Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

सावधान: वैज्ञानिकों का दावा, धरती से टकरा सकती है अंतरिक्ष में छोड़ी गई ये कार

इस कार के पृथ्वी से टकराने की संभावना ज्यादा है, वहीं शुक्र से टकराने की संभावना महज ढाई फीसदी है।

सावधान: वैज्ञानिकों का दावा, धरती से टकरा सकती है अंतरिक्ष में छोड़ी गई ये कार
X

टेस्ला कंपनी के सीईओ एलन मस्क की कार जिसे हाल ही में स्पेसएक्स रॉकेट की परीक्षण उड़ान के एक हिस्से के तौर पर अंतरिक्ष में भेजा गया था वह आखिरकार धरती या शुक्र ग्रह से टकरा सकती है। वैज्ञानिकों ने ऐसा दावा किया है।

कनाडा की यूनिवर्सिटी ऑफ टोरंटो के असिस्टेंट प्रोफेसर हेन्नो रीन ने कहा, ‘यह धरती या शुक्र ग्रह से टकरा सकती है लेकिन इससे परेशान होने की कोई जरूरत नहीं है क्योंकि ऐसा होने की आशंका अगले 10 लाख सालों में भी बहुत कम है।'

इसे भी पढ़ें- स्काईडाइवर ने किया हैरतअंगेज कारनामा, साड़ी पहनकर 13 हजार फीट की ऊंचाई से लगाई छलांग

हालांकि इसकी त्वरित आशंका 2091 में लग रही है। इस कार को छह फरवरी को स्पेसएक्स के फाल्कन हेवी परीक्षण उड़ान के लिए पेलोड के तौर पर भेजा गया था। पेलोड अंतरिक्ष यान के उड़ान भरने के लिए उसके द्वारा उठाया जाने वाला जरूरी भार है।

बताया जा रहा है कि इस कार को कृत्रिम ड्राइवर के साथ मंगल ग्रह के कक्ष में पहुंचने के लिए प्रक्षेपित किया गया था। फाल्कन हेवी का तीसरा इंजन जल जाने से यह कार अपने लक्षित कक्ष से आगे निकल गई थी। वैज्ञानिकों ने संभावना जताई है कि एलन मस्क की कार सूर्य के आसपास स्थित कक्ष में स्थिर हो सकती है।

जेट प्रपल्शन लैब रख रही नजर

रॉकेट परीक्षण उड़ानों में आमतौर पर डमी पेलोड को भेजा जाता है लेकिन स्पेसएक्स के आविष्कारक ने इसकी बजाए अपनी निजी कार टेस्ला रोडस्टर को भेजा था।

इस कार में किसी तरह का वैज्ञानिक उपकरण नहीं रखा गया था और इसे अब धरती के समीप की वस्तु के तौर पर वर्गीकृत किया गया है। नासा की जेट प्रपल्शन लैबोरेटरी इस पर नजर रख रही है।

बदल गया है कार का परिपथ

मस्क की चेरी रेड कलर की टेस्ला रोडस्टर स्पोर्ट्स थी। जब इसे स्पेस में भेजा गया तो कुछ शुरुआती खबरों में कहा गया था कि मस्क की कार अंतरिक्ष में रास्ता भटक गई है।

हालांकि बाद में पता चला कि कार को धकेलने के लिए जिस ईंधन का विस्फोट किया जाना था उसका धमाका इतना तेज था कि कार अपने तय रूट से दूर चली गई।

वातावरण में आते ही जलने लगेगी कार

कार के पृथ्वी से टकराने की संभावना जहां छह फीसदी है, वहीं शुक्र से टकराने की संभावना महज ढाई फीसदी है। वैज्ञानिकों का यह भी अनुमान है कि यह कार धरती के वातावरण में प्रवेश करने से पहले ही जलकर राख हो सकती है।

कार के धरती से टकराने की पहली घटना 2091 के करीब हो सकती है। जब यह धरती के वातावरण में कुछ हजार किलोमीटर करीब से गुजर सकती है।

और पढ़े: Haryana News | Chhattisgarh News | MP News | Aaj Ka Rashifal | Jokes | Haryana Video News | Haryana News App

Next Story