Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

इस किले के गेट पर 7 लड़कियों की होती है पूजा

हर साल गांव की महिलाएं इन लड़कियों की पूजा करती हैं।

इस किले के गेट पर 7 लड़कियों की होती है पूजा
X
नई दिल्ली. ललितपुर के पास एक गांव ऐसा है जहां पिछले 150 सालों में कभी यह फेस्टिवल नहीं मनाया गया। ऐसा नहीं कि यहां हिंदू नहीं रहते। लगभग 150 साल पहले यहां ऐसी दर्दनाक घटना हुई थी जिसका असर आज तक है। इस किले के दरवाजे पर 7 लड़कियों की पेंटिंग बनी है। हर साल गांव की महिलाएं इन लड़कियों की पूजा करती हैं।
बता दें कि साल 1850 के आसपास मर्दन सिंह ललितपुर के बानपुर के राजा थे। वे तालबेहट भी आते-जाते रहते थे, इसलिए ललितपुर के तालबेहट में उन्होंने एक महल बनवाया था। यहां उनके पिता प्रहलाद रहा करते थे। राजा मर्दन सिंह ने 1857 की क्रांति में रानी लक्ष्मीबाई का साथ दिया था। उन्हें एक योद्धा और क्रांतिवीर के रूप में याद किया जाता है। एक ओर जहां मर्दन सिंह का नाम सम्मान से लिया जाता है, वहीं उनके पिता प्रहलाद सिंह ने बुंदेलखंड को अपनी हरकत से कलंकित किया था।
इतिहासकारों के मुताबिक वह अक्षय तृतीया का दिन था। तब इस त्योहार पर नेग मांगने की रस्म होती थी। इसी रस्म को पूरा करने के लिए तालबेहट राज्य की 7 लड़कियां राजा मर्दन सिंह के इस किले में नेग मांगने गईं थीं। तब राजा के पिता प्रहलाद किले में अकेले थे। लड़कियों की खूबसूरती देखकर उनकी नीयत खराब हो गई और उन्होंने इन सातों को हवस का शिकार बना लिया। लड़कियां राजशाही महल में बेबस थीं। घटना से आहत लड़कियों ने महल के बुर्ज से कूदकर जान दे दी थी।
यहां के स्थानीय निवासियों के मुताबिक आज भी उन 7 पीड़ित लड़कियों की आत्माओं की चीखें तालबेहट फोर्ट में सुनाई देती हैं। यह घटना अक्षय तृतीया के दिन हुई थी, इसलिए आज भी यहां यह त्योहार नहीं मनाया जाता। तालबेहट निवासी सुरेंद्र सुडेले बताते हैं कि यह किला अशुभ माना जाता है। देखरेख के अभाव में यह खंडहर में तब्दील होता जा रहा है। एसएस झा बताते हैं, कई बार लड़कियों की चीखने की आवास महसूस की जा चुकी है। इसलिए रात ही नहीं, बल्कि दिन में भी यहां लोग जाना ठीक नहीं समझते।

खबरों की अपडेट पाने के लिए लाइक करें हमारे इस फेसबुक पेज को फेसबुक हरिभूमि, हमें फॉलो करें ट्विटर और पिंटरेस्‍ट पर-

और पढ़े: Haryana News | Chhattisgarh News | MP News | Aaj Ka Rashifal | Jokes | Haryana Video News | Haryana News App

Next Story