Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

अब हर लड़की का भाई होगा थानेदार, मनचलों बचकर रहना

कैम्पेन में लड़कियां स्थानीय पुलिस थाने के इंचार्ज के साथ सेल्फी खिंचवाती हैं।

अब हर लड़की का भाई होगा थानेदार, मनचलों बचकर रहना
X
होशंगाबाद. एक जमाना था जब गली-मोहल्लों के आवारा लड़के लड़कियों को छेड़ा करते थे। मनचले लड़कों की नजरें स्कूल-कॉलेज़ से लेकर लड़कियों के घर तक उनका पीछा करती थीं। ये आवारा लड़के हर वक्त गलियों में आवारागर्दी करते दिख ही जाया करते थे। लेकिन अब वो वक्त नहीं रह गया है। अब जीवन से जुड़ी अनेक चीजें आसान होने लगी हैं और इसके साथ ही आवारा लड़को के आशिकी के लिए भी चीजें आसान होने लगी हैं। ये लड़के अब गली-मोहल्लों में घुमना बंद कर दिया और नई तकनीक को अपना लिया है। सोशल मीडिया के आने से इन्हे तेज धूप, गलियों की धूल से दो चार नहीं होना पड़ता। अब ये फेसबुक और व्हाट्सएप पर घर बैठे-बैठे ही अपने इश्क मिज़ाजी कर्तव्यों का निर्वाहन कर लेते हैं।
पहले के समय में गलियों मे ये आवारा लड़के डरते थे तो बस लड़की के भाई से। लड़की का भाई इन सार्वजनिक आशिकों के लिए खतरा हुआ करता था। बदलाव के दौर में सबकुछ बदल गया है तो यह भला कैसे ना बदले। भाई की जिम्मेदारी भी बदल गई है और यह जिम्मा अब उठाया है हमारे पुलिसवालों ने, वो भी एक अनोखे अंदाज़ में। लड़कियों को आवारा मनचले लड़को से बचाने के लिए मध्यप्रदेश के पुलिस वालों ने एक कैम्पेन चलाया है। इस कैम्पेन का नाम है, 'TI मेरा भाई है' यहां TI का मतलब थाना इंचार्ज से है।
इस कैम्पेन में लड़कियां स्थानीय पुलिस थाने के इंचार्ज के साथ सेल्फी खिंचवाती हैं, उसके बाद सोशल मीडिया पर उस फोटो को प्रोफाइल पिक्चर के रूप में यूज़ करती हैं। इस तरह बेवजह परेशान करने वाले अधिकतर बदमाश मनचले लड़के इस तरह की डीपी वाली लड़कियों से दूर ही नज़र आते हैं। अभी यह अभियान होशंगाबाद जिले में चलाया जा रहा है। जहां इसके काफ़ी अच्छे परिणाम भी आ रहे हैं।
लड़कियां व्हाट्सएप पर TI के साथ खींची फोटो को डीपी लगाने के अलावा अपने स्टेट्स में भी 'TI मेरा भाई है' लिखती हैं। इस कैम्पेन की सफलता इसी बात से लगाई जा सकती है कि इस कैम्पेन के पहले हफ्ते में ही 500 से ज़्यादा लड़कियों ने पुलिसवालों के साथ अपनी सेल्फिज़ ले डाली है।
होशंगाबाद के एसपी, एपी सिंह का कहना है कि व्हाट्सएप पर लड़कियों को अनजान नम्बरों से परेशान करने के मामले बढ़ने के बाद हमने इस अभियान के बारे में विचार किया। कुछ मामलों में तो लड़कियों के पास अश्लील फ़ोटोज़ और टेक्सट भी भेजे गए।
एक मामले में तो हद ही हो गई जब किसी ने लड़की से कहा कि वो उसका नंबर और फ़ोटो पोर्न साइट पर डाल देगा। एसपी साहब ने साथ में ये भी कहा कि यदि कोई लड़का डीपी देखने के बाद भी अपनी हरकतों से बाज़ नहीं आता है तो फिर हम अपने परम्परागत तरीकों का इस्तेमाल करते हैं।
इस अभियान को अब राज्य के सभी 51 जिलों में चलाने के बारे में सोचा जा रहा है। जिस तरह सोशल मीडिया में गैरकानूनी हरकतों का ट्रेंड बढ़ता जा रहा है, उसी अनुपात में गवर्नमेंट मशीनरी को भी इसके लिए इसी तरह के अनोखे उपाय खोजने पड़ रहे हैं।
साभार- गजबपोस्ट
खबरों की अपडेट पाने के लिए लाइक करें हमारे इस फेसबुक पेज को फेसबुक हरिभूमि, हमें फॉलो करें ट्विटर और पिंटरेस्‍ट पर-

और पढ़े: Haryana News | Chhattisgarh News | MP News | Aaj Ka Rashifal | Jokes | Haryana Video News | Haryana News App

Next Story