Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

पति का इलाज कराने के लिए 7600 में बेचा बेटा

खबर की जानकारी मिलते ही राजनीतिक नेताओं का पीड़िता से मिलनी की भीड़ उमड़ पड़ी।

पति का इलाज कराने के लिए 7600 में बेचा बेटा
X

त्रिपुरा में खोवई जिले की एक आदिवासी महिला का बीमार पति के इलाज के लिए अपने नवजात बेटे का मात्र कुछ हजार रुपए में सौदा करने का मामला प्रकाश में आया है।

इस घटना को लेकर प्रशासन में हड़कंप मच गया है क्योंकि महज आठ माह बाद होने वाले विधानसभा चुनावों को देखते हुए विपक्ष इस घटना को सत्तारूढ़ वाम दल के खिलाफ महत्वपूर्ण ‘हथियार’ के रूप में इस्तेमाल कर रहा है।
इस घटना को लेकर सत्तारूढ़ वाम दल सरकार की हो रही किरकिरी के बीच प्रशासन ने कहा है कि उसे इसके बारे में औपचारिक रूप से अवगत नहीं कराया गया है।

पति के इलाज के लिए महिला ने बेचा बच्चा

रिपोर्ट के अनुसार, दिहाड़ी मजदूर उषा रजंन देववर्मा लंबे समय से कई गंभीर बीमारियों से पीड़ित है और उसकी पत्नी दीनमाला घर का खर्च उठा रही थी। उनकी माली हालत बेहद खराब थी।
परिवार की परेशानी और बढ़ गई जब तीन बेटों की मां दीनमाला ने 17 अप्रैल को एक और बेटे को जन्म दिया। दीनमाला परिवार और पति की दवाइयों के खर्चे को लेकर गंभीर चिंता में पड़ गई।
इस बीच उसकी एक पड़ोसन ने उसे समस्या से निपटने के लिए सुझाव दिया कि वह अपने नवजात बच्चे को पैसे वाले एक दंपति को बेच दे, उनकी संतान नहीं है और वे इसे खरीद लेगें। पैसे -पैसे को मोहताज दीनमाला को यह प्रस्ताव अच्छा लगा और उसने बेटे को मात्र सात हजार छह सौ रुपए में बेच दिया।

सच्चाई का पता लगाने के लिए भाजपा नेता पहुंचे गांव

खबर मिलने के बाद भारतीय जनता पार्टी के नेता एस कुमार जमातिया दीनमाला के गांव पहुंचे और सच्चाई का पता लगाया।
उन्होंने तुरंत संभागीय जिला मजिस्ट्रेट टी जयंत देव को इस घटना से अवगत कराया और बच्चे को वापस लाने की मांग की। इसके अलावा जमातिया ने दीनमाला को आर्थिक सहायता देने और उसके पति के इलाज की भी मांग की।

अस्पताल जाने को तैयार नहीं था परिवार

इस बीच देव ने कहा कि सूचना मिलने के बाद हमारी एक टीम दीनमाला के गांव गई और उषा रंजन को इलाज के लिए अस्पताल चलने को कहा लेकिन परिवार ने ऐसा करने से इंकार कर दिया।
परिवार का तर्क था कि चूंकि दीनमाला बीमार है इसलिए अभी उषा रंजन को अस्पताल नहीं भेजा जा सकता है, क्योंकि उसके साथ अस्पताल में रहने वाला कोई नहीं है। काफी जिद करने पर वे अस्पताल के लिए राजी हो गए लेकिन उन्होंने इस बात से इंकार कर दिया कि उन्होंने अपना कोई बच्चा बेचा है।

और पढ़े: Haryana News | Chhattisgarh News | MP News | Aaj Ka Rashifal | Jokes | Haryana Video News | Haryana News App

Next Story