Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

खतरे में मासूमों की जिंदगी, जुड़े हुए हैं इन जुड़वा बच्चों के सिर

एक बच्चे का मस्तिष्क 70 फीसदी और दूसरे का 50 फीसदी जुड़ा हुआ है।

खतरे में मासूमों की जिंदगी, जुड़े हुए हैं इन जुड़वा बच्चों के सिर
X

आपने बहुत सी हैरतअंगेज चीजे देखी और सुनी होंगी लेकिन ओडिशा का एक मामला सामने आया है जिसे सुनकर आप हैरान रह जाएंगे। ओडिशा से दो ऐसे बच्चे इलाज के लिए दिल्ली एम्स लाए गए हैं जिनके सर जुडे हुए हैं।

इन बच्चों की उम्र 2 साल तीन महीने की है और इनकी हालत गंभीर है। ओडिशी सरकार की सिफारिश के बाद दोनों बच्चों को दिल्ली के एम्स में भर्ती किया गया है। इनका नाम जग्गा और बलिया है।

एम्स के निदेशक डॉ रणदीप गुलेरिया ने बताया कि इन बच्चों की जांच शुरू कर दी गई है और । उनके ऑपरेशन के लिए न्यूरो सर्जरी, कार्डियक सर्जरी, प्लास्टिक सर्जरी, पीडियाट्रिक न्यूरोलॉजी, न्यूरो रेडियोलॉजी, एनेस्थीसिया, मनोचिकित्सा आदि विशेषज्ञ डॉक्टरों की एक टीम की जरूरत पड़ेगी। बच्चों के फेफड़े में भी संक्रमण है।
गुलेरिया ने बताया कि एक बच्चे के गले में गांठ है, जिसमें मवाद भरी थी। जरूरी नहीं है कि उन बच्चों का ऑपरेशन किया ही जाए। ऑपरेशन का फैसला जांच रिपोर्ट पर निर्भर करेगा।
न्यूरो सर्जरी विभाग के विभागाध्यक्ष डॉ. एके महापात्रा ने कहा कि यह बहुत ही दुर्लभ बीमारी है। 75 सालों में दुनिया भर में ऐसे सिर्फ 50 मामले हुए हैं। यह जन्मजात विकार है। इससे पीड़ित 40 फीसदी बच्चों की मौत जन्म से पहले गर्भ में हो जाती है। उन्होंने कहा कि दुनिया में शायद ही कोई ऐसा डॉक्टर है जिसने अपने जीवन में इस तरह के एक से ज्यादा ऑपरेशन किया होगा।
गौरतलब है कि एक बच्चे का मस्तिष्क 70 फीसदी और दूसरे का 50 फीसदी जुड़ा हुआ है। मस्तिष्क ठीक से काम नहीं कर रहा है। संस्थान के न्यूरो सर्जन प्रोफेसर डॉ. दीपक गुप्ता ने बताया कि सिर से जुड़े बच्चों के मस्तिष्क में यदि रक्त संचार का एक ही माध्यम हो तो ऑपरेशन से एक बच्चे को ही बचाया जा सकता है।

और पढ़े: Haryana News | Chhattisgarh News | MP News | Aaj Ka Rashifal | Jokes | Haryana Video News | Haryana News App

Next Story