Top

कश्मीर नहीं यहां है धरती का स्वर्ग, चमकते पर्वत पर बिराजते है कुबेर

टीम डिजिटल/हरिभूमि, दिल्ली | UPDATED Dec 4 2018 1:01PM IST
कश्मीर नहीं यहां है धरती का स्वर्ग, चमकते पर्वत पर बिराजते है कुबेर

हमारे पुराणों और ग्रंथों में ‘कैलास पर्वत’ को भगवान शंकर और मां पार्वती का निवास स्‍थान बताया गया है। धर्म ग्रंथों के अनुसार शिवजी अपने सभी गणों के साथ इस अलौकिक स्थान पर रहते हैं। 

शिवपुराण के अनुसार, कैलास धन के देवता और देवताओं के कोषाध्यक्ष कुबेर की तपस्थली है। उन्ही की तपस्या से प्रसन्न होकर भोले भंडारी ने कैलास पर निवास करने का वचन दिया था। 

बॉस से बिना पूछे प्रेग्नेंट होना पड़ा महंगा, जानें बच्चा और सजा में से किसे चुना

इस स्थान को ही कुबेर देवता की अलकापुरी की संज्ञा दी जाती है। कैलास पर्वत का मनोरम दृश्य यात्रियों का मन मोह लेता है। प्रभु के भक्त भगवान के दर्शनों को जाते समय ऐसे अलौकिक नजारों से गुजरते हैं कि भावविभोर हो उठते हैं। 

कैलास पर्वत के चारो तरफ पर्वतमाला है और सभी पर्वत सफेद चमचमाते बर्फ से ढके रहते हैं। इनका मनोरम दृश्य ऐसा लगता है मानों सफेद कमल खिला हुआ है, जिसकी 8 पंखुड़ियां हैं। इस पर्वत का बाहरी परिक्रमापथ करीब 62 किलोमीटर का है। 

बेवफाई की खौफनाक सजा, गर्लफ्रेंड ने ब्वॉयफ्रेंड को मारकर बना डाली बिरयानी, मिक्सी में फंसे दांत ने खोला राज

कैलास पर्वत का जिक्र केवल हिंदू धर्मग्रंथों में ही नही बल्कि बौद्ध और जैन धर्मग्रंथों में भी मिलता है। सनातन धर्म के शिव पुराण और अन्य शिव स्तुति ग्रंथों को छोड़कर रामायण और महाभारत ग्रंथों में कैलास पर्वत का जिक्र प्रमुखता के साथ मिलता है। 

मानसरोवर झील के रास्ते में ही एक और झील है, जिसे क्षीर सागर कहा जाता है। क्षीर सागर को भगवान विष्णु और माता लक्ष्मी का निवास माना जाता है। धर्म में आस्था रखनेवाले हर व्यक्ति के लिए कैलास यात्रा जीवन का बेहद महत्वर्ण हिस्सा है। हर शिव भक्त जीवन में एक बार जरूर यहां जाना चाहता है।


ADS

(हमसे जुड़े रहने के लिए आप हमें फेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं )
dhan kuber be seated in kailash parvat devotees become very devotion to see lord kuber

-Tags:#Kailash mountain#Lord Shiva#Parvati#Kubera#Wild and Weird

ADS

मुख्य खबरें

ADS

ADS

Copyright @ 2017 Haribhoomi. All Right Reserved
Designed & Developed by 4C Plus Logo