Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

डीकेएस में लोन घोटाले में नया मोड़

डीकेएस में लोन घोटाले के आरोपी पीएनबी एजीएम सुनील की सोशल मीडिया पर पोस्ट

डीकेएस में लोन घोटाले के आरोपी पीएनबी एजीएम सुनील की सोशल मीडिया पर पोस्ट

मित्रों, 2017 में मेरी शाखा अर्थात पीएनबी रायपुर मेन ब्रांच से डीकेएस पीजीआई नामक एक सरकारी अस्पताल को 64 करोड़ का एक लोन एचओ ने स्वीकृत किया था। डीकेएस पीजीआई की मालिक एक सरकारी सोसाइटी है, जिसके पदेन सदस्य छत्तीसगढ़ के स्वास्थ्य मन्त्री, स्वास्थ्य सेवा विभाग के प्रिंसिपल सेक्रेटरी, सेक्रेटरी मेडिकल एजुकेशन, डीकेएस के अधीक्षक और कलेक्टर रायपुर हैं। इसमें बैंक ने मेडिकल इक्विपमेंट्स फायनेंस किए थे, जिनकी सप्लाई एक सरकारी संस्था छत्तीसगढ़ स्टेट मेडिकल सप्लाइज कारपोरेशन को करना था।

इस लोन की गारंटी राज्य सरकार ने ली। मतलब अकाउंट में स्टेट गवर्नमेंट गारंटी उपलब्ध है। इस अकाउंट में एक ऑडिटेड बैलेंस शीट लगी है। वह 2016-17 की। एक दूसरे केस में पुलिस को इस बैलेंस शीट के ऑडिटर ने बताया है कि बैलेंस शीट ऑडिट पर उसने साइन नहीं किए हैं। इस पर पुलिस ने मुझ पर चार्ज लगाया है कि मैंने डीकेएस पीजीआई को फर्जी बैलेंस शीट पर लोन दिलवाया है। खास बात यह हैं कि डीकेएस पीजीआई की लोन रिलेटेड कमेटी में वह सीए खुद बैठता था और लोन रिलेटेड डिसिजन में कमेटी को सलाह देता था।

उल्लेखनीय है कि लोन का रीपेमेंट डीकेएस पीजीआई लगातार कर रहा है। पुलिस ने मुझे 16.05.2019 को दिल्ली में अरेस्ट किया, रायपुर लाने ट्रांजिट रिमांड लेने दिल्ली कोर्ट गई। कोर्ट ने रिमांड नहीं दी और मुझे ट्रांजिट बेल दे दी। आज मुझे रायपुर कोर्ट में पेश होना है। जहां आगे फैसला होगा। ये तो हुई एक बात। इस संकट की जितनी भी जानकारी मेरे मित्रों स्वजनो को मिली, मेरे मित्रों और स्वजनो ने मतलब आप सब लोगों ने मेरा साथ दिया, मेरा मनोबल बढ़ाए और बनाए रखा, इसके लिए आभार व्यक्त करने के लिए मेरे पास शब्द नहीं हैं।

16 तारीख से कानूनी पेपर तैयार कर केस लड़ने की तैयारी में व्यस्त रहने के कारण मैं आपके कॉल्स अटेंड नहीं कर पा रहा हूँ, इससे आपका मन दुखा होगा। किन्तु मेरी परिस्थिति को समझते हुए आप मेरी धृष्टता के लिए मुझे क्षमा कर देंगे, मुझे पूरा विश्वास है। विश्वास रखिए, मैं निर्दोष हूं और अंत में निर्दोष सिद्ध होकर आरोप मुक्त होऊंगा। तब तक ईश्वर से मेरे लिए प्रार्थना कीजिए और मेरा साथ देते रहिए। मैं आप सबका हृदय से आभारी हूं और रहूँगा।

Share it
Top