Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

941 लोगों ने दी परीक्षा, 300 लोगों को मिला ''जीरो''-ये थे सवाल

लिखित परीक्षा में 941 में से 300 लोगों को आए जीरो मार्क्स।

941 लोगों ने दी परीक्षा, 300 लोगों को मिला जीरो-ये थे सवाल
X
झारखंड. झारखंड में एक बड़ा ही अजीब सा मामला सामने आया है। झारखंड स्टेट क्रिकेट एसोशिएसन (जेएससीए) ने अपने बोर्ड के मेंबर बनने के लिए एक परिक्षा का आयोजन किया जिसमें इसने बड़े ही टेढे-मेढे सवाल पूछे जिसका क्रिकेट से कोई लेना देना नहीं था। जैसे भगवान राम की इकलौती बहन का क्या नाम था? ग्रीक एथेना और रोमन मिनर्वा के समान कौन सी भारतीय देवी है? 'अगर कोई चीज निश्चित है तो ये कि मैं खुद एक मार्क्‍सवादी नहीं हूं' ये वाक्य किसने कहा था ? अगर आप इन सवालों के जवाब नहीं जानते हैं तो शायद आप झारखंड स्टेट क्रिकेट एसोसिएशन (जेएससीए) के मेंबर बनने के लायक नहीं है।
लिखित परीक्षा में 941 में से 300 लोगों को जीरो मार्क्स आए
आपको बता दें की हाल ही में जेएससीए के मेंबरशिप के लिए लिखित परीक्षा कराई गई थी, जिसमें क्रिकेट से नॉन क्रिकेटर्स हिस्सा ले सकते थे। परीक्षा रविवार को कराई गई, जिसमें 941 उम्मीदवारों ने हिस्सा लिया था। क्रिकेट बोर्ड का मेंबर बनने के लिए 941 लोगों ने लिखित परीक्षा दी जिसमें 300 लोगों को जीरो मार्क्स आए।
'भगवान राम की बहन का नाम' समेत कुल 40 सवाल
जनसत्ता की रिपोर्ट के मुताबिक, इस परीक्षा की खास बात रही कि क्रिकेट मेंबरशिप के इस एग्जाम में 'भगवान राम की बहन का नाम' समेत कुल 40 सवाल किए गए। 45 मिनट की समयावधि वाली परीक्षा में अधिकतर लोग इन सवालों का जवाब नहीं दे पाए। इतना ही नहीं परीक्षा में 300 लोग तो खाता ही नहीं खोल पाए और उनके जीरो मार्क्स आए, वहीं करीब 200 लोग दो तिहाई सवालों का ही सही जवाब दे पाए। सबसे ज्यादा सही जवाब देने वाले परीक्षार्थी के 17 नंबर आए।
पुराणशास्र, राजनीति, इतिहास और वामपंथी दर्शनशास्र से जुड़े सवाल
हालांकि गलत जवाब देने पर कोई निगेटिव मार्किंग नहीं रखी गई थी, इसके अलावा एसोसिएशन ने पासिंग मार्क्स की सीमा भी नहीं बताई थी। उम्मीदवारों को परीक्षा से पहले बताया गया था कि प्रश्न पत्र में 20 सवाल घरेलू और अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट से होंगे, वहीं क्रिकेट से अलग अंतर्राष्ट्रीय व घरेलू खेलों, देश, राज्य और सामान्य ज्ञान से जुड़े 5-5 सवाल किए जाएंगे। लेकिन परीक्षार्थियों को अंदाजा नहीं था कि उनसे पुराणशास्र, राजनीति, इतिहास और यहां तक कि वामपंथी दर्शनशास्र से जुड़े सवाल भी किए जाएंगे, जिससे पता लगाया जा सके कि वह क्रिकेट एसोसिएशन के मेंबर बनने लायक हैं या नहीं।
नॉन क्रिकेटर्स को चुनने की एक पहल
एसोसिएशन के प्रेसिडेंट अमिताभ चौधरी ने कहा, 'किसी भी स्टेट एसोसिएशन ने इस तरह की पहल (नॉन क्रिकेटर्स को चुनना) नहीं कराई गई। लोगों के उत्साह से हम काफी खुश हैं। जल्द ही एक मैनेजिंग कमेटी मीटिंग बुलाई जाएगी और तय किया जाएगा कि किसे जेएससीए का मेंबर चुना जाए।'
दरअसल यह लिखित परीक्षा नॉन क्रिकेटर्स को जेएससीए से जोड़ने के उद्देश्य से कराई गई एक पहल थी, जिसका फैसला लोढ़ा कमेटी की हाल में आए निर्देशों के मद्देनजर लिया गया था। बता दें कि लोढ़ा कमेटी ने निर्देश दिए हैं कि बीसीसीआइ और इसकी राज्य यूनिट्स को चलाने के लिए ज्यादा पारदर्शिता लाई जाए।
खबरों की अपडेट पाने के लिए लाइक करें हमारे इस फेसबुक पेज को फेसबुक हरिभूमि, हमें फॉलो करें ट्विटर और पिंटरेस्‍ट पर-

और पढ़े: Haryana News | Chhattisgarh News | MP News | Aaj Ka Rashifal | Jokes | Haryana Video News | Haryana News App

Next Story