Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

इस शहर में एक दिन सांस लेना 21 सिगरेट पीने के बराबर

इस शहर का पॉल्यूशन स्पेस से भी नजर आता है।

इस शहर में एक दिन सांस लेना 21 सिगरेट पीने के बराबर
X
बीजिंग. दुनिया में हर साल सबसे ज़्यादा लोगों की मौत का कारण प्रदूषण बनता है। कैंसर और त्वचा के गंभीर रोग प्रदूषण के कारण आज एक आम बीमारी बनती जा रही है जिसका इलाज खोजना ज़रूरी हो गया है। वर्ल्ड हेल्थ ऑर्गनाइजेशन के हिसाब से हर साल दुनिया भर के करोड़ों लोग प्रदूषण के कारण अपनी जान गवांते हैं।
चीन की राजधानी बीजिंग शहर की आबादी आज तकरीबन बढ़ती ही जा रही है। आबादी के साथ साथ यहां के वायु का स्तर भी काफि प्रदूषित होता जा रहा है जो यहां के लोगों के लिए बहुत ही खतरनाक साबित होती जा रही है। प्रदूशन इस कदर हावी है कि चीन की कई तस्वीरों में आपको मास्क पहने लोग दिख जाएंगे। इसकी वजह कुछ और नहीं सिर्फ बेइंतहा पॉल्यूशन है।
आपको बता दें, चीन की राजधानी बीजिंग में अगर आप एक दिन सांस लेते हैं तो आपके हेल्थ पर उतना ही खराब असर पड़ता है जितना कि एक पैकेट सिगरेट पीने से होता है। चीन के वातावरण में 21 सिगरेट का धुआं मौजूद है जो मानव को बीमार करती जा रही है।
यहां का प्रदूषण शहर में इस कदर व्याप्त है कि 'ग्रेट वॉल ऑफ चाइना' के अलावा यहां का पॉल्यूशन स्पेस से भी नजर आता है। वायु की बात छोड़ दें तो चीन के पानी में 90 फीसदी जहरीले तत्व भी मौजूद हैं।
चीन विश्व की सबसे प्राचीन सभ्यताओं में से एक है जो अभी भी अस्तित्व में है। इसकी सभ्यता 5 हजार वर्षों से भी अधिक पुरानी है। चीन विश्व की दूसरी सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था है। पिछले दशक में, चीन के नगर वार्षिक 10 फीसदी की दर से फैले हैं। वर्ष 1978 से 2009 के मध्य चीन में नगरीकरण की दर 17.4 फीसदी से बढ़कर 46.8 फीसदी हो गई है जो मानव इतिहास में अभूतपूर्व है। लगभग 15 से 20 करोड़ प्रवासी कर्मी नगरों में अंशकालिक रूप से कार्यरत हैं जो समय-समय पर अपनी कमाई के साथ ग्रामीण क्षेत्रों में अपने घरों को लौट जाते हैं।
आज, चीनी जनवादी गणराज्य में दर्जनों ऐसे नगर हैं जिनकी स्थाई या दीर्घकालिक नागरिकों की संख्या 10 लाख से अधिक है। इन नगरों में तीन वैश्विक नगर बीजिंग, शंघाई और हांगकांग भी सम्मिलित हैं। अगर बात की जाय बीजिंग की तो बीजिंग चीनी जनवादी गणराज्य की राजधानी है। बीजिंग का अर्थ है 'उत्तरी राजधानी' जबकि नान्जिंग का अर्थ है 'दक्षिणी राजधानी'। बीजिंग 1949 में साम्यवादी क्रान्ति के बाद से निरंतर चीन की राजधानी है और उस समय तक यह विभिन्न कालों में अलग-अलग अवधियों तक चीन की राजधानी रहा है। 1828 से पूर्व बीजिंग विश्व का सबसे बड़ा नगर था।
खबरों की अपडेट पाने के लिए लाइक करें हमारे इस फेसबुक पेज को
फेसबुक हरिभूमि, हमें फॉलो करें ट्विटर और पिंटरेस्‍ट पर-

और पढ़े: Haryana News | Chhattisgarh News | MP News | Aaj Ka Rashifal | Jokes | Haryana Video News | Haryana News App

Next Story