Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

धरती पर इस जीव के खून का रंग होता है नीला, लाखों रुपये है एक लिटर खून की कीमत

डायनासोर के समय से भी धरती पर मौजूद है यह जीव। मेडिकल उपकरणों पर लगे जीवाणुओं को हटाने के आता है काम

धरती पर इस जीव के खून का रंग होता है नीला, लाखों रुपये है एक लिटर खून की कीमत
X

धरती पर पाये जाने वाले ज्यादातर जीव जंतुओं के खून का रंग इंसान के जैसा ही लाल होता है, लेकिन इनमें एक जीव की प्रजाति ऐसी भी है। जिसके खून का रंग लाल नहीं बल्कि नीला होता है। इतना ही नहीं इस जीव के खून की कीमत लाखों रुपये में है। इस जीव के खून का इस्तेमाल मेडिकल उपकरणों और दवाओं के जीवाणु रहित करने के लिए किया जाता है। दरअसल इस जीव का नाम हॉर्स शू केंकड़े (Horseshoe crab) है। जो दुनिया के सबसे पुराने जीवों में से एक हैं। इनके बारे में कहा जाता है कि ये जीव पृथ्वी पर डायनासोरों से पहले से मौजूद हैं।

50 सालों से मेडिकल कामों में किया जा रहा खून का इस्तेमाल

साल 1970 से इस जीव के खून के इस्तेमाल से मेडिकल उपकरणों और दवाओं के जीवाणु रहित होने की जांच की जाती है। इस जीव का (Blood) खून जैविक जहर के प्रति बेहद काम का माना जाता है।

इसलिए खून का रंग होता है नीला

इस जीव के खून में कॉपर ( Copper ) की मौजूदगी पाई जाती है। वहीं इंसानों के खून में लोहे के अणु पाए जाते हैं। जिसकी वजह से इंसानी खून का रंग लाल होता है और हॉर्स शू केकड़े का रंग नीला होता है। खून में एक ख़ास रसायन होता है जो कि बैक्टीरिया के आसपास जमा होकर उसे कैद कर देता है। ये खून काफ़ी कम मात्रा में भी बैक्टीरिया की पहचान करने की क्षमता रखता है। इसके साथ हॉर्स शू से निकलने वाला खून दुनिया का सबसे महंगा तरल पदार्थ है। इसके एक लीटर की कीमत 11 लाख रुपये हो सकती है। अटलांटिक स्टेट्स मरीन फिशरीज़ कमीशन के मुताबिक़ हर साल हॉर्स शू केंकड़े (Horseshoe crab ) को जैव चिकिस्कीय इस्तेमाल के लिए पकड़ा जाता है।

Next Story