Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

नासा के मैप में चीन से ज्यादा चमकदार है भारत

भारतीय भूमि का 40 % हिस्सा समतल है।

नासा के मैप में चीन से ज्यादा चमकदार है भारत
X

डोकलाम को लेकर चीन-भारत के बीच तनाव चरम पर है और ऐसे में चीन छोटी सी बात को लेकर चिढ गया है। चीन यह साबित करने में जुट गया है कि नासा के एक मैप में भारत के चीन से ज्यादा चमकदार दिखने का मतलब यह नहीं है कि भारत में चीन से ज्यादा बिजली है।

नासा के अर्थ सिटी लाइट्स प्रोजेक्ट के एक मैप में विद्युतीकरण को प्रदर्शित करने के लिए बनाए गए एक मैप में भारत रात को चीन से ज्यादा चमकदार नजर आता है।

हालांकि, चीन सरकार की स्पॉन्सर ऑनलाइन पीपुल्स डेली ने कहा है कि चीन को इस मैप में ज्यादा उजला और चमकदार नजर आना चाहिए क्योंकि भारत से ज्यादा विद्युतीकरण चीन में किया गया है।

ये भी पढ़ें- इस जोड़े ने पीएम मोदी की पॉलिसी पर तोड़ी अपनी शादी

चीनी अखबार ने की तुलना

ऑनलाइन पीपल्स डेली में एक रिपोर्ट प्रकाशित हुई थी जिसका शीर्षक था, 'मैप पर चीन से ज्यादा चमकता है भारत पर असलियत में नहीं'। पीपल्स डेली ऑनलाइन ने स्टेट ग्रिड कॉरपोरेशन ऑफ चाइना की तरफ से भारत से इस मामले में आगे होने के कई कारण गिनाए हैं।

शंघाई आधारित एक मीडिया संगठन की एक रिपोर्ट में कहा गया, भारत चीन की तुलना में ज्यादा समतल है और तीन तरफ से समुद्र से घिरा हुआ है जिसकी वजह से प्रकाश ज्यादा चमकता है।

भारतीय भूमि का 40 % हिस्सा समतल है और दकन का पठार केवल 1000 मीटर में फैला हुआ है जबकि चीन में समतल भूमि केवल 12 प्रतिशत ही है। चीन का अधिकतर भूभाग पहाड़ और पठार से बना हुआ है जिसकी वजह से चीन के पश्चिमी और उत्तरी इलाके तुलना में कम चमकदार नजर आते हैं।

ये भी पढ़ें- VIDEO: घोड़ी चढ़ चुका था दूल्हा, फिर जो हुआ उसे देखते रह जाएंगे आप

दिए विद्युतिकरण के आंकड़े

अपनी बात को साबित करने के लिए उसने भारत में विद्युत आपूर्ति के पुराने आंकड़े दे डाले। भारतीय मीडिया की एक रिपोर्ट का हवाला देते हुए चीनी मीडिया ने कहा कि भारत में 30 करोड़ भारतीयों और 18000 गांवों तक बिजली नहीं पहुंची है। ये आंकड़े पुराने थे। भारत ने 2015 में 18,452 गांवों तक बिजली पहुंचाने का लक्ष्य रखा था जिसमें से 13000 गांवों तक बिजली पहुंचा दी गई है।

और पढ़े: Haryana News | Chhattisgarh News | MP News | Aaj Ka Rashifal | Jokes | Haryana Video News | Haryana News App

Next Story