Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

उत्तराखंडः इस शिक्षक के ट्रांसफर पर छात्रों के साथ रो पड़ा पूरा गांव, देखिए दिल छूने वाली तस्वीरें

उत्तराखंड के उत्तरकाशी जिले एक शिक्षक के विदाई समारोह की तस्वीरें सामने आई हैं, इन तस्वीरों को जो भी देख रहा है शिक्षक की जमकर तारीफ कर रहा है।

उत्तराखंडः इस शिक्षक के ट्रांसफर पर छात्रों के साथ रो पड़ा पूरा गांव, देखिए दिल छूने वाली तस्वीरें

उत्तराखंड के उत्तरकाशी जिले एक शिक्षक के विदाई समारोह की तस्वीरें सामने आई हैं, इन तस्वीरों को जो भी देख रहा है शिक्षक की जमकर तारीफ कर रहा है।

दरअसल उत्तरकाशी में असी गंगा घाटी स्थित राजकीय इंटर कॉलेज भंकोली में तैनात शिक्षक आशीष डंगवाल के विदाई समारोह में छात्र-छात्राएं, शिक्षक, अभिभावक और गांववाले भावुक हो गए। छोटी सी उम्र में आशीष के लिए यह पल किसी बड़ी उपलब्धि से कम नहीं हैं।



27 वर्षीय आशीष डंगवाल रुद्रप्रयाग जिले के श्रीकोट गांव के रहने वाले हैं। उन्हें साल 2016 में राजकीय इंटर कॉलेज भंकोली में सामाजिक विज्ञान के एलटी शिक्षक के तौर पर पहली नियुक्त मिली थी।

आशीष डंगवाल ने तीन साल तक कार्य करने के बाद ही प्रवक्ता पद की परीक्षा उत्तीर्ण की है। इसकी वजह से उनका स्थानांतरण अब टिहरी जिले के राजकीय इंटर कॉलेज गरखेत किया गया है।



विदाई समारोह (21 अगस्त) के दौरान ग्रामीण स्थानीय वाद्य यंत्र ढोल-दमाऊ के साथ उन्हें विदा करने आए। आशीष का कहना है कि उन्होंने अन्य शिक्षकों की तरह ही पूरी निष्ठा के साथ अपनी जिम्मेदारियों का निर्वहन किया है।



अपने फेसबुक पोस्ट में उन्होंने लिखा कि मेरी प्यारी केलसु घाटी, आपके प्यार, आपके लगाव, आपके सम्मान आपके अपनेपन के आगे मेरे हर एक शब्द फीके हैं। सरकारी आदेश के सामने मेरी मजबूरी थी कि मुझे यहां से जाना पड़ा, मुझे इस बात का बहुत दुख है। आपके साथ बिताए तीन साल मेरे लिए अविस्मरणीय हैं।



उन्होंने आगे लिखा कि भंकोली, नौगांव, अगोडा, दंदालका, शेकु, गजोली, ढासड़ा के समस्त माताओं, बहनों, बुजुर्गों, युवाओं ने जो स्नेह बीते वर्षों में मुझे दिया मैं जन्मजन्मांतर के लिए आपका ऋणी हो गया हूं। मेरे पास आपको देने के लिए कुछ नहीं है लेकिन एक वायदा है आपसे कि केलसु घाटी हमेशा के लिए अब मेरा दूसरा घर रहेगा, आपका ये बेटा लौटकर आएगा।




एक दूसरे फेसबुक पोस्ट में उन्होंने लिखा कि मैं एक सामान्य परिवार से आता हूं और बस अपनी नौकरी कर रहा हूँ, उत्तराखंड में सैकड़ों शिक्षक हैं जो मुझसे भी कई गुना बेहतर कार्य कर रहे हैं उनसे बहुत कुछ सीखने की मेरी इच्छा है। मैं इस फेसबुक पोस्ट के माध्यम से अपने सभी प्यारे बच्चों, छोटे-बड़े, भाई-बहनों, प्रशंसकों, स्नेहिलजनों,आदरणीयों का तह दिल से आभार व्यक्त करना चाहता हूं कि उन्होंने मुझ अकिंचन को इतना प्रेम औऱ सम्मान के योग्य समझा किंतु निवेदन है कि मुझे सिर्फ एक आम शिक्षक के रूप में ही देखें।




जिस तरह से आप सभी लोगों ने मेरी एक आदर्श शिक्षक की छवि गढ़ दी है। अब मेरे ऊपर बहुत जिम्मेदारी आ गई है। मैं अपनी ओर से पूरा प्रयास करूंगा कि मैं आपकी आकांक्षाओं, आपकी उम्मीदों पर खरा उतर सकूं।

Next Story
Share it
Top