Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

Ajab Gajab Facts: जानें आखिर क्यों ये शख्स खुद को जहरीले सांपों से कटवा रहा?, देखें ये हैरान कर देने वाला वीडियो

टिम फ्रीडे (Tim Friede) जहरीले सांपों के जहर का ह्यूमन एंटीडॉट बनाने के लिए खुद को करीब 160 बार खतरनाक जहरीले सांपों (Poisonous snakes) से कटवा चुके हैं।

कई बार मौत के मुंह में जाते जाते बचे हैं टिम फ्रीडे
X

टिम फ्रीडे जहरीले सांपों के जहर से बना रहे हैं ह्यूमन एंटीडॉट 

सांप (Snake) एक ऐसा जीव है जिससे हर किसी को डर लगता है। और लगे भी क्यों ना ये होते ही इतने विषैले (Poisonous) और खतरनाक (Dangerous) हैं। लेकिन लंदन (London) में एक शख्स है, जिसे सांपों (Snakes) से बिल्कुल भी डर नहीं लगता। इसिलिए तो वह बिना डरे अपने आप को जहरीले सांपों (Poisonous snake) से कटवाता रहता है। आप इस शख्स को पागल (Crazy) नहीं करार दे सकते। अरे! भई ये शख्स कोई पागल नहीं है, बल्कि ये एक वैज्ञानिक (scientist) है जो लोगों की जान बचाने के लिए ऐसा करता है। हैरान मत होइए,

दरअसल इनका नाम टिम फ्रीडे (Tim Friede) है जो खुद को करीब 160 बार खतरनाक जहरीले सांपों (Poisonous snakes) से कटवा चुके हैं। क्योंकि टिम इन जहरीले सांपों के जहर का ह्यूमन एंटीडॉट बनाने में लगे हैं। बारक्राफ्ट मीडिया से एक साक्षात्कार में टिम ने बताया कि, हर साल करीब एक लाख लोगों की मौत जहरीले सांपों के डसने से होती है। साथ ही उन्होंने कहा है कि, जब तक वह इसका वैक्सीन तैयार नहीं कर लेते तब तक वह इस पर रिसर्च करते रहेंगे।

वहीं एक अंग्रेजी वेबसाइट के अनुसार, टिम अपने अभियान के तहत कई बार मौत के मुंह में जाते जाते बचे हैं। यही नहीं उन्हें हाल ही में दो घातक ताइपान और ब्लैक माम्बा सांपों ने काटा है।

इसके साथ ही साल 2011 में टिम को लगातार दो बार कोबरा सांप ने काटा था। जिससे वह कोमा में चले गए थे। इन सब के बावजूद टिम बिल्कुल भी नहीं डर रहे हैं। जिसके बाद उन्होंने कहा कि, वह ऐसी स्थिति से गुजरने के बाद अब वहां पहुंचने वाले हैं, जहां सांपों के काटने की समस्या पर काबू पा लेंगे। टिम का कहना है कि, उन्होंने ये सब इसलिए शुरू किया, क्योंकि वह खुद के लिए प्रतिरक्षक तैयार करना चाहते थे। लेकिन जब टिम नने इसके नतीजों को देखा तो उन्होंने तय किया कि मानव जाति को इसका लाभ पहुंचाया जाए। साथ ही उन्होंने बताया कि, जब उनकी वैक्सीन पूरी विकसित हो जाएगी तो इस समस्या से पार पाया जा सकेगा। अब इसे टिम फ्रीडे का जुनून कहें या पागलपन, ये तो भविष्य में पता चलेगा। जब उनको इसमें सफलता मिलेगी।

Next Story