Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

भारत के इस हिस्से में की जाती है चमगादड़ की पूजा, वजह जानकर चौंक जाएंगे आप

इस गांव में लोग करते हैं चमगादड़ की पूजा, इसकी बताते है विशेष वजह

भारत के इस हिस्से में की जाती है चमगादड़ की पूजा, वजह जानकर चौंक जाएंगे आप
X

जिस कोरोना वायरस (Coronavirus) ने इस समय पूरी दुनिया में हाहाकार मचा रखा है। इस बीमारी को फैलाने की वजह चमगादड़ (Bats) को माना जा रहा है, लेकिन क्या आप जानते है भारत में एक गांव ऐसा भी है। जहां पर चमगादड़ की पूजा की जाती है। यह सुनकर आपको हैरानी जरूरी होगी। परन्तु इस गांव के लोगों का मानना है कि चमगादड़ हर महामारी को दूर रखता है। और धन की कमी नहीं होने देता। इसलिए वह चमगादड़ की पूजा करते हैं।

बिहार में स्थित है यह गांव, लोग करते हैं चमगादड़ की पूजा

दरअसल बिहार (Bihar) के सरसई स्थित रामपुर रत्नाकर गांव है। यहां पर लोग चमगादड़ की पूजा करते हैं। यहां के लोगों का मानना है कि चमगादड़ उन्हें महामारी से बचाते हैं। इसके साथ ही वे जहां रहते है वहां धन धान्य की कोई कमी नहीं रहती। लोगों का कहना है कि यहां काफी समय से चमगादड़ ( Bats) रहते है। और उन्हें कभी भी इन चमगादडों से कोई समस्या नहीं हुई। बल्कि इसका लाभ ही मिला है।

परिवार की रक्षा करते हैं चमगादड़ , इसलिए करते हैं पूजा

रामपुर रत्नाकर गांव के ( Village ) लोगों का मानना है कि इस इलाके में भारी संख्या में चमगादड़ (Bats) रहते हैं, लेकिन उन्हें कभी इनसे कोई समस्या नहीं हुई। चमगादड़ उनके परिवार की रक्षा करते हैं। लोगों के अनुसार गांव में कोई भी शुभ कार्य करने से पहले लोग चमगादड़ों की पूजा करते हैं, ताकि सब कार्य अच्छे से सम्पन्न हो जाए। इस गांव ( Village ) में सैकड़ों की संख्या में चमगादड़ ( Bats ) एक तालाब के किनारे पीपल के पेड़ के पास ही रहते हैं। जो लोगों की बसावट से थोडा ही दूर है। ग्रामीणों के अनुसार, रात ( Night ) में कोई दूसरा व्यक्ति इस गांव में आता है तो ये चमगादड़ शोर मचाने लगते हैं।

हालांकि लोगों का कहना है कि उन्हें नहीं पता कि ये चमगादड़ कब से यहां आकर रह रहे हैं। इसके बारे में किसी को कुछ मालूम नहीं। लेकिन एक कहानी के मुताबिक मध्यकाल में एक बार वैशाली में महामारी फैली थी, तब ये चमगादड़ कहीं से उड़कर यहां आ गए और फिर हमेशा के लिए यहीं बस गए, तब से लेकर आज तक यहां कोई महामारी नहीं फैली।

Next Story