Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

पत्नी को दिए गुजारे-भत्ते के लिए पुराने नोट, पति को हुई जेल

500-1000 के नोट देखकर इंजिनियर की पत्नी ने पैसे लेने से मना कर दिया।

पत्नी को दिए गुजारे-भत्ते के लिए पुराने नोट, पति को हुई जेल
X
कोलकता. नोटबैन के बाद देश भर में तरह तरह की घटनाएं सामने आ रही है। इस कड़ी में एक और घटना जुड़ी है। नोटबंदी के कारण 70 वर्षीय एक व्यक्ति को उसकी पत्नी ने जेल की हवा खिलवा दी।
कोलकाता में कॉलेज स्ट्रीट के रहने वाले 70 साल के एक रिटायर्ड इंजिनियर को फैमिली कोर्ट द्वारा न्यायिक हिरासत में भेज दिया गया। मामला यहां था कि वह वह कानूनी निविदा में अपनी पत्नी को गुजारा भत्ता राशि का भुगतान नहीं कर पाया था। उस पर आरोप है कि वह अपनी पत्नी को ऐलीमनी की रकम में कानूनी रूप से मान्य मुद्रा की बजाए 500-1000 के नोट दे रहा था, जिसे लेने से पत्नी ने साफ मना कर दिया। जज ने फैसला सुनाया है कि जब तक बुजुर्ग व्यक्ति अपनी पत्नी को ऐलीमनी की पूरी रकम नहीं दे देता उसकी रिहाई नहीं होगी।
4 साल से नहीं दिया था कोई पैसा-
आरोपी एक सेवानिवृत्त इंजीनियर है। बता दें कि पिछले कई वर्षों से वह अपनी पत्नी से अलग होने का केस लड़ा था। जिसके बाद फैमिली कोर्ट ने उसे पत्नी को हर महीने 8,000 रुपए गुजारा भत्ते की राशि का भुगतान करने का आदेश दिया था। पिछले चार साल से भी उसने पत्नी को कोई पैसा नही दिया था। इस तरह नवंबर तक महिला के पैसे कुल मिलकर 2.25 लाख हो गए थे। जिसके बाद से अदालत ने उसे 8 नवंबर तक के लिए सलाखों के पीछे डाल दिया था। साथ ही अदालत ने शर्त राखी कि उसे तभी रिहा किया जाएगा जब वह अपनी पत्नी को उसकी पूरी रकम दे देगा।
जेल होने के बाद जुटाई रकम-
रिटायर्ड इंजिनियर के वकील प्रताप डे ने बताया, उसके भाई ने ऐलमोनी की रकम देने के लिए किसी तरह लोन इक्ट्ठा कर 2 लाख रुपयों का इंतजाम किया। लेकिन जब तक उसके भाई ने पूरी रकम का जुगाड़ किया 500-1000 के नोट कानूनी तौर पर मान्य नहीं रहे। अब इंजिनियर के परिवार वालों के पास रकम को बदलने का कोई जरिया नहीं है। मंगलवार को उसका भाई कोर्ट में पूरी रकम लेकर मौजूद था। लेकिन इनमें से अधिकतर नोट 500-1000 के थे।
पत्नी ने किया पुराने नोट लेने से इंकार-
500-1000 के नोट देखकर इंजिनियर की पत्नी ने पैसे लेने से मना कर दिया। हालांकि इंजिनियर के वकील ने कोर्ट में इस बात को लेकर बहस भी की कि 500-1000 के नोट भले ही बंद हो गए हों लेकिन बैंक इसे स्वीकार कर रहे हैं और रकम को बैंक में जमा कराया जा सकता है। लेकिन उसने इस बात से भी इनकार कर दिया। जब परिवारवालों ने चेक या डिमांड ड्राफ्ट के जरिए पैसे देने की बात कही तो वह इसके लिए भी तैयार नहीं हुई। उसके ऐसा करने की वजह से उस बुजुर्ग व्यक्ति को जेल में रहना पड़ रहा है।
खबरों की अपडेट पाने के लिए लाइक करें हमारे इस फेसबुक पेज को
फेसबुक हरिभूमि, हमें फॉलो करें ट्विटर और पिंटरेस्‍ट पर-

और पढ़े: Haryana News | Chhattisgarh News | MP News | Aaj Ka Rashifal | Jokes | Haryana Video News | Haryana News App

Next Story