Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

खुलासा: 5 साल तक ''उड़न तश्तरी'' और ''एलियन'' पर रिसर्च, इतने करोड़ का खर्च

अमेरिकी रक्षा विभाग पेंटागन ने 2007 से 2012 के बीच चलाया था गुप्त प्रोग्राम

खुलासा: 5 साल तक उड़न तश्तरी और एलियन पर रिसर्च, इतने करोड़ का खर्च
X

दुनिया भर में उड़न तश्तरी, एलियन और दूसरे ग्रहों के जीवन और जीवों की जानने की उत्सुकता इस कदर है कि इसके बारे में सालों पहले से भविष्यवाणियां हुई, फिर साइंस फैंटसीज रची गई जिसके बाद कई वैज्ञानिक शोध शुरू हुए।

इस मामले में अमेरिकी मीडिया में कई बार यूएफओ देखने की खबरें भी प्रकाशित की गई। इसी को देखते हुए अमेरिका में उड़न तश्तरी की खोजबीन के लिए सीक्रेट इन्वेस्टिगेशन प्रोग्राम चलाया था।

इसे भी पढ़ें- आइंस्टीन का ये खत लाखों डॉलर में हुआ नीलाम, जानिए इसकी खासियात

हालांकि यह फंड की कमी के कारण 5 पहले ही बंद हो गया, लेकिन यह इतना गुपचुप तरीके से चला कि सभी अधिकारियों को भी इसकी जानकारी नहीं थी। अमेरिकी रक्षा विभाग पेंटागन ने इसे 2007 से 2012 चलाया था।

न्यूयॉर्क टाइम्स ने एक रिपोर्ट में बताया कि इस बेहद सीक्रेट प्रोग्राम में यूएफओ (अनआइडेंटिफाइड फ्लाइंग ऑब्जेक्ट्स) देखे जाने की घटनाओं की जांच की जा रही थी।

इस प्रोग्राम पर बीते पांच सालों 22 मिलियन डॉलर यानि करीब 2 करोड़ 20 लाख रुपए खर्च किए गए। रिपोर्ट के मुताबिक, पूर्व सीनेटर हैरी रीड की रिक्वेस्ट पर यह फंडिंग मंजूर की गई। बता दें कि नेवादा के डेमोक्रेट स्पेस फिनामन के प्रति उत्सुकता को लेकर चर्चा में रहते हैं।

दस्तावेजों में यूएफओ का सीधा नाम नहीं लिखा

'न्यूयॉर्क टाइम्स' का कहना है कि कार्यक्रम के दस्तावेज़ों में यूएफओ का नाम नहीं है लेकिन अजीब सी तेज़ रफ़्तार वाले विमानों और मंडराती हुई चीज़ों का ज़िक्र किया गया है। मगर वैज्ञानिकों को इस बात को लेकर संदेह था कि ये रहस्यमय घटनाएं परग्रही जीवन यानी एलियन होने का सबूत हो सकती हैं।

प्रोग्राम को लेकर खेद नहीं: हैरी

'एडवांस्ड एरोस्पेस थ्रेट आइडेंटिफिकेशन' नाम के इस प्रोग्राम के पीछे हैरी रीड का विचार बताया जा रहा है। हैरी रीड रिटायर्ड डेमोक्रैटिक सीनेटर हैं जो उस समय सीनेट के बहुमत दल के नेता थे।

उन्होंने न्यूयॉर्क टाइम्स को बताया, मुझे इस बात को लेकर कोई शर्म या खेद नहीं है कि मैंने इस कार्यक्रम को चलने दिया। मैंने ऐसा किया, जो पहले किसी ने नहीं किया था।

और पढ़े: Haryana News | Chhattisgarh News | MP News | Aaj Ka Rashifal | Jokes | Haryana Video News | Haryana News App

Next Story