Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

ऑक्सीजन का पता नहीं, एक लाख लोग मंगल पर जाने को हैं तैयार

मंगल ग्रह पर रहने के लिए भारी संख्या में लोगों ने इच्छा जाहिर की है।

ऑक्सीजन का पता नहीं, एक लाख लोग मंगल पर जाने को हैं तैयार
X
वाशिंगटन। मंगल ग्रह पर मानव जीवन की क्या संभावनाएं हैं अब कर वैज्ञानिक इसका पता नहीं लगा सके हैं लेकिन लोग यहां रहने के लिए काफी दिलचस्पी दिखा रहे हैं। मंगल में 2022 तक मानव बस्ती बसाने की योजना मार्स-1 मिशन में एक लाख से भी ज्यादा लोग दिलचस्पी दिखा चुके हैं। कुछ लोगों के मुताबिक यह अभियान जोखिम भरा है। इसमें चुने गए लोगों को हमेशा के लिए मंगल ग्रह पर बसने के लिए भेज दिया जाएगा।
मार्स-1 मिशन दरअसल एक महत्वाकांक्षी योजना है जिसे पृथ्वी पर बढ़ती जनसंख्या और बुरे हालात के मद्देनजर प्लान किया गया है। इस मिशन के सीईओ बास लैंसडोर्प ने बताया कि अब तक एक लाख से भी अधिक लोग आवेदन दे चुके हैं। हालांकि इसके लिए फीस जमा करने वालों की संख्या का खुलासा नहीं किया गया है।
लैंसडोर्प ने बताया कि मंगल पर पहले दल को भेजने पर 600 करोड़ डॉलर (36,400 करोड़ रुपए) का खर्च आएगा। कुछ अंतरिक्ष यात्री इस मिशन को सुसाइड मिशन बता रहे हैं। उनका कहना है कि अभी तक मंगल पर इंसान ने कदम नहीं रखे हैं। ऐसे में यह मिशन जोखिम भरा है।
इस मिशन के लिए 18 वर्ष से ऊपर का कोई भी व्यक्ति आवेदन कर सकता है। फीस राष्ट्रीयता के आधार पर तय होगी। अमेरिकी नागरिकों के लिए 38 डॉलर फीस है। मार्श-1 मिशन के अनुसार, इन आवेदनों में से अंतरिक्ष यात्रियों के 40 लोगों का इसी साल चुनाव किया जाएगा। इनमें से सिर्फ चार (दो पुरुष और दो महिलाएं) को सितंबर 2022 में भेजा जाएगा। वे अप्रैल 2023 में मंगल की धरती पर उतरेंगे। एक अन्य समूह को इसके दो साल बाद भेजा जाएगा। सीएनएन के मुताबिक मिशन के लिए चुने गए लोगों को जरूरी प्रशिक्षण दिया जाएगा। जैसे कि कम जगह में सब्जियां कैसे उगाएं। अपने रहने की आवास इकाई कैसे तैयार करें।

और पढ़े: Haryana News | Chhattisgarh News | MP News | Aaj Ka Rashifal | Jokes | Haryana Video News | Haryana News App

Next Story