Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

गूगल हो गया एडल्‍ट, आज तक ठीक नहीं की गई इसकी स्पेलिंग

दुनिया के सबसे बड़े सर्च इंजन गूगल का आज जन्मदिन है।

गूगल हो गया एडल्‍ट, आज तक ठीक नहीं की गई इसकी स्पेलिंग
X
नई दिल्ली. मंगलवार का दिन गूगल के लिए कुछ ज्‍यादा ही खास है क्‍योंकि गूगल महाराज आज बालिग हो गए हैं। दुनिया के सबसे बड़े सर्च इंजन गूगल का आज जन्मदिन है। जी, हां गूगल महाराज आज 18 साल के हो गए हैं। इस खास मौके पर गूगल ने खुद के लिए एक डूडल तैयार किया है।
भगत सिंह के जन्‍मदिन की तरह डिजिटल दुनिया में एक गूगल के जन्‍मदिन को लेकर भी काफी गफलत रही है। वर्ष 2005 तक गूगल के जन्‍मदिन की खास तारीख को लेकर बहसें हुआ करती थीं।
पहला जन्मदिन मनाया था 7 सितंबर को
गूगल ने अपना पहला जन्‍मदिन 7 सितंबर, 1998 को मनाया था। आपको बताते चलें कि इसी साल 4 सितंबर को गूगल दुनिया के सामने आया था। पर इसका जन्‍मदिन कब मनाया जाए इसको लेकर गूगल ने आखिरकार अंतिम निर्णय लिया और वर्ष 2005 में 27 सितंबर को अपने गूगल की बर्थडे के रूप में चुना इसके बाद से आज तक गूगल इसी तारीख को अपना जन्‍म दिन मानता है। इस हिसाब से आज गूगल का 18वां जन्मदिन है।

गूगल की स्थापना
गूगल की स्थापना लैरी पेज और सर्जी ब्रिन ने की थी। इस सर्च इंजन को बनाने का मकसद यह था कि दुनिया भर की हर एक छोटी-बड़ी जानकारी और सूचनाओं को एक साथ एक जगह पेश किया जा सके और पूरी दुनिया में लोग इसे जान सकें। और जब गूगल था बैकरब! अंग्रेजी में लिखा जाता है google आप जानते होंगे, लेकिन असल में यह googol की गलत स्पेलिंग है। पेज और ब्रेन ने पहले इसका नाम बैकरब रखा था।
डोमेन रजिस्ट्रेशन के वक्त लैरी ने इसका नाम गूगल कर दिया
जब 15 सितंबर 1997 को इसके डोमेन रजिस्ट्रेशन का समय आया तो लैरी ने इसका नाम गूगल कर दिया। इसके पीछे कारण यह था कि लैरी की गणित में रुचि थी। 4 सितंबर 1998 को आधिकारिक रुप से गूगल कंपनी की शुरुआत हुई। गूगल की शुरूआत में लैरी की कल्पना थी कि एक ऐसा सर्च इंजन बनाया जाए जो विभिन्न वेबसाइटों के आपसी संबंध का विश्‍लेषण कर सके। पहली बार कंपनी में आई यह डिश गूगल के ऑफिस में जब पहली बार कंपनी की तरफ से स्नैक्स का ऑर्डर किया गया था तो यह 'स्वीडिश फिश' थी। उस समय गूगल की तरफ से अपने कर्मचारियों को ड्रिंक नहीं दी गई थी। हालांकि यह गूगल की तरफ से की जाने वाली एक छोटी पार्टी जैसी थी, आज के समय में इंडस्ट्री में गूगल अपने कर्मचारियों को मुफ्त स्नेक्स और मुफ्त ड्रिंक देने के मामले में मशहूर है।
गूगल शब्द का जन्म गूगोल (googol) से हुआ
आप में ज्यादातर लोगों को पहले से जानकारी होगी कि गूगल शब्द का जन्म गूगोल (googol) से हुआ है। गूगोल गणित में इस्तेमाल की जाने वाली शब्दावली का हिस्सा है। आपको ये भी मालूम होना चाहिए कि सबसे पहले गूगोल को ही रजिस्टर कराने की तैयारी थी, पर कंपनी एक टीम मेंबर (सॉन एंडरसन) ने वर्तनी में गलती कर दी और googol.com की जगह google.com रजिस्टर हो गया।
विश्व की सबसे शक्तिशाली सर्च इंजन
आज गूगल विश्व की सबसे शक्तिशाली सर्च इंजन है, जहां आपको किसी भी चीज की जानकारी आसानी से प्राप्त हो सकती है। पहले कंपनी का मकसद था कि वो बस दूसरी वेबसाइट्स की डिटेल्स इसमें देगा, लेकिन फिर इरादा बदल गया और गूगल एक ऐसा प्लैटफॉर्म बन गया जहां दुनिया भर की जानकारी आसानी से एक ही जगह मिल सकती है। हर कोई एक क्लिक के साथ अपनी राहें आसान कर सकता है।
डूडल का इतिहास
गूगल के डूडल का इतिहास कुछ ऐसा है। जब भी किसी महान व्यक्ति का जन्मदिन या एनीवर्सरी होती है, कोई बड़ा इवेंट या कोई हॉलीडे उस खास दिन पर डूडल बनाकर गूगल उसे सम्मानित करता है। 30 अगस्त 1998 को पहली बार गूगल ने डूडल बनाया था। डेडिस्ट आर्ट फेस्टिवल को डूडल दिया था। उसके बाद साल 2009 में डूडल टीम तैयार हुई। 10 लोगों की इस टीम ने एक बार में 400 डूडल बनाए। इस टीम का हिस्सा 4 इंजीनियर, दो प्रोड्यूसर और तीन कुत्ते थे। फिर ये सिलसिला शुरू हो गया। साल 2010 के जनवरी में पहली बार एनिमेटेड डूडल बना। उसी साल 21 मई को इंटरेक्टिव डूडल बना। साल 2011 में सबसे लोकप्रिय डूडल बना।
खबरों की अपडेट पाने के लिए लाइक करें हमारे इस फेसबुक पेज को फेसबुक हरिभूमि, हमें फॉलो करें ट्विटर और पिंटरेस्‍ट पर-

और पढ़े: Haryana News | Chhattisgarh News | MP News | Aaj Ka Rashifal | Jokes | Haryana Video News | Haryana News App

Next Story