहा है, जिसमें भी कई दिन तक छुट्टी रहती है।
बता दें कि शमशान घाट गांव के राजपूत समुदाय का है। सालों से इसे अंतिम संस्कार के बाद जबरन तीन दिन तक बंद करवा दिया जाता है।
75 साल के प्रभु दायाल मीणा का कहना है कि, "जिस वक्त मैं इस स्कूल में पढता था तब किसी की मौत होने पर जबरदस्ती स्कूल को तीन दिन तक बंद करवा दिया जाता था। तीन दिन की छुट्टी मिलने की वजह से बच्चे किसी के भी मारने पर खुश हो जाते थें। यह आश्चर्य की बात है कि आज भी इस स्कूल पर यह नियम लागू है।
स्कूल टीचर आनंदी लाल बैरबा का मानना है कि, "अगर स्कूल को कही और शिफ्ट करावा दिया जाए तो रिजल्ट और बेहतर हो सकता है। मैंने इसी स्कूल से पढाई कि है और अब यहां पढ़ा रहा हूं। यहां का रिजल्ट काफी अच्छा रहता है और बच्चों के माता पिता भी इससे खुश हैं। इस स्कूल की शुरुआत आजादी से पहले गुरुकुल के तौर पर हुई थी। 1950 के दशक में स्कूल को प्राइमरी स्कूल और 10 साल बाद हायर सेकंडरी की मान्यता दी गई थी।
खबरों की अपडेट पाने के लिए लाइक करें हमारे इस फेसबुक पेज को फेसबुक हरिभूमि, हमें फॉलो करें ट्विटर और पिंटरेस्‍ट पर-

और पढ़े: Haryana News | Chhattisgarh News | MP News | Aaj Ka Rashifal | Jokes | Haryana Video News | Haryana News App

Next Story