Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

उत्तराखंड में अजब संयोग, अर्द्धकुंभ कांग्रेस के हिस्से तो महाकुंभ भाजपा के हिस्से

प्रदेश का दूसरा महाकुंभ आयोजित करने का सौभाग्य फिर से भाजपा के पाले में है। 2021 में प्रस्तावित हरिद्वार महाकुंभ को लेकर भाजपा सरकार बेहद उत्साहित है और बेहतरीन आयोजन के लिए अभी से तैयारियों की रूप रेखा तैयार होनी शुरू हो गई हैं।

उत्तराखंड में अजब संयोग, अर्द्धकुंभ कांग्रेस के हिस्से तो महाकुंभ भाजपा के हिस्से

प्रदेश का दूसरा महाकुंभ आयोजित करने का सौभाग्य फिर से भाजपा के पाले में है। 2021 में प्रस्तावित हरिद्वार महाकुंभ को लेकर भाजपा सरकार बेहद उत्साहित है और बेहतरीन आयोजन के लिए अभी से तैयारियों की रूप रेखा तैयार होनी शुरू हो गई हैं।

उत्तर प्रदेश के उत्तराखंड सन 2000 में बना और 2004 में अर्द्धकुंभ का आयोजन हुआ तब प्रदेश में कांग्रेस के एनडी तिवारी सत्ता में थे। 2010 में जब महाकुंभ आयोजित हुआ तो प्रदेश में सत्ता पलट चुकी थी और डॉ. रमेश पोखरियाल निशंक सीएम थे। इस कुंभ में भाजपा ने 8 करोड़ लोगों को आने का दावा किया था।

2010 कुंभ के बाद 2016 में अर्द्धकुंभ आयोजित हुआ एकबार फिर से सत्ता परिवर्तन हो चुका था और कांग्रेस की हरीश रावत सरकार ने इस आयोजन की जिम्मेदारी ली और बेहतर ढंग से आयोजित करवाया। बड़ी संख्या में लोग हरिद्वार आए थे।

2016 के अर्द्धकुंभ के हिसाब से देखा जाए तो 2022 में कुंभ का आयोजन होना चाहिए पर इसबार एक वर्ष पहले की कुंभ प्रस्तावित है। हिन्दुत्व का झंडा बुलंद करके चलने वाली भाजपा कुंभ मेले को खूब तवज्जो देती है।

इसी साल प्रयागराज में आयोजित कुंभ की खूबसूरती दुनिया ने देखा। राज्य की पूरी जनसंख्या से ज्यादा श्रद्धालु कुंभ मेले के दौरान आए। पीएम, राष्ट्रपति समेत देश के लगभग सभी गणमान्य वहां पहुंचे थे। उत्तराखंड की त्रिवेंद्र सरकार भी योगी सरकार की राह पर चलते हुए भव्य आयोजन करवाना चाहेगी।

Next Story
Top