Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

इस गांव के लोगों ने कभी नहीं देखा ''ATM कार्ड''

गांव के ज्यादातर लोग मजदूरी-खेती से अपना पेट पालते हैं

इस गांव के लोगों ने कभी नहीं देखा ATM कार्ड
X
नई दिल्ली: नोटबंदी के चलते पूरा देश सिर्फ दो ही जगह पर दिखाई दिया एक बैंक की कतार में और दूसरा एटीएम की लाइन में। नोटबंदी के फैसले के बाद सरकार का संकल्प है कि पूरे देश को कैशलेस बनाया जाए। बाते ऐसी भी हो रही हैं कि देश उस दिशा में आगे बढ़ रहा है जहां सिर्फ प्लास्टिक मनी होगी।
लेकिन आपको जानकर हैरानी होगी कि देश में कई ऐसे लोगों भी हैं जिन्होंने कभी एटीएम का इस्तेमाल तो छोड़िए कभी एटीएम कार्ड ही नहीं देखा। लोगों को पता ही नहीं कि किसी मशीन में कार्ड डालकर पैसे निकाले जाते हैं। ऐसे ही एक ऐसा गांव है बिहार के मोतिहारी का। यहां के ज्यादातर लोगों को अभी तक एटीएम कार्ड कैसा होता है ये भी नहीं पता है।
ये केंद्रीय कृषि मंत्री राधामोहन सिंह के संसदीय क्षेत्र मोतिहारी में पड़ने वाला गांव बालगंगा है। मोतिहारी शहर से महज 5 किलोमीटर दूरी पर ये गांव है। गांव में 35 से 40 परिवार रहते हैं। ज्यादातर के पास बैंक खाते हैं लेकिन एटीएम क्या है ये नहीं पता है। जब गांव के लोगों को एटीएम कार्ड दिखाया तो वो इसे पहचान ही नहीं पाए। ज्यादातर ने कहा पहली बार देखा कुछ ने इसे रेल टिकट बताया।
बालगंगा गांव के ज्यादातर लोग मजदूरी-खेती से अपना पेट पालते हैं। बुनियादी ढांचा इतना कमजोर है कि गांव में एक भी स्कूल नहीं है। लिहाजा गांव के लोग पढ़ ही नहीं पाते। सरकार अब नोट छोड़ कार्ड के जरिए, इंटरनेट के जरिए बाजार से सामान खरीदने की बात कह रही है। जाहिर है ऐसी बातें उन लोगों को चिंता में डालती हैं जो इन मामलों की बुनियादी समझ भी नहीं रखते हैं।
साभारः एवीपी
खबरों की अपडेट पाने के लिए लाइक करें हमारे इस फेसबुक पेज को फेसबुक हरिभूमि, हमें फॉलो करें ट्विटर और पिंटरेस्‍ट पर-

और पढ़े: Haryana News | Chhattisgarh News | MP News | Aaj Ka Rashifal | Jokes | Haryana Video News | Haryana News App

Next Story