Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

जंगली जानवरों के साथ रहती हैं यह मोगली गर्ल

ये मोगली गर्ल न तो बोलती है और न ही इंसानों जैसा व्यवहार करती है।

जंगली जानवरों के साथ रहती हैं यह मोगली गर्ल
X

मोगली और टार्जन काल्पनिक चरित्र हैं जिन्हें जंगली जानवरों ने पाला, लेकिन बहराइच में ऐसी असल कहानी समाने आई है। 2 महीने पहले जंगल से पुलिस को 8 साल की बच्ची मिली। बच्ची की हरकतें जानवरों जैसी हैं।

ये मोगली गर्ल न तो बोलती है और न ही इंसानों जैसा व्यवहार करती है। जिला अस्पताल में करीब 2 महीने तक चले इलाज से भी इसके रहन-सहन में मामूली सुधार आया है।

हालांकि वह अब स्वस्थ होने लगी है, लेकिन उसे गोद लेने को कोई तैयार नहीं है। चाइल्ड लाइन ने भी बच्ची को रखने से इनकार कर दिया है।

एसआई सुरेश यादव 25 जनवरी को कतर्नियाघाट अभयारण्य की मोतीपुर रेंज में गश्त कर रहे थे। तभी उन्हें जंगल में बंदरों से घिरी 8 वर्षीय निर्वस्त्र बच्ची दिखाई दी।

सुरेश ने उसे साथ लेना चाहा तो बंदर विरोध पर उतर आए और चीखना शुरू कर दिया। बच्ची भी पुलिसकर्मियों को देख बंदरों की तरह चीखने लगी, लेकिन पुलिस वाले काफी मशक्कत के बाद उसे अपने साथ ले आए और जिला अस्पताल में भर्ती करवा दिया।

इंसानी भाषा नहीं समझती

डॉक्टरों ने बताया कि वह न तो इंसानी भाषा समझती है न बोल पाती है। उसका इलाज चल रहा है, लेकिन डॉक्टरों को देखते ही वह चिल्लाने लगती है। इससे नर्सिंग स्टाफ को दिक्कत का सामना करना पड़ रहा है।

बदलने लगा व्यवहार

डॉक्टर ने बताया कि अब उसका इंसानों से डरना कुछ कम हुआ है। कपड़े पहनने लगी है, लेकिन खुद नहीं पहन पाती। खाने की चीजें फेंकती नहीं है, लेकिन हाथ से उठाकर खाने की जगह सीधे मुंह से खाती है।

अब ये पैरों पर चलना सीख गई है, लेकिन कभी-कभी जानवरों की तरह हाथ-पैर दोनों के बल चलने लगती है। अब भी बंदरो की तरह चीखती है।

और पढ़े: Haryana News | Chhattisgarh News | MP News | Aaj Ka Rashifal | Jokes | Haryana Video News | Haryana News App

Next Story