Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

लेडी डॉक्टर करेगी आपका इलाज तो लंबा जिओगेः स्टडी

इस शोध के नतीजे JAMA इंटरनल मेडिसिन में ऑनलाइन प्रकाशित किए गए हैं

लेडी डॉक्टर करेगी आपका इलाज तो लंबा जिओगेः स्टडी
X
मासेचूसिट्स. चिकित्सक क्षेत्र में हर रोज नए-नए शोध हो रहे हैं। ताजा शोध में पाया वैज्ञानिकों ने पाया है कि महिला डॉक्टर से इलाज करवाने से बीमार व्यक्ति की मरने की संभावना कम हो जाती है। हावड यूनिवर्सिटी के शोधकर्ताओं ने इस बात का खुलासा करते हुए कहा है कि अगर महिला डॉक्टर द्वारा इलाज कराने वाले बुजुर्ग मरीजों के अस्पताल में भर्ती होने के 30 दिन के भीतर मरने की संभावना कम होती है।
इतना ही नहीं, अस्पताल से छुट्टी मिलने के 30 दिन के भीतर उन्हें दोबारा अस्पताल में भर्ती करवाने की भी नौबत कम ही आती है। इस शोध के नतीजे JAMA इंटरनल मेडिसिन में ऑनलाइन प्रकाशित किए गए हैं। शोध के नतीजे बताते हैं कि महिला और पुरुष डॉक्टरों की प्रैक्टिस के तरीकों में अंतर होने की संभावना होती है और इसका रोगी की सेहत पर खासा अहम असर पड़ सकता है।
इस शोध का नेतृत्व कर रहे युसुके टी ने बताया, 'मृत्यु-दर के इस अंतर ने हमें हैरान कर दिया। सबसे बीमार मरीजों के लिए उनके डॉक्टर का पुरुष या महिला होना, बहुत अहम साबित हो सकता है।' युसुके मासेचूसिट्स स्थित हावड टी.एस चान स्कूल ऑफ पब्लिक हेल्थ में रिसर्च असोसिएट हैं।
इस रिसर्च के लिए शोधकर्ताओं की टीम ने मेडिकेयर सुविधा का इस्तेमाल करने वाले 65 साल या इससे अधिक उम्र के करीब 10 लाख मरीजों से जुड़े आंकड़ों की समीक्षा की। ये ऐसे मरीज थे, जिन्हें किसी स्वास्थ्य संबंधी परेशानी के कारण अस्पताल में भर्ती कराया गया था।
शोध के नतीजे बताते हैं कि अगर बुजुर्ग मरीजों का इलाज महिला डॉक्टर करे, तो असमय मरने की संभावना 4 फीसद तक कम हो जाती है। साथ ही, अस्पताल से छुट्टी दिए जाने के 30 दिनों के भीतर मरीज को दोबारा अस्पताल में भर्ती कराने की संभावना भी 5 फीसद तक घट जाती है। कई तरह की बीमारियों और गंभीर रोगों में भी यह संबंध देखा गया।
शोध में बताया गया है कि अगर पुरुष डॉक्टर्स को भी महिला डॉक्टर्स जितनी ही सफलता मिले, तो मौतों का आंकड़ा सालाना 32,000 तक कम किया जा सकता है। शोध में यह भी बताया गया है कि महिला डॉक्टर्स चिकित्सीय दिशानिर्देशों का ज्यादा गंभीरता से पालन करती हैं। साथ ही, वे मरीज की देखभाल व रोगों से बचाव का ज्यादा ध्यान रखती हैं।
पुरुष डॉक्टर्स के मुकाबले महिला डॉक्टर्स मरीज के साथ बेहतर तरीके से संवाद कायम करती हैं और जरूरी जांच करवाए जाने पर ध्यान देती हैं। साथ ही, वे अपने मरीजों की बेहतर काउंसलिंग भी करती हैं।

और पढ़े: Haryana News | Chhattisgarh News | MP News | Aaj Ka Rashifal | Jokes | Haryana Video News | Haryana News App

Next Story